Sunday, June 13, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsShamli50 दिन बाद खुली ओपीडी, उपचार को पहुंचे 250 मरीज

50 दिन बाद खुली ओपीडी, उपचार को पहुंचे 250 मरीज

- Advertisement -
0
  • कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत 15 अप्रैल से बंद थी जिले में ओपीडी

जनवाणी ब्यूरो |

शामली: जनपद में करीब 50 दिन बाद शासन के निर्देश पर अस्पतालों में ओपीडी शुरू कर दी गई। शामली सीएचसी में 250 मरीज उपचार के लिए पहुंचे। ओपीडी खुलते ही अस्पताल में लाइन लगनी शुरू हो गई थी। कोरोना के दृष्टिगत जनपद के पांच सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर आॅक्सीजन कंस्टेÑक्टर की सुविधा मुहैया कराई गइ है।

कोरोना संक्रमण फैलने के बाद 15 अप्रैल से जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रो व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ओपीडी बंद कर दी गई थी। 50 दिन बाद अस्पतालों में ओपीडी शुरू होने पर मरीजों ने राहत की सांस ली। प्रात: 8:00 बजे से ही सीएचसी में पर्ची बनवाने के लिए मरीजों की लाइन लगनी शुरू हो गई थी।

अस्पताल कर्मचारियों ने सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराते हुए लाइन लगवाई। चिकित्साधीक्षक डा. रमेश चंद्रा ने बताया कि शुक्रवार को सीएचसी में जनरल फिजिशियन, नेत्र रोग विशेष समेत चिकत्सकों ने अपनी ओपीडी में मरीजों की जांच कर उपचार किया।

उन्होंने बताया कि शुक्रवार को प्रात: 8:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक सीएचसी में 250 मरीज ओपीडी में उपचार के लिए पहुंचे थे। दूसरी ओर, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. संजय अग्रवाल ने बताया कि कोरोना के दृष्टिगत पांच सीएचसी पर आक्सीजन कंस्टेÑक्टर की व्यवस्था की गई है। बच्चों के लिए सभी सीएचसी पर बच्चा वार्ड और जिला अस्पताल में पीआईसीयू बनाया जा रहा है।

कैराना: अस्पताल में ओपीडी शुरू , मरीजों की लगी लाइन

शुक्रवार से कैराना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व चारों प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर जनरल ओपीडी सुबह 10 बजे चालू कर दी गई। वहीं पर ओपीडी शुरू होते ही मरीजों की लाइनें लग गई। चिकित्सा अधीक्षक डा. भानु प्रकाश ने बताया कि ओपीडी खुलने के बाद इमरजेंसी सेवाएं 24 घंटे निरंतर जारी रखी जाएगी। इस दौरान अगर कोई कोरोना संक्रमित या अन्य बीमारी से ग्रस्त मरीज आता है तो इसके लिए उनके पास 3 आॅक्सीजन सिलेंडर व 5 आॅक्सीजन कंसंट्रेटर मौजूद हैं। इसके अलावा कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर शासन के निर्देश पर सीएचसी पर एक बच्चा वार्ड बना दिया गया है। जिसमें 8 बेड मौजूद हैं। ताकि किसी भी तरह के मरीज आने पर समय रहते उनको सही इलाज दिया जा सके।

जलालाबाद पीएचसी उपचार को पहुंचे 38

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते अस्पताल में ओपीडी सेवाएं बंद कर दी गई थी। डा. विक्रम सिंह ने बताया कि कोविड के चलते जलालाबाद पीएचसी में ओपीडी की सेवाएं बंद कर दी गई थी। 1 सप्ताह पहले गन्ना मंत्री सुरेश राणा व डीएम जसजीत कौर ने पीएचसी का निरीक्षण किया था। उन्होंने ओपीडी शुरू करने के आदेश दिए थे। डॉ. विक्रम सिंह ने बताया कि सुबह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए 38 व्यक्तियों को ओपीडी की सेवाएं दी गई है और मरीजों के पुराने पर्चे देख कर भी दवाई दी गई। डॉ विक्रम सिंह की ड्यूटी कोविड में होने के कारण फार्मेसिस्ट मुकेश कुमार व स्टाफ नर्स ने मरीजों का उपचार कर दवाई दी।

थानाभवन: उपचार को सीएचसी पहुंचे 30 मरीज

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र थानाभवन चिकित्सा अधीक्षक डॉ रवि पालीवाल ने बताया कि शासन के आदेश पर सभी पीएचसी व सीएचसी पर ओपीडी शुरू करा दी गयी है।उन्होंने बताया कि शुक्रवार को लगभग 30 मरीज सीएचसी थानाभवन पर आए ।उनमें अधिकतर मरीज शरीर दर्द के,और बुखार के आये। अस्पताल में आने वाले सभी मरीजो की कोविड की जांच की जा रही है।सीएचसी में सभी प्रकार की दवाई उपलब्ध है।

कैराना: कोरोना वैक्सीनेशन के लिए मची आपाधापी

एक जून से कैराना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर शासन के निर्देश पर 18 प्लस के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का कार्य शुरू कर दिया गया था। शुक्रवार को सीएचसी पर बने बूथ पर पहुंचने वाले लाभार्थियों में वैक्सीन लगवाने के लिए आपाधापी मची रही। इस दौरान वैक्सीनेशन रूम के अंदर कई महिलाएं या पुरुष एक साथ घुस गए। जिस कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया।

जिस कारण एक बार फिर कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका बनी हुई हैं। लाभार्थियां का कहना था कि निर्धारित तिथि एवं समय पर पहुंचने पर भी वैक्सीनेशन की नहीं किया गया, जबकि बाद में आने वाले लाभार्थियों को वैक्सीन लगा दी गई। चिकित्सा अधीक्षक डॉ प्रकाश ने बताया कि जिन लोगों द्वारा कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराए गए हैं। उनको नंबर के हिसाब से वैक्सीन लगाई गई।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments