Monday, October 3, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsजानिए, अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस पर क्या बोले- वरिष्ठ पत्रकार रविन्द्र श्रीवास्तव

जानिए, अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस पर क्या बोले- वरिष्ठ पत्रकार रविन्द्र श्रीवास्तव

- Advertisement -

जनवाणी डिजिटल संवाददाता |

सिद्धार्थनगर: अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के अवसर पर भारतीय मानव अधिकार सुरक्षा संगठन के जिला अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार रवीन्द्र श्रीवास्तव ने कहा है कि प्रकृति और मानव के बीच एक स्थाई संबंध है। हम अपने भोजन और स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ विविध प्राकृतिक प्रणाली पर निर्भर हैं।

इसलिए कई जैवविविधता मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने बढ़ाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसे विश्व जैव विविधता संरक्षण दिवस भी कहते हैं। इसके संरक्षण व विकास हेतु सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य जैव विविधता बोर्ड की स्थापना की गई है।

पृथ्वी पर लाखो प्रजाति के जीव व वनस्पति उपलब्ध है। इन सबकी विशेषता व आवास भिन्न-भिन्न है, फिर भी यह आपस में प्राकृतिक कड़ियों से जुड़े हैं।

”मानव के कारण पर्यावरण में हो रहे बदलाव से इनकी कड़ियां टूट रही हैं, जो जैव विविधता के लिए खतरा है मानव जीवन में जैवविविधता का काफी महत्व है। हमें एक ऐसे स्वच्छ पर्यावरण का निर्माण करना है, जो जैव विविधता से समृद्ध, टिकाऊ और आर्थिक गतिविधियों के लिए हमें पर्याप्त अवसर प्रदान कर सके। ”                -रवीन्द्र श्रीवास्तव                

जैवविविधता की कमी होने से प्राकृतिक आपदा जैसे बाढ़, सूखा और तूफान आने का खतरा और बढ़ जाता है। अतः मानव के लिए जैव विविधता का संरक्षण बहुत आवश्यक है। लाखों विशिष्ट जैविक की कई प्रजातियों के रूप में पृथ्वी पर जीवन उपस्थित है और हमारा जीवन प्रकृति का अनुपम उपहार है। अतः पेड़ पौधे व अनेक प्रकार के जीव जंतु हवा, पानी, महासागर-पठार, समुद्र नदियां सभी प्रकृति की देन का हमें संरक्षण करना चाहिए, क्योंकि यही हमारे अस्तित्व एवं विकास हमारे विकास के लिए जरूरी है।


What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments