Saturday, April 17, 2021
- Advertisement -
HomeCoronavirus...तो क्या इतने कोरोना संक्रमित मिलेंगे रोजाना ?

…तो क्या इतने कोरोना संक्रमित मिलेंगे रोजाना ?

- Advertisement -
0

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: देश में जिस तरीके से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है, उससे स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी एजेंसियों का अनुमान है कि आने वाले दिनों में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मिलने का आंकड़ा एक लाख से ज्यादा हो सकता है। बीते 24 घंटों में जिस तरीके से पूरे देशभर में 81 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, उससे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय समेत आईसीएमआर और अन्य एजेंसियों की चिंता बढ़ गयी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश के सभी राज्यों को ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग और स्क्रीनिंग के साथ-साथ कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करने के साथ टीकाकरण बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

ज्यादा अलर्ट रहने की जरूरत

देश में पिछले साल कोरोना के मामले एक अक्तूबर को 81 हजार से ज्यादा हो गए थे। उसके बाद केस बढ़े लेकिन एक दिन में एक लाख से ज्यादा मामले पिछली बार भी एक दिन में सामने नहीं आए थे और फिर कुछ दिनों बाद मामलों में गिरावट दर्ज होने लगी थी। लेकिन इस बार जिस तरीके से मामले बढ़ रहे हैं उससे स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया है कि रोज मिलने वाले मरीजों की संख्या एक लाख से ज्यादा पहुंच सकती है।

विशेषज्ञों के मुताबिक ऐसा कोरोना वायरस की मारक क्षमता के ज्यादा होने के साथ-साथ लोगों की लापरवाही की वजह से हो सकता है। आईसीएमआर के वैज्ञानिक डॉक्टर समीरन पांडा कहते हैं कि इस वक्त लोगों को बहुत ज्यादा अलर्ट रहने की जरूरत है।

क्योंकि यह वायरस खतरनाक रूप ले रहा है। उन्होंने बताया कि जिस तरह से नए मामले सामने आ रहे हैं उससे यह कहना मुश्किल नहीं है कि रोजाना पॉजिटिव मिलने वाले मामले अगले कुछ हफ्तों में ही एक लाख का आंकड़ा पार कर जाएंगे।

80 फीसदी मरीज पांच राज्यों से

पूरे देश में जिस तरह से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है उसमें तकरीबन 80 फीसदी मरीज पांच राज्यों के हैं। जिसमें महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, छत्तीसगढ़ और पंजाब शामिल है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर के आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में इस वक्त सबसे ज्यादा 62 फीसदी कोरोना के मामले हैं। देश की राजधानी दिल्ली में भी एक बार फिर से कोरोना मरीज़ों की संख्या बढ़ने लगी है। इन सभी राज्यों को ज्यादा से ज्यादा सतर्कता बरतने को कहा गया है।

देश में लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश के सभी प्रभावित राज्यों को निर्देश दिए हैं कि मरीजों की पहचान के साथ-साथ कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाया जाए। राज्यों ने भी जिम्मेदार महकमे को निर्देश दिए गए हैं कि वह ज्यादा से ज्यादा सख्ती बरत कर दिशानिर्देशों का पालन न करने वालों को आगाह कर उनका चालान करें। इस कड़ी में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कल कई प्रतिष्ठित मॉल और पब, बार और रेस्टोरेंट को सील कर दिया गया। महाराष्ट्र में भी इसी तरीके की कार्रवाई की गई।

इन राज्यों में कोरोना से कोई मौत नहीं

पूरे देश में जहां पांच राज्य सबसे ज्यादा कोरोना से प्रभावित हैं। लेकिन ऐसी दशा के बाद भी देश के कुछ राज्य ऐसे हैं जहां पर कोरोना के मामले न के बराबर हैं और मौत एक भी नहीं है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक अरुणाचल प्रदेश, असम, अंडमान निकोबार, बिहार, दादरा और नगर हवेली, मिजोरम, सिक्किम, लद्दाख, लक्षद्वीप और नागालैंड समेत त्रिपुरा जैसे राज्यों में कोरोना से मौत के कोई केस सामने नहीं आए हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक इस वक्त देश में एक करोड़ 23 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। देश में एक करोड़ 15 लाख से ज्यादा लोग डिस्चार्ज हो चुके हैं। अब तक कोरोना से एक लाख 63 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। टीकाकरण के मामले में अब तक देश में तकरीबन सात करोड़ डोज दी जा चुकी हैं।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
1

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments