Tuesday, May 28, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutपढ़ाई घेर में, स्कूल बना गोवंशों का आशियाना

पढ़ाई घेर में, स्कूल बना गोवंशों का आशियाना

- Advertisement -
  • मवाना ब्लॉक के गांव पिलौना प्राइमरी स्कूल का मामला, शिक्षकों ने की शिकायत

जनवाणी संवाददाता |

फलावदा: गांव पिलौना और नागोरी में फसलों के नुकसान से आहत होकर ग्रामीणों ने गोवंश प्राथमिक विद्यालय में बंद कर दिए। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को घेर में शिक्षा ग्रहण करने की व्यवस्था की गई है। मामले को लेकर अफसरों को सारा इल्म है फिर भी अंजान बने हुए हैं।

किसानों के खेत खलिहान में फसले तबाह कर रहे गोवंश से लोग त्रस्त हो रहे हैं। नागौरी के ग्रामीणों ने फसलें बचाने की खातिर जंगल में घूम रहे गोवंश को सरकारी स्कूल में बंद कर दिया। मसला बच्चों की पढ़ाई का उठा तो अध्यापक ने एक घेर में इंतजाम कर बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया। गांव के बोबी प्रधान, अनुराग, संदीप, संजीव, सुबोध, रमेश, हरेंद्र, वैभव, सुनील, लोकेश, रामधन, रकम सिंह, दिनेश, ब्रजवीर, ज्ञानेंद्र प्रधान आदि ग्रामीणों ने बताया कि पिछले कई महीनों से गोवंश खेतों में खड़ी गेहूं और सरसों की फसल को खा गए हैं।

23 8

इसकी सूचना एसडीएम व ब्लाक के अधिकारियों को दी, लेकिन कोई अधिकारी गांव नहीं पहुंचा। वहीं, दूसरी ओर गांव पिलौना के ग्रामीणों ने भी खेतों में फसलों को नुकसान पहुंचा रहे गोवंश को ग्रामीणों ने पकड़कर गांव के प्राथमिक विद्यालय में बंद कर ताला लगा रखा है। बुधवार को प्रधानाध्यापक राकेश द्वारा विद्यालय का ताला खोलने का प्रयास किए जाने पर ग्रामीणों हंगामा कर दिया।

सूचना मिलने पर पुलिस व तहसील की टीम मौके पर पहुंच गई। बताया गया है कि इस गांव में करीब 250 बीघा से अधिक गेहूं की फसल खत्म हो गई है।  किसान को रात दिन खेतों की रखवाली करने को विवश है। ग्रामीणों ने दो दर्जन से अधिक गोवंश को पकड़कर विद्यालय परिसर में बंद कर दिया।

21 10

हंगामा खड़ा हुआ तो मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी मुनेश शर्मा व एडीओ प्रदीप शर्मा, ग्राम पंचायत सचिव सुनील एवं ग्राम प्रधान प्रवीण कुमार ने मामले का हल निकालने के प्रयास में जुट गए। गांव में गोवंश के लिए कोई जगह देने को तैयार नहीं हुआ। ग्रामीणों ने साफ कह दिया कि आवारा गोवंश को गांव में नहीं छोड़ेंगे। क्षेत्र ने सड़को व खेतों में गोवंश घूम रहा है। गोवंश से खेत में फसलों का नुकसान तो सड़कों पर दुर्घटनाएं हो रही है।

बेसहारा पशु बन रहे लोगों के लिए खतरा

बहसूमा: कस्बे व क्षेत्र में इन दिनों बेसहारा गोवंश सड़कों पर घूम रहे हैं। सैकड़ों की संख्या में यह पशु नागरिकों के लिए तो मुसीबत का कारण बन ही रहे हैं। साथ-साथ किसानों के लिए भी सिरदर्द साबित हो रहे हैं। कस्बे के बाजारों में खुलेआम गोवंश घूम रहे हैं। कई बार तो गोवंशो की लड़ाई में हादसे भी हो गये है। इन गोवंश के कारण दुकानदार को भी नुकसान हुआ है। रात के वक्त भी यह बेसहारा गोवंश सड़कों पर निकल आते हैं। कई बार अंधकार होने के चलते इन बेसहारा पशुओं की चपेट में आने से वाहन भी दुर्घटनाग्रस्त हो गये हैं।

20 11

आवारा गोवंश को अधिकारी गोशाला में नहीं छोड़ रहे हैं और न ही उन पर कोई ध्यान दिया जा रहा है ऐसी ठंड में पशु सड़कों पर या फिर खेतों में अपना पेट भर रहे हैं। जहां सरकार इनका समाधान करने की बात करती है। वहीं, दूसरी ओर अधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। नहीं उनके कोई आदेश मायने रख रहे हैं। किसानों ने कहा कि वह एक प्रतिनिधिमंडल उच्च अधिकारियों से मिलकर सड़कों पर घूम रहे गोवंश का समाधान कराएंगे।

गोवंशों की सुरक्षा को तहसील में धरना-प्रदर्शन

सरधना: आवारा घूम रहे गोवंशों से फसलों की सुरक्षा और गोशालाओं में हो रही गोवंशों की दुर्दशा के विरोध में बुधवार को कपसाड़ गांव के लोग तहसील परिसर में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए। इस दौरान उन्होंने जमकर नारेबाजी की। धरने पर बैठे लोगों ने कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं की जाती है, धरना जारी रहेगा।

धरने पर बैठे लोगों ने कहा कि खुले घूम रहे आवारा गोवंश खेतों में खड़ी फसल को भारी नुकसान पहुंचा रहे हैं। मजबूरन किसान रात को कड़ाके की ठंड के बीच अपने खेतों में फसल बचाने के लिए पहरा दे रहा है। इसके बाद भी नजर बचते ही गोवंश फसलों को नष्ट कर रहे हैं। इसके अलावा गो आश्रय स्थलों में बंधे गोवंशों की भी दुर्दशा हो रही है। जगह कम होने के कारण गो आश्रय स्थलों में गोवंश नहीं पहुंचा जा रहे हैं।

गंदगी और देखरेख के अभाव में गोवंशों की दुर्दशा हो रही है। कपसाड़ गांव में गो आश्रय स्थल कीहालत खराब है। चारोें ओर गंदगी पसरी हुई है। गो आश्रय स्थलों में खूंखार कुत्ते गोवंशों को अपना निशाना बना रहे हैं। जिससे दर्जनों गोवंश घायल हो चुके हैं। उन्होंने समस्या के समाधान की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया है। कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती है, धरना जारी रहेगा। इस मौके पर हप्पू प्रधान, बंटी प्रधान, बसंत कुमार, सहदेव, गजेंद्र सिंह, अंकित, आदेश, संजीव, राहुल, संजय कुमार आदि मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments