Tuesday, August 9, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअपहरण नहीं, प्रेमी के साथ गई थी महिला बॉक्सर

अपहरण नहीं, प्रेमी के साथ गई थी महिला बॉक्सर

- Advertisement -
  • प्रेमी गिरफ्तार, टेम्पो बरामद, छात्रा की सहेली भी संदेह के दायरे में

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कैलाश प्रकाश स्टेडियम से निकल कर घर जा रही महिला बॉक्सर का अपहरण नहीं बल्कि वो खुद अपने प्रेमी के साथ गई थी। पुलिस ने आरोपी टेम्पो चालक को गिरफ्तार कर टेम्पो बरामद किया गया है। छात्रा को मेडिकल के लिए भेज दिया गया है। वहीं, छात्रा की सहेली भी संदेह के दायरे में आ गई है।

पुलिस लाइन में आयोजित पत्रकार वार्ता में एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि बुधवार की शाम को परतापुर के कुंडा गांव में रहने वाली छात्रा स्टेडियम तक जिस टेम्पो में बैठ कर आती थी उसी टेम्पो चालक से उसकी दोस्ती हो गई थी। बुधवार को बॉक्सर स्टेडियम से निकलने के बाद टेम्पो पकड़ कर सीधे रशीद नगर में रहने वाले अपने प्रेमी आदिफ के घर पहुंच गई थी। जहां आदिफ के घर वालो ने दोनों को हड़का कर घर से निकल दिया था। एसपी सिटी ने बताया कि घर से निकल कर आदिफ बॉक्सर को लेकर टेम्पो के मालिक के घर शताब्दी नगर गया और बॉक्सर को पत्नी बताकर रुक गया। आरोपी आदिफ ने पूछताछ में बताया कि उसकी बॉक्सर से दो सालों से दोस्ती थी। बताया कि उसने बॉक्सर को मना किया था कि वो उसे लेकर कहीं नहीं जा सकता है, लेकिन छात्रा उसके साथ जाने को अड़ी हुई थी।

पूरी कहानी बॉक्सर ने रची

बॉक्सर ने बताया कि उसका अपहरण नहींं हुआ था वो खुद आदिफ के घर गई थी। पूछताछ में यह बात भी सामने आई कि बॉक्सर ने टेम्पो में ही आदिफ से शादी की बात की थी। टेम्पो में उसने आदिफ से कहा कि वो उसके सिंदूर भर दे और माला पहना दे।

फर्जी लोगों के नाम लिए

एसपी सिटी ने बताया कि बॉक्सर ने पुलिस को गुमराह करने के लिए परतापुर के कुछ लोगों का नाम लिया और कहा कि इन लोगों ने गत वर्ष छेड़खानी की थी। पुलिस ने तब 151 के तहत कार्रवाई भी कर दी थी। बॉक्सर ने जान कर इनका नाम लिया था। पुलिस ने जब इन लोगों को उठाकर पूछा तो इन लोगों ने अनभिज्ञता जाहिर की।

सहेली ने दिया सुराग

पुलिस ने बॉक्सर की सहेली से पूछताछ की तो उसने किसी भी तरह की जानकारी से इनकार किया। जब पुलिस ने सख्ती दिखाई तो सहेली टूट गई और उसने बताया कि बॉक्सर के टेम्पो चालक से सम्बंध है। वहीं, पुलिस को सहेली के मोबाइल पर आदिफ की दर्जनों कॉल्स भी मिली है।

सीसीटीवी कैमरे ने खोला राज

बॉक्सर की सहेली के गुमराह करने पर पुलिस ने दो किमी के दायरे के कैमरे खंगाल लिया। साकेत चौपले पर दोनों छात्राएं पैदल पर जाती हुई दिखी। यही से पुलिस को लाइन मिली।

लखनऊ अलर्ट रहा

नाबालिग दलित बॉक्सर के अपहरण से हड़कंप मच गया। चुनावी माहौल होने और दलित छात्रा होने के कारण गलत संदेश न जाये इसको लेकर अधिकारी चिंतित थे।

पोस्को और एससी एक्ट में जेल

बॉक्सर अपहरण मामले में आरोपी आदिफ के खिलाफ पोस्को और एससी एक्ट के तहत जेल भेजा जा रहा है। एसपी सिटी का कहना है कि इस मामले में प्रेमी के घर वालों का कोई रोल नहींं है, क्योंकि उन लोगों ने तो बॉक्सर और आदिफ को घर से निकाल दिया था।

बिगड़ सकता था माहौल

दलित महिला बॉक्सर के अपहरण की खबर और वायरल हुए आडियो से माहौल गरमा जाता। जैसे ही पुलिस को पता चला कि अपहरण करने वाला मुस्लिम युवक है तो पुलिस के पैरों तले जमीन खिसक गई। लखनऊ से फोन आने शुरू हो गए। इस घटना का राजनीतिकरण न हो जाए इसको लेकर पूरी रात एसपी सिटी सिविल लाइन थाने जमे रहे। सर्विलांस और सीसीटीवी कैमरे पर जोर दिया गया। जब बॉक्सर की मोबाइल की लोकेशन सुशीला जसवंत राय अस्पताल के पास मिली तो पुलिस की सांस में सांस आई।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments