Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअक्षय तृतीया के लिए चमकने लगा बाजार

अक्षय तृतीया के लिए चमकने लगा बाजार

- Advertisement -
  • 20 साल पहले की अक्षय तृतीया से लेकर अब तक सोने के दामों में आया 1000 फीसदी का उछाल
  • अक्षय तृतीया को लेकर सजने लगा सराफा बाजार

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: अक्षय तृतीया यानि आखा तीज हिंदू धर्म में मनाए जाने वाले मुख्य त्योहारों में से एक हैं, जो कि 22 अप्रैल यानि शनिवार को मनाई जाएगी। यह त्योहार बैसाख शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है और यह हर साल सुख-समृद्धि की सौगात लेकर आता है। गृह नक्षत्रों की जुगलबंदी से दान-पुण्य खरीदारी करने से साधक को अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है।

माना जाता है कि ऐसा करने पर व्यक्ति का कभी क्षय नहीं होता है। इस दिन स्वर्ण आभूषणों की खरीदारी से जहां धनधान्य में वृद्धि होती हैं। वहीं, यथा संभव दान करने से घर में सुख-समृद्धि और लोगों की कामनाएं पूरी होती है। ज्योतिषाचार्य राहुल अग्रवाल के अनुसार इस वर्ष अक्षय तृतीया की शुरुआत 22 अप्रैल को सुबह 7 बजकर 48 मिनट से होगी और समापन 23 अप्रैल को सुबह 7 बजकर 43 मिनट पर होगा।

इस दिन अमृत सिद्ध योग, सौभाग्य योग, त्रिपुष्कर योग एवं आयुष्मान योग भी बन रहा है। यही कारण है कि इस साल अक्षय तृतीया वाले दिन किए गए कार्य लाभकारी होंगे। मान्यता है कि इसी दिन भगवान परशुराम का जन्म हुआ था। इस दिन मांगलिक कार्य करने पर विशेष लाभ मिलेगा। इसमें बाजार से खरीदारी करना भी शुभ रहेगा।

20 साल में 1000 फीसदी महंगा हुआ सोना

2003 में अक्षय तृतीया का त्योहार 4 मई 2003 को था और उस दिन सोना 5656 रुपये रुपये प्रति 10 ग्राम में मिल रहा था। 2023 में अक्षय तृतीया ता त्योहार के ठीक पहले 60,560 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेड कर रहा है। यानि 20 सालों में सोने के दामों में 54,900 रुपये प्रति 10 ग्राम का उछाल आ चुका है।

27 14

20 सालों में सोने के भाव में 1000 फीसदी का उछाल आ चुका है। यानि 20 साल पहले अगर आपने अक्षय तृतीया पर एक लाख का सोना खरीदा होता तो उसका वैल्यू बढ़कर 10 लाख रुपये के करीब हो गया होता।

चांदी भी 20 वर्ष में 900 फीसदी महंगा

केवल सोना ही नहीं चांदी का भाव में भी 20 साल में 900 फीसदी का उछाल आया है। 4 मई 2003 को चांदी 7550 रुपये प्रति किलो पर ट्रेड कर रहा था जो अब 76,200 रुपये प्रति किलो में मिल रहा है। यानि 20 वर्ष में चांदी की कीमतों में 68,650 रुपये प्रति किलो की बढ़ोतरी आई है। अगर प्रतिशत के लिहाज से देखें तो इन 20 सालों में चांदी की कीमतों में 900 फीसदी से ज्यादा का उछाल आ चुका है।

एक साल में 19.20 फीसदी बढ़े दाम

2022 में अक्षय तृतीया पर सोना 50808 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार कर रहा था। यानि केवल पिछले साल के अक्षय तृतीया से लेकर अब तक सोने के दामों में 19.20 फीसदी या 9760 रुपये प्रति 10 ग्राम की की बढ़ोतरी आ चुकी है। सर्वेश सर्राफ का कहना है कि सोने की कीमतों में जारी तेजी अभी थमने वाली नहीं है। आने वाले दिनों में सोने की कीमतें 65000 रुपये 10 ग्राम के लेवल के भी छू सकती है।

10 करोड़ से अधिक कारोबार होने का अनुमान

अक्षय तृतीया और ईद का त्योहार इस वर्ष एक साथ पढ़ने की वजह से बाजार में काफी रौनक देखने को मिल रही है। क्योंकि अक्षय तृतीया पर जहां सराफा बाजार में रौनक रहती है। वहीं, दूसरी ओर अबूझ साया होने की वजह से शादियों के लिए मंडप भी फूल रहते हैं। सराफा व्यापारियों के मुताबिक ईद और अक्षय तृतीया दोनों ही त्योहार पर 10 करोड़ से अधिक का कारोबार होने की उम्मीद की जा रही है। क्योंकि इस दिन शहर में 800 से अधिक शादियां भी है।

सोने के दाम

वर्ष सोना
2010 18 हजार 260
2011 22 हजार 400
2012 28 हजार 900
2013 27 हजार 400
2014 30 हजार
2015 26 हजार 950
2016 30 हजार 350
2017 29 हजार 700
2018 32 हजार 50
2019 32 हजार 950
2020 32 हजार 650
2021 43 हजार 800
2022 52 हजार 790
2023 60 हजार 500

अक्षय तृतीया पर बाल विवाह रोकने के लिए प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

अक्षय तृतीया पर होने वाली शादियों को लेकर प्रशासन विशेष नजर बनाए रखने वाला है। जिला प्रोबेशन अधिकारी/जिला बाल विवाह प्रतिषेध अधिकारी अजित कुमार ने बताया कि 22 अप्रैल 2023 को अक्षय तृतीया (आखा तीज) के अवसर पर कुछ जगह आज भी बाल विवाह करने की रुढ़िवादी परम्परा समाज में प्रचलित है। ऐसे विशेष अवसर पर समाज में लड़के व लड़की के विवाह के लिए निर्धारित आयु क्रमश: 21 वर्ष एवं 18 वर्ष के पूर्व ही कर दिया जाता है।

बाल विवाह जैसी कुप्रथा के विरुद्ध बाल विवाह निषेध अधिनियम-1926 (यथा संशोधित) व द प्रोहिबिटेशन आफ चाइल्ड मैरिज एक्ट 2006 अस्तित्व में हैं। 18 वर्ष से कम की लड़की एवं 21 वर्ष से कम के लड़के का विवाह करना कानूनन अपराध है। उन्होंने बताया कि यदि कोई नाबालिग का विवाह करता/कराता है या उसमें शामिल होता है तो उनके विरुद्ध कार्रवाई होगी।

बाल विवाह सम्पन्न कराने वाले प्रत्येक व्यक्ति के विरुद्ध एक लाख का जुर्माना दो वर्ष के कारावास का प्रावधान है। अक्षय तृतीया के अवसर पर 21 वर्ष व 18 वर्ष से कम आयु के लड़कों/लड़कियों का विवाह न हो सके, यदि कोई बाल विवाह का प्रकरण संज्ञान में आता है तो उसकी सूचना संबंधित थाना, चाइल्ड हेल्पलाइन 1098, वूमन पावर लाइन 1090 एवं महिला हेल्पलाइन 181 पर दी जा सकती है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments