Sunday, April 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsयातायात सुगमता फोकस से और बढ़ेगी शहर की स्मार्टनेस

यातायात सुगमता फोकस से और बढ़ेगी शहर की स्मार्टनेस

- Advertisement -
  • आईटीएमएस से ट्रैफिक मैनेजमेंट, लोगों में जागरूकता भी बढ़ी

  • ई-बसों से मिल रहा प्रदूषणमुक्त और आरामदायक यात्रा का आनंद

  • सिटी के अंदर भी फोरलेन सड़कें, फ्लाई ओवर का बिछेगा जाल

जनवाणी ब्यूरो |

लखनऊ: राज्य स्मार्ट सिटी मिशन में शामिल गोरखपुर की स्मार्टनेस और बढ़ाने के लिए यातायात सुगमता पर खासा ध्यान दिया जा रहा है। शहर क्षेत्र में आम रही जाम की समस्या के समाधान के लिए आईटीएमएस से ट्रैफिक मैनेजमेंट, आरामदायक इलेक्ट्रिक बसों से शहरी क्षेत्र में परिवहन सुविधा, चौड़ी सड़कें व चौराहों पर ध्यान देने के साथ ही योगी सरकार महानगर क्षेत्र में फ्लाईओवर और फोरलेन का संजाल बिछाने में जुटी है।

गोरखपुर को स्मार्ट बनाने की मंशा से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसे राज्य मिशन में शामिल किया है। स्मार्ट सिटी बनने के लिए यातायात व्यवस्था का मजबूत होना अपरिहार्य है। गोरखपुर में जाम की समस्या काफी पुरानी रही है। सीएम योगी इससे बखूबी वाकिफ रहे हैं। इसलिए उन्होंने एक-एक करके उन पहलुओं पर पहल करने का निर्देश दिया जिनके जरिये यातायात सुगमता बढ़ सके।

इसके लिए महानगर क्षेत्र की सड़कों को चौड़ा कराया गया, चौराहों का दायरा यथासंभव विस्तारित किया गया। साथ ही 50 करोड़ रुपये से अधिक लागत का इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमस) लागू किया गया। आईटीएमएस के क्रियाशील होने से लोगों में यातायात नियमों के पालन के प्रति जागरूकता भी बढ़ी है। मुख्य शहर में वाहनों की पार्किंग के लिए गोलघर में 38 करोड़ रुपये से अधिक खर्च कर मल्टी लेवल पार्किंग की भी व्यवस्था हो चुकी है। बस स्टेशन के समीप इसी तरह की अन्य मल्टी लेवल पार्किंग का भी निर्माण होना है।

शहर में आबादी के सापेक्ष आवागमन के मार्गों का नया विकल्प तैयार करने के लिए महानगर क्षेत्र में सीएम योगी के निर्देश पर फोरलेन सड़कों के साथ फ्लाईओवर की परिकल्पना को भी साकार करने की दिशा में कदम बढ़ाए गए हैं। मोहद्दीपुर-गोरखनाथ, जेल बाईपास, असुरन-मेडिकल कॉलेज रोड, मोहद्दीपुर-कूड़ाघाट-इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय, पैडलेगंज-नौसढ़ मार्ग फोरलेन हो जाने से काफी सहूलियत हुई है।

इसी क्रम में पैडलेगंज से फिराक गोरखपुर चौराहा तक मार्ग 277.78 करोड़ रुपये की लागत से फोरलेन हो जाएगा। मुख्यमंत्री इसका शिलान्यास कर चुके हैं। महानगर क्षेत्र में फ्लाईओवर भी ट्रैफिक मैनेजमेंट में बड़ी भूमिका निभाएंगे। नौसढ़-पैडलेगंज तक सिक्सलेन फ्लाईओवर बन रहा है। इस पर 429.49 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसी तरह खजांची चौराहे पर फोरलेन फ्लाईओवर का निर्माण हो रहा है जिस पर 96.50 करोड़ रुपये की लागत आएगी। उधर गोरखनाथ ओवर ब्रिज के समानांतर (डोमिनगढ़ से गोरखपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन के मध्य समपार संख्या 162 ए पर पूर्व निर्मित रेल ओवरब्रिज) टू लेन ओवरब्रिज निर्माण होना है। इस रेल ओवर ब्रिज पर 115 करोड़ 76 लाख रुपये खर्च होंगे।

इलेक्ट्रिक बसों की मिली सुविधा, अब मेट्रो ट्रेन की बारी

गोरखपुर शहर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर इलेक्ट्रिक बसों का संचालन हो रहा है। इन बसों की चार्जिंग के लिए 11 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से चार्जिंग स्टेशन भी बनाया गया है। अब शहर में मेट्रो ट्रेन के संचलन की बारी है। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप इस पर प्रक्रियात्मक कार्यवाही भी शुरू हो चुकी है। यहां दो कॉरिडोर बनाकर तीन कोच की मेट्रो लाइट चलाई जाएगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments