Tuesday, June 18, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutथोड़ी-सी धूप, हाड़ कंपाने वाली सर्दी जस की तस

थोड़ी-सी धूप, हाड़ कंपाने वाली सर्दी जस की तस

- Advertisement -
  • सर्दी का प्रकोप बढ़ा, ठिठुरन से सहमे लोेग
  • शाम ढलते ही घरों में कैद होने को विवश जनता

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: सर्दी का कहर निरंतर बढ़ता जा रहा है। कड़ाके की ठंड से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। हालात यह है कि ठंड से बचने के लिए लोग घरों से निकलने से गुरेज ही कर रहे हैं। सोमवार को जहां सूर्यदेव के दर्शन से कुछ राहत मिली थी। वहीं, मंगलवार को सूर्यदेव थोड़ी ही देर के निकलने से लोगों का बुरा हाल हो गया।

घने कोहरे में वाहनों की गति भी बहुत धीमी रही। सुबह के वक्त कोहरे ने भी परेशान किया। ठंड से लोग कांपते रहे। हालत यह रही कि बफीर्ली हवाओं से हाथ-पांव सुन्न हो रहे हैं। लोग जगह-जगह अलाव तापकर राहत पाने की कोशिश करते रहे। वहीं, शाम को छह बजे से पहले ही फिर से बाजारों में लोग दिखाई नहीं दे रहे हैं।

02 25

सर्दी का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। कोहरे और पाले का असर साथ-साथ मौसम में बना हुआ है। जिसके चलते ठिठुरन का अहसास बना हुआ है। यह मौसम बच्चों के साथ-साथ बुजुर्गों के लिए परेशानी भरा है। ऐसे में मौसम से बचने के लिए बेहद सावधानी और सतर्कता बरतने की जरूरत है। इसलिए इस मौसम में मॉर्निंग वॉक और बिना गर्म वस्त्र धारण किए बाहर न निकले।

क्योंकि यह बढ़ती ठंड बीमारी को बढ़ावा देगी। हालांकि यह बढ़ती ठंड़ से अभी राहत मिलने के आसार नहीं है। क्योंकि वैज्ञानिकों का अनुमान है कि जनवरी में यह ठंड अधिक पड़ेगी और इस बार रात का पारा दो से तीन डिग्री तक पहुंचने की भी संभावना है। ऐसे में इसलिए बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। इसलिए मौसम विशेषज्ञों के साथ-साथ अब चिकित्सक भी सावधानी बरतने और ठंड से बचने के लिए आह्वान कर रहे हैं।

दिसंबर के महीने में इस बार ठंड का प्रकोप लगातार बढ़ा है। क्योंकि अन्य वर्षों के मुताबिक रिकॉर्ड पर नजर डाली जाए तो इस बार दिसंबर का महीना बेहद ठंडा देखने को मिला है। क्योंकि पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी का असर मैदानी इलाकों में साफ दिखाई दे रहा है। जिसके चलते यहां इस बार अत्यधिक ठंड का अहसास देखने को मिल रहा है।

हाड़कंपकंपाने वाली ठंड ने लोगों को परेशान कर दिया है। ठिठुरन लगातार बनी हुई है। ऐसे में लोग अलाव जलाकर अपना जान बचाने के लिए मजबूर होते दिखाई दे रहे हैं। इसलिए जरूरी है कि इस मौसम में विशेष सावधानी बरतनी होगी और आवश्यकता के अनुसार गर्म वस्त्रों का प्रयोग करना होगा।

प्रदूषण में हो रहा उतार-चढ़ाव

प्रदूषण की मात्रा में भी लगातार उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। कभी मेरठ शहर में प्रदूषण की मात्रा कम हो जाती है तो कभी प्रदूषण की मात्रा में इजाफा हो जाता है। हालांकि इन दिनों में प्रदूषण में अत्यधिक वृद्धि होने की ज्यादा संभावना बनी रहती है।

03 23

इसलिए मेरठ में 282, गाजियाबाद में 282, बागपत में 141, मुजफ्फरनगर में 277 रहा। गंगानगर में 344, जयभीमनगर में 144 और पल्लवपुरम में 364 रहा है। पल्लवपुरम और गंगानगर में इस बार प्रदूषण की मात्रा में बढ़ोतरी हुई है। जोकि अच्छे संकेत नहीं है।

ये दर्ज हुआ तापमान

राजकीय मौसम वैधशाला पर मंगलवार को दिन का अधिकतम तापमान 15.7 डिग्री एवं न्यूनतम तापमान 7.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम आर्द्रता 97 एवं न्यूनतम आर्द्रता 67 प्रतिशत दर्ज की गई है। हवा सुबह दो किमी और शाम को चार किमी प्रति घंटा की रफ्तार से आंकी गई है।

अनुमान

सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विवि के मौसम विशेषज्ञ डा. यूपी शाही का कहना है कि अभी ठंड का प्रकोप बढ़ेगा। कोहरे और पाले का एक साथ आना ठंड बढ़ने के संकेत है। फसल प्रणाली अनुसंधान संस्थान के मौसम विशेषज्ञ डा. एन सुभाष का कहना है कि अभी मौसम में ठंड का अहसास लगातार बढ़ेगा। मौसम में अभी राहत नहीं मिलेगी। क्योंकि इस बार ठंड का अहसास अच्छा खासा रहेगा।

स्कूल संचालकों ने डीएम के आदेशों की उड़ाई धज्जियां

फलावदा: ठंड के मद्देनजर डीएम द्वारा घोषित किए किए अवकाश को लेकर स्कूल संचालक कतई गंभीर नहीं है। छुट्टी के आदेशों के बावजूद पब्लिक स्कूल की टीचर ने डीएम के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुए फोन कर करके बच्चों को स्कूल तलब किया। मामला डीएम तक पहुंचने के बाद छुट्टी कर दी गई। कड़ाके की सर्दी के मद्देनजर डीएम द्वारा कक्षा एक से 12वीं तक अवकाश घोषित किया गया है।

डीएम के अवकाश घोषित करने के निर्देश स्थानीय स्कूल संचालकों के लिए बेमानी साबित हो रहे हैं। डीएम के आदेशों के बावजूद संचालकों द्वारा सभी शिक्षण संस्थाओ को सुचारू रूप से खोला गया। मवाना-फलावदा मार्ग पर स्थित आइडियल चिल्ड्रन पब्लिक स्कूल खोला गया। इतना ही नहीं स्कूल की टीचर द्वारा छोटे बच्चों को फोन कर कर के स्कूल में तलब किया गया। अभिभावकों ने डीएम के आदेश का हवाला दिया।

जानकारी किए जाने पर प्रधानाचार्य प्रवीन कुमार ने प्री बोर्ड परीक्षा होने का हवाला दिया। एक अभिभावक द्वारा उक्त स्कूल संचालक के खिलाफ डीएम से शिकायत की गई तब जाकर स्कूल संचालक द्वारा छुट्टी घोषित कर दी गई। वहीं, दूसरी ओर कस्बे व आसपास के अन्य शिक्षण संस्थान भी सुचारु रुप से खोले गए। स्कूल संचालक डीएम के आदेशों का पालन करने को तैयार नहीं है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments