Tuesday, May 28, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsचुनावी गाने से भाजपा का सपा पर प्रहार

चुनावी गाने से भाजपा का सपा पर प्रहार

- Advertisement -
  • गाने से सपा सरकार के दंगाराज, गुण्डाराज को याद दिलाने की कोशिश 
  • भाजपा ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर जारी किया पार्टी का चुनावी गाना

जनवाणी ब्यूरो |

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को चुनावी अभियान को धार देने के लिए चुनावी गाने को लांच किया। भाजपा के ट्विटर हैंडल, फेसबुक और इंस्टाग्राम हैंडल पर जारी किए गए गाने से भाजपा ने सपा, बसपा और पूर्व सरकारों के भ्रष्टाचार, गुण्डाराज, दंगाराज की याद दिलाई है, वहीं जनता को जनार्दन बताकर इन बातों को न भूलने की अपील की है। गीत में भाजपा सरकार बनाने का अनुरोध भी किया गया है।

भाजपा द्वारा जारी किए गए गाने के बोल ‘कमल का ही बटन दबाना, भूल नहीं जाना रे… 

जनता है जनार्दन, सुन लो यूपी के जन मन, कमल का ही बटन दबाना, भूल नहीं जाना रे’ है। गाने में पूर्ववर्ती सरकारों के दौरान जनता के उत्पीड़न, गुण्डाराज, दंगों, भ्रष्टाचार और गलत नीतियों पर सवाल उठाए हैं। समाजवादी पार्टी पर जोरदार हमला कर जनता को सचेत करने का भी प्रयास किया गया है। साथ ही भाजपा सरकार के कामकाज का भी उल्लेख
किया है।

इससे पहले भाजपा ने एक और चुनावी गाना जारी किया था। यह गाना श्रीलंकाई सिंगर योहानी डिलोका डिसिल्वा के प्रसिद्ध गाने ‘मनिके मागे हिते’ की तर्ज पर बनाया गया है। सोशल मीडिया पर यह गाना खूब पसंद किया जा रहा है। खास बात यह है कि इस गाने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ की उन तस्वीरों को शामिल किया गया है, जिसमें पिछले दिनों दोनों नेता साथ नजर आए थे।

खुद से भी गाये हैं लोगों ने गाने 

इसके पहले भी कई स्थानीय कलाकार भाजपा के पक्ष में गाना गाकर लोगों को अपील भी कर रहे हैं। वहीं भाजपा के सांसद रवि किशन ने रैप तो मनोज तिवारी और कन्हैया मित्तल ने भी गाना गाकर भाजपा के पक्ष में महौल बनाने का काम किया है। अखिलेश यादव के खिलाफ आजमगढ़ से ताल ठोंक चुके भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव ‘ निरहुआ’ भी कई गाने गा चुके हैं। जो भाजपा की जन विश्वास यात्राओं में काफी लोकप्रिय हुए थे। कई शादियों में भाजपा के पक्ष में गए इनके गानों पर थिरकते लोगों के वीडियो खूब वाइरल हुए थे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments