Thursday, February 22, 2024
Homeधर्म ज्योतिषHanuman Ji Aarti Lyrics Hindi: इस प्रकार पढ़ें हनुमान जी की आरती...

Hanuman Ji Aarti Lyrics Hindi: इस प्रकार पढ़ें हनुमान जी की आरती और मंत्र! दूर होंगे सभी दुख और कष्ट

- Advertisement -

नमस्कार, दैनिक जनवाणी डॉटकॉम वेबसाइट पर आपका हार्दिक स्वागत और अभिनंदन है। मंगलवार का दिन हनुमान जी का होता है। वहीं, आज मंगलवार है। यह दिन राम भक्त हुनमान का अर्पित है। इस दिन हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए। जिससे आपके सभी दुख दूर होते हैं। लेकिन बता दें कि, पूजा तो आप बेशक कर लें। कहा जाता है कि आरती​ किए बिना कोई पूजा पूर्ण नहीं होती है। तो वहीं, 28 नवंबर को मंगलवार का दिन है। इसलिए हम आपको बताएंगे हनुमान जी आरती के पाठ के बारे में…

35 18

आरती गाने से पहले करें इस मंत्र का जाप

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहम् दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशम् रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि।।

इस प्रकार है हनुमान जी की आरती

36 14

आरती कीजै हनुमान लला की।
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥

जाके बल से गिरिवर कांपे।
रोग दोष जाके निकट न झांके॥

अंजनि पुत्र महा बलदाई।
सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥

दे बीरा रघुनाथ पठाए।
लंका जारि सिया सुधि लाए॥

लंका सो कोट समुद्र-सी खाई।
जात पवनसुत बार न लाई॥

लंका जारि असुर संहारे।
सियारामजी के काज सवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।
आनि संजीवन प्राण उबारे॥

पैठि पाताल तोरि जम-कारे।
अहिरावण की भुजा उखारे॥

बाएं भुजा असुरदल मारे।
दाहिने भुजा संतजन तारे॥

सुर नर मुनि आरती उतारें।
जय जय जय हनुमान उचारें॥

कंचन थार कपूर लौ छाई।
आरती करत अंजना माई॥

जो हनुमानजी की आरती गावे।
बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

पूजा के बाद जरूर करें ये मंत्र

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्।
सदा बसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानीसहितं नमामि।।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments