Saturday, May 21, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअवैध कट काट रहे जिंदगी की ‘डोर’

अवैध कट काट रहे जिंदगी की ‘डोर’

- Advertisement -
  • एनएच-58 के अवैध कट दे रहे बड़ा दर्द, हादसा होने का बना रहता है अंदेशा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: एनएच-58 पर जगह-जगह बने अवैध कट हादसों को दावत दे रहे हैं। इन कटों से निकलने के चक्कर में जाने कितने लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इसके बावजूद इन कटों को बंद करने के लिए कोई कवायद नहीं की जाती। उधर, शहर में भी अवैध कट नासूर बन गए हैं। इनकी वजह से अक्सर हादसे होते रहते हैं और जाम लगता है। वहीं, पुलिस प्रशासन खामोश है। पुलिस की मानें तो अधिकांश हादसे डिवाइडर पर बने अवैध कटों के कारण हुए हैं। लोगों ने कई बार शिकायत भी की, लेकिन पुलिस प्रशासन ने इस ओर कोई कार्रवाई नहीं की।

एनएच-58 स्थित खड़ौली कट है, लेकिन हर गांव के समीप लोगों ने अपनी मर्जी से अवैध कट बना लिए हैं। इन कटों पर से दो पहिया वाहन व बड़े अवैध कट से चार पहिया वाहन हाइवे पर आ जाते हैं, जिस कारण विपरीत दिशा से आने वाले वाहनों की चपेट में आ जाते हैं। अब धुंध के कारण यह अवैध कट हाइवे पर चलने वाले वाहनों के लिए बेहद खतरनाक हैं, क्योंकि धुंध के कारण सड़कों पर विजिबिलिटी सुबह व शाम को पांच मीटर से भी कम हो जाती है। शायद ही कोई ऐसा दिन न जाता हो, जहां लोग जान हथेली पर रखकर डिवाइडर को पार न करते हो। रविवार को एक बाइक पर पांच सवार डिवाइडर पार करने के दौरान हादसे का शिकार होने से बच गए। पीछे से आए 10 टायरा ट्रक से बाल-बाल बच गए।

अथारिटी दें ध्यान

नागरिकों का कहना है कि अवैध कट राहगीरों के लिए बेहद खतरनाक हैं, जिन्हें बंद किया जाना चाहिए। लोग भी अपनी सुविधा की खातिर इन अवैध कटों का इस्तेमाल करना बंद करें। साथ ही नेशनल हाइवे अथारिटी को भी ऐसे अवैध कट बनाने वालों पर कार्रवाई करनी चाहिए। पिछले कई वर्षों से इन अवैध कटों को बंद करने का कदम नहीं उठाया गया है, जिससे हादसों का ग्राफ बढ़ रहा है।

धुंध के चलते सावधानी बरतें लोग

हाइवे के अवैध कट बंद करना व अवैध कट बनाने से रोकना हाइवे अथारिटी की जिम्मेदारी है। धुंध के कारण सड़कों पर विजिबिलिटी कम हो रही है, जिस कारण रात व सुबह के समय कोई भी वाहन चालक हादसे का शिकार हो सकता है।

कट बनाने वालों पर हो कार्रवाई

एनएच-58 पर कई जगहों पर अवैध कट बनाने व डिवाइडर को तोड़ने के मामले सामने आए हैं। इन्हें जल्द ही भरवाया जाएं, ताकि लोग इनका इस्तेमाल न करें। लोगों को खुद भी अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए। अवैध कट काटने वालों पर सख्त कार्रवाई का जाएगी।

लापरवाही से होते हैं हादसे

एनएच-58 पर जरूरत के अनुसार हर जगह पर नेशनल हाइवे अथारिटी की ओर से कट छोड़े गए हैं, लेकिन इसके बावजूद लोग हर दिन कुछ मीटर दूर जाने की बजाय अवैध कटों से होकर गुजरते हैं। इस कारण हादसे होने का डर बना रहता है। लोग लापरवाही बरतने से बाज नहीं आ रहे हैं। महीने में औसतन कई लोगों की मौत इन हाइवे पर अवैध कटों के कारण होती है, क्योंकि लोग पलट झपकते ही अवैध कटों में से गुजरकर हाइवे पर आ जाते हैं। दो पहिया वाहन चालकों की ओर से इनका अधिक इस्तेमाल किया जाता है।

कई बार उठी अवैध कट बंद करने की मांग

बेशक अवैध कटों को बंद करने के लिए कई बार मांग की जा चुकी है, लेकिन हाइवे बनने के बाद नेशनल हाइवे अथारिटी ने इन कटों को बंद करने की तरफ भी कोई ध्यान नहीं दिया है। अब भी लोग अपनी मर्जी से डिवाइजर तोड़कर अवैध कट बना रहे हैं, लेकिन नेशनल हाइवे अथारिटी गंभीर नहीं है। परतापुर से लेकर मोदीपुरम इलाके तक कई जगहों पर अवैध कट मौजूद है। जहां हर वक्त हादसों का अंदेशा बना रहता है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments