Monday, November 29, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअस्तित्व में आ रहा इनर रिंग रोड

अस्तित्व में आ रहा इनर रिंग रोड

- Advertisement -
  • मेरठ विकास प्राधिकरण की महायोजना 2021 में इनर रिंग रोड का बना था प्लान

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मेरठ विकास प्राधिकरण की महायोजना 2021 में इनर रिंग रोड का प्लान बना था। अब इनर रिंग रोड अस्तित्व में आता हुआ दिख रहा है। कई बार प्लान बने, योजना फुटबॉल बन गई थी, लेकिन वर्तमान में यह योजना सिरे चढ़ती हुई नजर आ रही है।

वर्ष 1998 में प्रस्तावित किया गया शहर का आउटर रिंग रोड तो न जाने धरातल पर कब तक उतर पाएगा, लेकिन अब इनर रिंग रोड धरातल पर काम चलने लगा है। जमीन का अधिग्रहण तेजी से चल रहा है। एनएचएआइ ने शहर से निकलने वाले लगभग सभी मुख्य मार्गों को आपस में जोड़ दिया है।

एनएच-119 मवाना रोड और रुड़की रोड को आपस में जोड़ना बाकी था। अब एनएचएआइ ने इसके निर्माण की भी घोषणा करके जमीन अधिग्रहण की अधिसूचना जारी कर दी है। इससे जहां शहर को लंबी दूरी वाले ट्रैफिक से निजात मिलेगी। वहीं, बाहर से आने वालों के लिए अब मेरठ के किसी भी कोने में पहुंचना आसान हो जाएगा।

आपस में जुड़ रहे हैं सभी मुख्य मार्ग

मेरठ शहर में जाम सबसे विकराल समस्या है। जिसका समाधान वर्षों से खोजा जा रहा है। इस समस्या का बड़ा कारण लंबी दूरी का ट्रैफिक भी है जिसे रास्ता न होने के कारण मजबूरी में शहर के भीतर से गुजरना पड़ता है। पिछले कुछ वर्षों में मेरठ शहर से निकलने वाले अधिकांश मुख्य मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग का दर्जा प्राप्त कर चुके हैं।

इन सभी मार्गों को आपस में जोड़कर शहर के बाहर बाहर रिंग रोड बनाने की योजना बनाई गई। जोकि अब साकार भी होती नजर आ रही है। दिल्ली रोड को दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के पांचवें चरण के माध्यम से हापुड़ रोड से जोड़ा जा रहा है। इसकी टेंडर प्रक्रिया चल रही है।

इसी प्रकार हापुड़ रोड (एनएच 235) को गढ़मुक्तेश्वर मार्ग (एनएच-709ए) से तथा गढ़मुक्तेश्वर मार्ग (एनएच-709ए) को मवाना मार्ग (एनएच-119) से जोड़ने के लिए एनएच-709ए के दो लिंक का निर्माण बस शुरू होने वाला है।

शहर का आउटर रिंग रोड पूरा करने के लिए केवल मवाना रोड (एनएच-119) तथा रुड़की रोड (एनएच-58) को आपस में जोड़ना बाकी था। रुड़की रोड के सहारे दिल्ली बाइपास होते हुए वापस परतापुर तक पहुंचा जा सकता है।

अब हटाना पड़ेगा टोल प्लाजा

रुड़की रोड (एनएच-58) पर एनएचएआइ का सिवाया गांव में टोल प्लाजा है। नया लिंक मार्ग टोल प्लाजा से आगे जाकर रुड़की रोड पर मिलेगा। इस स्थिति में एनएचएआइ को टोल टैक्स का भारी नुकसान होगा। वाहन बिना टोल दिए ही सीधे मुजफ्फरनगर की ओर निकल जाएंगे।

इन हालात को देखते हुए एनएचएआइ के अफसर अब रुड़की रोड के सिवाया टोल प्लाजा को दौराला से आगे शिफ्ट करने पर विचार कर रहे हैं।

तेजी से आरंभ हुई जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया

गढ़मुक्तेश्वर मार्ग को मवाना रोड पर सलारपुर-जलालपुर गांव की सीमा में जोड़ा जाना है। इसके सामने से इस नए लिंक को शुरू करके रुड़की रोड पर दौराला गांव की सीमा में लाकर जोड़ने का एलाइनमेंट तैयार किया गया है। लगभग 13.4 किमी का यह लिंक मार्ग फोरलेन होगा। जिसके लिए 12 गांवों की 133.32 हेक्टेयर (13.33 लाख मीटर) जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा। एनएचएआइ की मेरठ यूनिट को इस लिंक मार्ग के निर्माण का जिम्मा सौंपा गया है।

शहर के बाहर ही रहेगा लंबी दूरी का ट्रैफिक

आउटर रिंग रोड का निर्माण पूरा होने के बाद किसी भी हाइवे से आने वाला लंबी दूरी का ट्रैफिक शहर के बाहर से ही कहीं भी जा सकेगा। भारी वाहनों को शहर में बिना कारण घुसने की जरूरत नहीं होगी। इसी तरह शहर में किसी भी कोने पर जाने के लिए घंटों जाम को झेलने से निजात मिलेगी।

जल्द से जल्द होगा भूमि अधिग्रहण और निर्माण

लिंक मार्ग से संबंधित तथ्य

  • कुल लंबाई 13.4 किमी
  • कुल गांव 12
  • कुल जमीन 133.32 हेक्टेयर

इन गांवों से गुजरेगा

  1. बहचौला
  2. सालारपुर जलालपुर
  3. सिखेड़ा
  4. भराला
  5. दौराला
  6. धंजू
  7. इकलौता
  8. खनौदा
  9. मैथना इंद्र सिंह
  10. मामूरपुर उर्फ देदवा
  11. नंगला मुख्त्यारपुर
  12. पनवाड़ी
What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments