Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerut2,000 आटो को नोटिस, वसूले जाएंगे एक करोड़

2,000 आटो को नोटिस, वसूले जाएंगे एक करोड़

- Advertisement -
  • शहर की बिगड़ी यातायात व्यवस्था के लिए टेम्पो और आटो की भरमार
  • दौड़ रहे बिना परमिट के, बने खतरे

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: महानगर में संचालित जिन सवारी आॅटो में जनता अपने गंतव्य तक जाने के लिए यात्रा कर रही है, वह सभी अवैध हैं। एक भी सवारी आॅटो के पास परिवहन विभाग की ओर से परमिट नहीं है। परमिट के लिए यह आॅटो संचालक आवेदन नहीं कर रहे हैं। शहर में बिगड़ती यातायात व्यवस्था के पीछे दौड़ रहे अवैध टेम्पो, आॅटो की भरमार है। इसमें लोडिंग टेम्पो भी शामिल हैं।

हालात ये है कि शहर में लगने वाले जाम, चौराहों पर खड़े होने वाले वाहनों में टेम्पो, आॅटो की संख्या ज्यादा रहती है। शहर में दो हजार ऐसे आॅटो दौड़ रहे हैं, जिनका आरटीओ आॅफिस में टैक्स जमा नहीं कराया हैं। ऐसे करीब दो हजार आॅटो को आरटीओ की तरफ से नोटिस भेजे गए हैं, जिसमें कहा गया है कि टैक्स जमा कराया जाए, अन्यथा उनका पंजीकरण रद कर दिया जाएगा। करीब एक करोड़ से ज्यादा का टैक्स इन आॅटो पर बैठता है, जिनकी फाइलों को आरटीओ आॅफिस में खंगाला जा रहा हैं।

टैक्स जमा नहीं करने वाले वाहनों की फाइलों को आरटीओ तलाश रहे हैं। करीब दो हजार ऐसे आॅटो की फाइल पकड़ में आयी हैं, जिनका टैक्स जमा ही नहीं कराया गया है, फिर भी ये आॅटो सड़कों पर दौड़ रहे हैं। टैक्स जमा नहीं कराने पर इनके खिलाफ आरटीओ की तरफ से चिन्हित कर नोटिस भेजे जा रहे हैं। पहले खेफ में दो हजार आॅटो को नोटिस भेजे गए हैं।

बताया गया कि जिन आॅटो को नोटिस भेजे गए हैं, उन पर करीब एक करोड़ से ज्यादा का टैक्स बैठता हैं। आरटीओ आॅफिस के प्रवर्तन खंड के अधिकारी टैक्स जमा कराने के लिए जुट गए हैं, जिसके चलते आरटीओ का खजाना भरने जा रहा हैं। आरटीओ हिमेश तिवारी ने इसको लेकर विभागीय अफसरों की मीटिंग भी ली और जिन आॅटो पर टैक्स बकाया है, उन पर तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिये गए हैं।

व्यवसायिक वाहन और भी हैं, जिनका टैक्स ही आरटीओ में जमा नहीं कराया गया है। कहा जा रहा है कि आरटीओ की तरफ से फाइलों को खंगाला जा रहा है, जिसका टैक्स बकाया है, उन पर शिकंजा कसा जा रहा है। जल्द ही इसमें आरटीओ आॅफिस को सफलता मिलेगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
6
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments