Saturday, April 13, 2024
HomeUttarakhand NewsDehradunचालक की लापरवाही तथा अनियंत्रित गति सीमा ही मुख्यतः सड़क दुर्धटनाओं हेतु...

चालक की लापरवाही तथा अनियंत्रित गति सीमा ही मुख्यतः सड़क दुर्धटनाओं हेतु जिम्मेदार

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

देहरादून: चन्दन राम दास, मंत्री, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण, परिवहन, लघु एवं मध्यम उद्धम, खादी एवं ग्रामोद्योग, उत्तराखण्ड सरकार द्वारा नितिन गडकरी, केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री की अध्यक्षता में नई दिल्ली में सभी राज्यों और संघ ऱाज्य क्षेत्रों के परिवहन मंत्रियों तथा परिवहन सचिवों की बैठक में उत्तराखण्ड राज्य का प्रतिनिधित्व किया गया।

उक्त बैठक में मुख्यतः मोटर वाहनों की गति सीमा की समीक्षा के लिए गठित समिति की सिफारिशों पर चर्चा, वाहन फिटनेस परीक्षण अवसंरचना पर चर्चा, इलेक्ट्रिक वाहनों के वित्तपोषण पर चर्चा तथा लर्निंग लाइसेंस के स्वचालन आदि बिन्दुओं पर गहन चर्चा की गयी।

चन्दन राम दास, मंत्री द्वारा उक्त बैठक में अवगत कराया कि पिछली दुर्धटनाओं का परीक्षण करने पर संज्ञान में आया है कि चालक की लापरवाही तथा अनियंत्रित गति सीमा ही मुख्यतः सड़क दुर्धटनाओं हेतु जिम्मेदार है। उक्त के सम्बन्ध तथा चारधाम यात्रा के तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के दृष्टिगत उत्तराखण्ड में वाहनों हेतु ग्रीन कार्ड जारी कर दिये गये हैं तथा वाहनों की गति सीमा नियंत्रण हेतु स्पीड गवर्नर अनिवार्य कर दिये गये है।

अभी तक लगभग 1,10,592 वाहनों में स्पीड गवर्नर लगा दिये गये हैं। उक्त के अतिरिक्त रियल टाइम मॉनिटरिंग हेतु राज्य में 42993 सार्वजनिक सेवा वाले एटीएस 140 मानक यन्त्र स्थापित कर दिये गये हैं तथा अतिसंवेदनशील 10 स्थानों पर एएनपीआर कैमरे भी स्थापित कर दिये गये हैं।

मंत्री जी द्वारा यह भी आश्वासन दिया गया कि राज्य सरकार दुर्धटनाओं की रोक हेतु केन्द्र सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों तथा मानकों के क्रियान्वयन हेतु दृढ़संकल्प है।
बैठक में सभी राज्यों के परिवहन मंत्री तथा सचिव द्वारा प्रतिभाग किया गया। उत्तराखण्ड राज्य से सचिव, परिवहन द्वारा प्रतिभाग किया गया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments