Sunday, May 26, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutहिजाब पहनकर आई छात्रा को परीक्षा देने से रोका, की अभद्रता

हिजाब पहनकर आई छात्रा को परीक्षा देने से रोका, की अभद्रता

- Advertisement -
  • आईआईएमटी कॉलेज का मामला, बोली-छात्रा पिता को बंधक बनाकर पीटा
  • वर्ष 2014 में किया था भारत का प्रतिनिधित्व, एसएसपी से की शिकायत

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कर्नाटक से शुरू हुए हिजाब विवाद की आंच मंगलवार को मेरठ तक पहुंच गई है। मिस वर्ल्ड (मुस्लिम)-2014 में हिजाब पहनकर भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली नाजरीन अली को एसएससी की परीक्षा में बैठने से रोक दिया। विरोध करने पर यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों ने नाजरीन और उसके पिता की बुरी तरीके से पिटाई भी की। नाजरीन का आरोप है कि उसके साथ अभद्र व्यवहार किया गया और उसके पिता को यूनिवर्सिटी में बंधक बना लिया गया। नाजरीन ने मंगलवार को एसएसपी आॅफिस पहुंचकर शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की है।

नाजरीन अली थाना लिसाड़ी गेट क्षेत्र के रशीदनगर की रहने वाली हैं। वर्ष 2014 में इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में मिस वर्ल्ड (मुस्लिमा) प्रतिायोगिता हुई थी, जिसमें नाजरीन अली ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था। यह प्रतियोगिता पूरी तरह इस्लामिक थी। इसमे 25 देशों की करीब 500 लड़कियों ने हिस्सा लिया था। इसमें वह अकेली भारतीय थीं। प्रतियोगिता में नाजरीन अली रनरअप रही थीं। यह खिताब जीतने वाली नाजरीन पहली भारतीय महिला हैं।

हिजाब में देख गेट पर ही गार्ड ने रोक लिया

नाजरीन अली ने बताया कि वह सोमवार को मेन डिवाइडर रोड स्थित आईआईएमटी में एसएससी की परीक्षा देने गई थी। वह हिजाब में थी, आरोप है कि गेट पर मौजूद गार्ड ने हिजाब देख उसे अंदर जाने से रोक दिया। जब इसका कारण पूछा गया तो वह कोई जवाब नहीं दे सका। कहा कि साथ में उसके पिता महमूद अली भी थे। जब विरोध किया तो यूनिवर्सिटी कर्मचारियों ने उसके पिता को अपने कब्जे में लेकर अंदर ले गए। उनके साथ बुरी तरह से पिटाई की। जब उसने विरोध किया तो उसके साथ अभद्र व्यवहार किया गया।

जांच के बाद कार्रवाई का दिया आश्वासन

मंगलवार सुबह नाजरीन अली अपने पिता के साथ एसएसपी कार्यालय पहुंची। नाजरीन ने इस मामले की शिकायत कप्तान से की। एसएसपी की गौर मौजूदगी में बैठे अधिकारी ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है। वहीं, नाजरीन का कहना था कि युवतियों के पर्दे में रहने में कोई परहेज नहीं है। हिजाब से लड़कियों की तरक्की में किसी तरह की रुकावट नहीं आती है, बल्कि इससे उनका मनोबल ही बढ़ता है। वह लड़कियों के लिए कुछ बेहतर करना चाहती हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments