Wednesday, June 16, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutपरिवहन निगम को रोजाना हो रहा लाखों का नुकसान

परिवहन निगम को रोजाना हो रहा लाखों का नुकसान

- Advertisement -
0
  • यात्रियों की संख्या कम होने से राजस्व पर आया भारी संकट

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कोरोना संक्रमण के चलते सरकारी विभागों का भी राजस्व खतरे में आता जा रहा हैं। रोडवेज पर इन दिनों न के बराबर ही यात्री यात्रा कर रहे हैं। ऐसे में रोजाना लाखों का नुकसान निगम को हो रहा है।

गौरतलब कि संक्रमण के लगे लॉकडाउन में रोडवेज बसों का संचालन की छूट दी गई है। ऐसे में बसे तो चल रही हैं लेकिन यात्री नहीं मिल पा रहे हैं। जहां लाखों की संख्या में यात्री यात्रा करते हैं, वहीं अब इक्का-दुक्का यात्री ही दिखाई देते हैं।

परिवहन निगम की दी हुई गाइडलाइन के अनुसार रोजाना रोडवेज बसों को दौड़ाया जा रहा है। वहीं, सक्रमण का खतरा भी शहर में बढ़ता जा रहा है। ऐसे में प्रदेश सरकार द्वारा लॉकडाउन को एक सप्ताह के लिए और बढ़ा दिया गया है। बढ़ते कोरोना मामलों को देखते हुए पहले सिर्फ साप्ताहिक लॉकडाउन लगाया गया था, जिसके बाद इसकी समय सीमा लगातार बढ़ाई जा रही है।

ऐसे में लोगों का घरों से निकलना भी बंद हो गया है। जिससे रोजाना यात्रियों की भीड़ से खचाखच भरे रहने वाले बस स्टैंड अब सुनसान नजर आने लगे हैं। शहर के दो मुख्य बस स्टैंड भैंसाली और सोहराब गेट बस अड्डों पर इन दिनों सिर्फ खाली बसें ही खड़ी नजर आती हैं। सिर्फ कुछ गिने चुने यात्री ही बसों में सफर करते हैं। वहीं, अन्य बसों करे शेड्यूल के मुताबिक खाली ही दौड़ाया जा रहा है।

ऐसे में यात्रियों से आने वाला राजस्व तो कम हो ही रहा हैं, वहीं रोडवेज को नुकसान भी झेलना पड़ रहा है। सिर्फ भैंसाली बस स्टैंड के ही आंकड़ों पर नजर डाले तो यहां से रोजाना संचालित होने वाली बसों की संख्या कुल 190 है। वहीं, प्रतिदिन निगम को होने वाला रेवेन्यू 10 लाख रुपयों से भी ज्यादा है। ऐसे में इन दिनों भैंसाली अड्डे से ही परिवहन निगम को रोजाना 10 लाख रुपयों से ज्यादा का फटका पड़ रहा है।

वहीं, बढ़ते संक्रमण के चलते सभी अंतर्राज्यीय बसों का संचालन बंद किया गया है। प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार इंटरस्टेट चलने वाली बसों का अब प्रदेश के भीतर ही रीशेड्यूल कर दिया गया है। ऐसे में इसका असर भी परिवहन निगम के राजस्व पर कहीं न कहीं देखने को मिलेगा।

सभी यात्रियों की होगी थर्मल स्कैनिंग

रोडवेज बसों से यात्रा करने वाले सभी यात्रियों की अब थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। इसके बाद ही किसी भी यात्री को सफर करने दिया जाएगा। इसके निर्देश परिवहन निगम द्वारा जारी कर दिए गए हैं। इसके लिए सभी चालक-परिचालकों को थर्मल स्कैनर दिए जाएंगे। जिसकी जिम्मेदारी परिचालक की होगी कि वह यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग कर ही बस में सवार करे।

साथ ही सभी यात्री गाइडलाइन के मुताबिक ही यात्रा कर रहे हैं इसका भी ध्यान रखना होगा। इसके अलावा रोडवेज कर्मियों की भी थर्मल स्कैनिंग करने के दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। रोडवेज एसएसअई देवेंद्र कुमार ने बताया कि सभी कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग के भी निर्देश दिए गए हैं।

ऐसे में यदि किसी भी व्यक्ति का तापमान ज्यादा पाया जाता है तो उसे तुरंत जांच करने के निर्देश दिए जाएंगे। वहीं, बस स्टैंड पर भी स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा यात्रियों की जांच लगातार की जा रही है। स्टैंड पर एंटीजन और आरटीपीसीआर दोनो तरह की जांच हो रही है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments