Wednesday, October 27, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकैंट के बे-रौनक चौराहों को नींद टूटने का इंतजार

कैंट के बे-रौनक चौराहों को नींद टूटने का इंतजार

- Advertisement -
  • तमाम चौराहों से सौंदर्यीकरण सामाग्री चोरी या फिर हो गयी नष्ट

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कैंट के बे-रौनक पड़े चौराहों को बोर्ड के अफसरों व सदस्यों की नींद टूटने का इंतजार है। जिन चौराहों पर सौंदर्यीकरण के नाम पर करीब साल भर पहले भारी भरकम रकम खर्च की गयी थी, वो इन दिनों बदहाल हैं।

सौंदर्यीकरण तो छोड़िये जनाब! वहां से सामान तक चोरी या फिर नष्ट हो गए हैं। कैंट बोर्ड के सदस्यों की यदि बात की जाए तो सौंदर्यीकरण के बाद इन्हीं चौराहों पर खड़े होकर कभी सेल्फी लिया करते थे, लेकिन अब कोई सदस्य वहां जाकर भी नहीं झांकता।

बकौल सदस्य अफसरों तो कमरों से ही नहीं निकलते, लेकिन सदस्य तो पूरे कैंट में घूमते हैं तो सवाल उठता है क्या उनकी नजर भी कभी कैंट की शान माने जाने वाले इन चौराहों व कुछ खास जो अब बदहाल हो चुकी हैं सड़कों पर नहीं पड़ती है। या फिर यह मान लिया जाए कि सदस्य सिर्फ ठेकेदारों की चिंता मे इन दिनों दुबले हुए जा रहे हैं।

पब्लिक से जुड़े मामलों से उनका कोई सरोकार ही नहीं रह गया है। कैंट के सौंदर्यीकरण स्थलों की बात की जाए तो उनकी लंबी फेरिस्त है, लेकिन यहां जनवाणी कुछ खास और बेहद चर्चित स्थानों का ही जिक्र कर रहा है।

पेड़ पर बैठा तेंदुआ हो गया चोरी !

करीब साल भर पहले जिन स्थानों का सौंदर्यीकरण किया गया था। उनमें आयुक्त आवास चौराहे से माल रोड की ओर जाने वाले रास्ते पर बु्रक स्ट्रीट चौराहे पर आर्टिफिशल पेड़ लगाकर उस पर एक तेंदुआ भी बैठाया गया था। आसपास काफी डिजाइनर वर्क कराया गया था।

पिछले काफी समय से कैंट बोर्ड का वो तेंदुआ भी गायब हो है। चोरी हो गया या फिर क्या कारण हुआ इसका तो पता नहीं, लेकिन इस स्थान को अब कैंट बोर्ड के अफसरों और सदस्यों की नींद टूटने का इंतजार है।

चलने लायक नहीं सड़क

बु्रक स्ट्रीट के सामने वाला मार्ग की बेहद बुरी हालत है। वह चलने लायक नहीं रह गया है। यह सड़क मवाना रोड को माल रोड से लिंक करती हैं। इसके अलावा तोपखाना आरए बाजार का बाइपास भी इसी से सटा हुआ है।

हालांकि इस बाइपास मार्ग पर सिविल वाहनों की आवाजाही फौज ने बंद कर दी है, लेकिन उसके बाद भी ये मार्ग बेहद महत्वपूर्ण है। दिन भर इससे सैकड़ों की संख्या में वाहन गुजरते हैं। इसके समीप ही सप्लाई डिपो मार्ग है, वह भी बेहद बुरी अवस्था में है।

माल रोड अब नहीं रह गयी वीआईपी

माल रोड को हासिल वीआईपी मार्ग का दर्जा अब उससे छीन लिया गया है। जगह जगह से क्षतिग्रस्त माल रोड को वीआईपी कहना अब वीआईपी शब्द का अपमान ही होगा।

माल रोड पर थाना लालकुर्ती वाला चौराहा भी पुरासा हाल नहीं। वहां डीईओ कार्यालय के समीप ओवर हेड किसी भी समय गिर सकता है। फिलहाल यह किसी बड़े हादसे को न्योता देता नजर आता है।

इसके अलावा यहां लगायी गयी लाइटें भी चोरी हो गयी। क्योंकि अब ये लाइटें जहां लगी थीं, वह स्थान खाली पड़ा है। इनके स्टैंड भी लोग उखाड़कर ले गए।

सेल्फी प्वाइंट पर चर रही गाय

एसजीएम गार्डन के समीप जिस स्थान पर सौंदर्यीकरण करने के बाद के कैंट अफसरों ने खूब ढोल बजाए थे। जमकर वाहवाही लूट थी। उसको सेल्फी प्वाइंट के तौर पर प्रचारित किया गया था। उस स्थान पर अब गाय चर रही हैं। आवारा पशुओं का चारागाह के रूप से सेल्फी प्वाइंट तब्दील हो गया है।

किसी को भी अपने सेल्फी प्वाइंट की सुध लेने की फुर्सत नहीं। सड़कों की बदहाली की यदि बात की जाए तो कैंट प्रशासन का कहना है कि फिलहाल बजट की कमी है, लेकिन यदि कैंट बोर्ड के सदस्यों की बात की जाए तो भाजपा का कब्जा है। प्रदेश और केंद्र में भाजपा की सरकार है।

बोर्ड के भाजपाई सदस्य चाहे तो सांसद या फिर विधायक निधि से पूरे कैंट की सड़कें बना सकते हैं, लेकिन ऐसा किया नहीं जा रहा है। सदस्यों की यदि बात की जाए तो तमाम सदस्य सिर्फ अपने करीबी ठेकेदारों की चिंता में घुले जा रहे हैं। कैंट बोर्ड और यहां की पब्लिक से मानों उनको कोई सरोकार नहीं रह गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

1 COMMENT

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments