Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
HomeCoronavirusकोरोना ने छीन ली ‘धार्मिक आजादी’

कोरोना ने छीन ली ‘धार्मिक आजादी’

- Advertisement -
  • हज से लेकर उमरा तक पर पड़ा इसका साया
  • भारत सहित पूरी दुनिया से घट गई सऊदी पहुंचने वालों की संख्या

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: वैश्विक महामारी कोरोना ने जहां लोगों का पूरा जीवन ही बदल कर रख दिया है वहीं दुनिया भर के लोगों से उनकी धार्मिक आजादी भी छीन ली है। कोरोनाकाल से पूर्व भारत सहित विभिन्न देशों से बड़ी संख्या में लोग हज व उमरा के लिए सऊदी अरब पहुंचते थे। हज जहां साल में एक बार होता है। वहीं उमरा के लिए कोई बनदिश नहीं होती। मार्च-अप्रैल 2020 के बाद से जैसे जैसे लोगों का लाइफ स्टाइल बदला तो इसका सीधा असर लोगों की धार्मिक आस्था पर भी पड़ा।

हज व उमरा के लिए सऊदी अरब पहुंचने वाले लोगों के ग्राफ में अचानक गिरावट आ गई। यदि टूर एंड ट्रेवल्स एजेंसियों की मानें तो यह संख्या 40 से 50 प्रतिशत तक घट गई। मदरसा जामिया मदनिया के मोहतमिम व हज तथा उमरा के लिए टूर आॅर्गेनाइजर कारी अफ्फान कासमी के अनुसार कोरोना ने हज व उमरा पर कई प्रकार की बंदिशें लगा दी हैं।

कारी अफ्फान बताते हैं कि एक अनुमान के अनुसार कोरोनाकाल से पहले सऊदी अरब में हर समय लगभग 30-35 लाख आदमी उमरा खुदा के घर के दीदार के लिए मौजूद रहते थे यानि कि उमरा के फराइज को अंजाम देते थे। कोरोना काल के बाद इस संख्या में तेजी से गिरावट आई और यह घटकर लगभग 15 से 20 लाख ही रह गई।

यही स्थिति हज के साथ भी है। 2020 में कोरोना काल से पूर्व जहां भारत सहित दुनिया भर से लगभग 60 से 70 लाख लोग हर साल हज के लिए सऊदी पहुंचते थे। वहीं कोरोना काल के बाद यह संख्या घटकर अब लगभग 30 से 40 लाख तक सिमट गई है।

07 20

कुछ और जानकारों का मानना है कि कोरोनाकाल के बाद हज व उमरा खर्च भी काफी बढ़ गया जिस कारण भी लोगों की संख्या में गिरावट दर्ज की गई। पूर्व में जहां एक व्यक्ति का उमरा 35 से 40 हजार रुपये में भी हो जाता था। वहीं इसके लिए अब 80 हजार रुपये से एक लाख रुपये तक खर्च करना पड़ रहा है। इसी प्रकार जहां हज के लिए प्रति व्यक्ति लगभग ढाई लाख रुपये का खर्च आता था

वहीं कोरोनाकाल के बाद इसका खर्च भी बढ़कर चार से साढ़े चार लाख रुपये हो गया है। जबकि प्राइवेट टूर एंड ट्रेवल्स एजेंसियों के माध्यम से यदि आप हज यात्रा पर जा रहे हैं तो उसके लिए आपको कम से कम पांच लाख रुपये प्रति हज यात्री वहन करने होंगे। कुल मिलाकर कोरोनाकाल का असर साफ तौर पर हज यात्रा पर पड़ा है।

अब सभी पाबंदियां खत्म: कारी अफ्फान

प्राइवेट टूर एंड ट्रेवल्स एजेंसी के माध्यम से हज व उमरा टूर आॅर्गेनाइज करने वाले कारी अफ्फान कासमी कहते हैं कि भले ही भारत में कोरोना के केस अभी भी बढ़ रहे हों, लेकिन दुनिया के कई देशों में इसका प्रभाव अब कम हो गया है। इसी वजह से सऊदी अरब उमरा व हज के लिए आने वाले लोगों के लिए सभी बंदिशें खत्म कर दी गई हैं। कारी अफ्फान के अनुसार वहां जाने वाले लोग अब खाना ए काबा का दीदार करने के साथ-साथ उसे चूम भी सकते हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments