Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMuzaffarnagarबालिकाओं, वंचित वर्गों व दिव्यांगों को शिक्षा से जोड़ने पर दिया जोर

बालिकाओं, वंचित वर्गों व दिव्यांगों को शिक्षा से जोड़ने पर दिया जोर

- Advertisement -
  • जिला पंचायत परिसर में स्थित चौधरी चरण सिंह सभागार में उत्तर प्रदेश सरकार की योजनाओं के सम्बन्ध में जागरुकता बढाने व माध्यमिक विद्यालयो में पठन पाठन के स्तर में वृद्धि करने के उद्देश्य से जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई प्रधानाचार्य संगोष्ठी
  • कार्यशाला में जिला मुजफरनगर के सभी बोर्ड के माध्यमिक विद्यालयों के 260 प्रधानाचार्याे ने की सहभागिता

जनवाणी संवाददाता |

मुजफ्फरनगर: सोमवार को जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह ने कहा सभी विभागीय योजनाओं के सम्बंध में जागरूकता बढ़ाए जिससे अधिक से अधिक पात्र विद्यार्थियों को उनका लाभ मिल सके। प्रत्येक विद्यालय नवाचार को बढ़ावा देते हुए राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप शिक्षण कराएं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शिक्षक को विभिन्न आईसीटी टूल्स को अपने दैनिक शिक्षण में एकीकृत करना चाहिए जिससे प्रत्येक बालक को उनकी क्षमता के अनुरूप आसानी से विकसित किया जा सके । मुख्य विकास अधिकारी संदीप भागिया ने कहा कि आज के तकनीकी युग मे समाज व राष्ट्र के प्रति विद्यालय और शिक्षकों की जिम्मेदारी पहले की अपेक्षा और अधिक हो गई है, अब हमें वैश्विक डिजिटल अन्तर को भी कम करने की आवश्यकता है।
जिला समाज कल्याण अधिकारी विनीत मलिक द्वारा मुख्य मन्त्री अभ्युद्य योजना के बारे में विस्तृत रुप में बताते हुए कहा गया कि अभ्युद्य योजना का मुख्य उद्देश्य सिविल सेवाओं, एनडीए, इनजीनियरिंग व मेडिकल प्रवेश परीक्षा आदि की तैयारी कर रहे छात्रों को निशुल्क कोचिंग प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से वह छात्र जो आर्थिक स्थिति से कमजोर होने के कारण परीक्षा की कोचिंग नहीं ले पाते है उन्हें निशुल्क कोचिंग दी जा रही है।
जिला विद्यालय निरीक्षक गजेंद्र कुमार ने परिषदीय परीक्षाओ में जिले के माध्यमिक विद्यालयो की स्थिति के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा की और माध्यमिक विद्यालयो मे पठन पाठन के स्तर में उन्नति हेतु विचार व्यक्त किये। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की योजनाओ व प्रोजेक्ट अलंकार के सम्बन्ध में भी जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा विस्तृत रुप में बताया गया। उन्होंने कहा कि विशेष रूप से बालिकाओं, वंचित वर्गों व दिव्यांग जनों को शिक्षा से जोड़ने पर और अधिक प्रयास किए जाने चाहिए।
प्रधानाचार्य डा विकास कुमार द्वारा इंस्पायर अवार्ड मानक योजना और डिजिटल शिक्षक कार्यशाला की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा गया कि इन्सपायर अवार्ड मानक योजना का मुख्य उद्देश्य 10 से 14 उम्र के बच्चों को नवाचार की ओर प्रेरित करना है ।
कार्यशाला में जिला अल्पसंख्यक अधिकारी मैत्री रस्तौगी द्वारा अल्पसंख्यक वर्ग के लिए छात्रवृत्ति जिला विकास अधिकारी द्वारा घर घर तिरंगा कार्यक्रम प्रवक्ता विपिन त्यागी द्वारा आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति योजना व जिला प्रोबेसन अधिकारी सतीश गौतम द्वारा सुमंगला योजना बेटी बचाओ बेटी पढाओ मिशन शक्ति कार्यक्रम की विस्त्तृत जानकारी दी गई।
कार्यक्रम का संचालन प्रधानाचार्य डा विकास कुमार व अध्यक्षता जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह द्वारा की गई। कार्यशाला में प्रधानाचार्य ब्रिजेश कुमार, ललित मोहन गुप्ता, विनय यादव, विजय कुमार शर्मा, सुधीर त्यागी, संत कुमार, जितेन्द्र कुमार, मीनाक्षी आर्य, अभिषेक गर्ग आदि सम्मिलित रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments