Monday, September 20, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurकुपोषण मिटाने को मुहिम तेज

कुपोषण मिटाने को मुहिम तेज

- Advertisement -
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर दे रहीं पोषण संबंधी जानकारी

जनवाणी ब्यूरो |

सहारनपुर: राष्ट्रीय पोषण माह जनपद में जोर-शोर से चलाया जा रहा है। शासन के निदेर्शों के क्रम में बच्चों, गर्भवती व धात्री महिलाओं को सुपोषित करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इसमें अहम भूमिका निभा रही हैं। सुपोषित आहार का सुझाव देकर पोषण के प्रति प्रेरित कर रही हैं, ताकि कुपोषण की काली छाया को पूरी तरह से मिटाया जा सके।

जिला कार्यक्रम अधिकारी आशा त्रिपाठी ने बताया – हरा साग हर सीजन में खाना चाहिए। इनकी तासीर गर्म होती है। इसलिए सर्दियों में इन्हें खाने से बहुत फायदे मिलते हैं। ज्यादातर लोग सरसों का साग, मेथी का साग और पालक खाना ही पसंद करते हैं लेकिन बाजार में और भी कई तरह के साग मिलते हैं, जो सेहत के लिए बहुत अच्छे हैं और लोगों को कई बीमारियों से भी बचाते हैं।

बकौल आशा त्रिपाठी कलमी साग के सेवन से वजन कम किया जा सकता है। यह भारत में काफी मशहूर है। यह कम कैलोरी वाला साग विटामिन, एंटीआक्सीडेंट और मिनरल्स से भरपूर है। इतना ही नहीं आयरन की कमी से होने वाले आस्टियोपोरोसिस और एनीमिया को रोकने में भी यह कारगर है। उन्होंने बताया आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर महिलाओं को हरी साग सब्जियों के साथ-साथ सहजन के महत्व के बारे में भी बता रही हैं।

सहजन का सेवन आशा त्रिपाठी ने बताया -सहजन के पत्ते विटामिन, प्रोटीन और अमीनो एसिड से भरपूर होते हैं। इसके सेवन से गठिया, डायबिटीज, दिल संबंधी बीमारी, सांस संबंधी बीमारी, त्वचा और पाचन की समस्याएं आसानी से दूर होती हैं।

पालक का साग- पालक में आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होता है। इसका सेवन त्वचा, हड्डियों और बालों को स्वस्थ रखता है। सर्दियों में इसका सेवन करने से बीमारियां कम होती हैं। डायबिटीज के मरीजों को अक्सर पालक खाने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह मधुमेह को नियंत्रित रखता है।

मेथी सेहत के लिए बेहद लाभकारी है। मेथी के साग से पराठे भी बनाए जाते हैं। इसमें लो कैलोरी वाले पत्तेदार साग मे ट्राइगोनेलिन और डायोसजेनिन जैसे एंटीआक्सीडेंट होते हैं, जो कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने में मददगार होते हैं। वजन कम करने में भी यह साग मदद कर सकता है।

बथुआ में पाटेशियम, फास्फोरस, जिक, कैल्शियम और अन्य एंटीआक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं। यह साग रक्त शोधक का काम करता है। इसमें मौजूद अमीनो एसिड के कारण यह पचने में आसान है। इसके नियमित सेवन से कई बीमारियों से दूर रह सकते हैं।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments