Monday, January 24, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsबकाया देने के डर से लेली खुद की जान

बकाया देने के डर से लेली खुद की जान

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: मैं बीसी चलाता था। लोगों ने बीसी का रुपया उठा कर किस्तें जमा करना बंद कर दिया। न तो बकायेदार रुपये दे रहे हैं और न ही मैं लोगों का बकाया चुका पा रहा हूं।

मैं तंग आ चुका हूं। आए दिन मुझे व मेरे परिवार को टॉर्चर करते हैं। पत्नी और बेटियों को जिंदा जलाने की धमकी देते हैं।

मेरा घर पर ही छोटा सा जनरल स्टोर है…, डर के कारण मैं दुकान पर भी नहीं बैठ पा रहा…। मैं बहुत डिप्रेशन में हूं…। मेरे पास अब खुदकुशी के सिवाय कोई रास्ता नहीं बचा है…।

कुछ इसी तरह के मार्मिक शब्दों को रविवार को वीडियो में कैद करने के बाद उसे फेसबुक पर वायरल कर रेलबाजार सुजातगंज निवासी बीसी संचालक मो. राशिद (45) ने फांसी लगा ली।

इलाके की नई बस्ती निवासी मो. राशिद घर पर ही दुकान चलाते थे। परिवार में पत्नी शबा परवीन, दो बेटियां आरिशा (19) व बुशरा (15) हैं। रविवार सुबह सभी लोग अपने काम में लगेे थे। इस बीच राशिद ने पहली मंजिल पर स्थित कमरे में पंखे के कुंडे से रस्सी के सहारे फांसी लगा ली।

कुछ देर बाद पत्नी कमरे में पहुंची तो पति का शव फंदे से झूलता देख चीख पड़ी। कमरे में शव के पास ही राशिद ने एक सुसाइड नोट भी लिख कर रखा था।

सुसाइड नोट में राशिद ने बीसी के रुपये हड़पने वाला का जिक्र किया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फांसी से मौत की पुष्टि हुई। परिजनों की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन पुलिस ने दिया है।

मैं एक अच्छा पिता व पति नहीं बन पाया…

सुसाइड नोट में मो. राशिद ने लिखा कि ‘मेरे मरने के बाद परिवार की हिफाजत की जाए…। मैं एक अच्छा पिता व पति नहीं बन सका…मुझे माफ कर देना। मुझे उम्मीद है कि पुलिस व प्रशासन मेरे दुनिया से जाने के बाद मेरे बच्चों के साथ इंसाफ व मदद करेगी’।

वीडियो में टॉर्चर करने वाले 10 लोगों के नाम

मो. राशिद ने वायरल किए गए वीडियो में टॉर्चर करने वाले 10 लोगों के नाम लिए हैं। इनमें से गब्बर से 1.80 लाख, जुगनू से 55 हजार रुपये, शेरू से 45 हजार रुपये व कमरुल से 1.27 लाख रुपये लेने की बात कही।

इनके अलावा इकराम, इस्लामुद्दीन, अशफाक  सब्जी वाला, रेहाना, मेहताब चंदारी वाले, सद्दाम बेगमपुरवा केरहने वाले, आयूब आदि पर भी आरोप लगाया है।

पूर्व में भी दो बार कर चुके थे खुदकुशी का प्रयास

पत्नी के अनुसार राशिद को शुगर और बीपी की शिकायत थी। वो करीब दो माह पूर्व भी ट्रेन से कटने का प्रयास कर चुके थे। राहगीरों ने बचा लिया था।

करीब एक  माह पूर्व घर पर ही फांसी लगाने का प्रयास किया, जिस पर परिजनों ने देख कर रोक लिया था। रविवार की सुबह राशिद अन्य दिनों की तरह सुबह बाहर से टहल कर लौटे थे। इसके बाद ही खुदकुशी कर ली।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments