Thursday, January 27, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutठेकेदार ने बना दी भ्रष्टाचार की ग्रीन बेल्ट

ठेकेदार ने बना दी भ्रष्टाचार की ग्रीन बेल्ट

- Advertisement -
  • पक्की ईंटों की जगह लगा दी कच्ची ईंटों, अधिकारी अनजान, कब्जाधारियों के लिये छोड़ दी गई जगह

जनवाणी संवाददाता  |

मेरठ: शास्त्रीनगर में बनाई जा रही ग्रीन बेल्ट में भ्रष्टाचार हो रहा है। यहां ग्रीन बेल्ट के निर्माण में दीवारों में कच्ची ईंटे लगाई जा रही है जिससे सरकार को चूना लगाया जा रहा है, लेकिन अधिकारी यहां आंखे मूंदे हुए हैं। ठेकेदार ने यहां महज कुछ ही दिनों में ग्रीन बेल्ट के लिये दोनों साइड बाउंड्री वॉल खड़ी कर दी है।

वॉल खड़ी करने में भी पक्षपात किया जा रहा है। ठेकेदार ने यहां कुछ दुकानदारों के सामने बाउंड्री वॉल का निर्माण नहीं किया। जिससे यहां अवैध कब्जा हो गया है। उधर, कच्ची ईंटों का इस्तेमाल कर यहां निर्माण कार्य चल रहा है और कोई जांच करने वाला नहीं है।

विकास कार्यों के नाम पर यहां बड़ा खेल होता है। शहर का कोई भी विभाग हो, यहां ऊपर से नीचे तक बिना रिश्वत कोई कार्य नहीं हो पाता। इसके लिये चाहे जनता की जान के साथ खिलवाड़ ही क्यों न करना पड़े।

हर विभाग में अधिकारी अपने चहेते ठेकेदारों को विकास कार्य से संबंधित टेंडर दिलवाते हैं। फिर चाहे वह ठेकेदार कितना भी खराब कार्य क्यों न करें।

यह हाल हाल ही में देखने को भी मिला था। जहां कई निर्माण कार्यों में लापरवाही सामने आई थी। अब एक बार फिर लापरवाही की जा रही है। हम बात कर रहे हैं। शास्त्रीनगर तेजगढ़ी चौराहे से लेकर हापुड़ चुंगी तक बनने वाली ग्रीन बेल्ट की।

यहां पिछले कई माह से ग्रीन बेल्ट को बनाये जाने का कार्य किया जा रहा है, लेकिन इस ग्रीन बेल्ट के दोनों ओर बनने वाली बाउंड्री वॉल में घटिया निर्माण सामग्री इस्तेमाल की जा रही है और अधिकारी आंखे मूंदे बैठे हैं।

कच्ची ईंटों से चल रही चिनाई

ठेकेदार इस कदर लापरवाही बरत रहा है कि निर्माण कार्य में कच्ची ईंटों का इस्तेमाल कर रहा है। यह खेल रात के समय चलता है। रात के समय ट्रक आते हैं और ईंटों को उतार कर चले जाते हैं। सुबह इन ईंटों को निर्माण कार्य में लगा दिया जाता है।

यहां कार्य करने वाले लोगों का कहना है कि ठेकेदार द्वारा पक्की ईंटे ही तय करके लाने के लिये कहा जाता है, लेकिन ईंट भट्ठा वाला ठेकेदार यहां रात में कच्ची ईंटे उतारकर चला जाता है। फिर निर्माण कार्य में लगे कर्मचारी उन्हीं ईंटों का इस्तेमाल करते हैं और चिनाई करा देते हैं। जबकि यहां अभी तक एक भी अधिकारियों ने जाकर मौके पर निरीक्षण किया। अधिकारियों की सांठगांठ से ही इस प्रकार के कार्यों को किया जाता है।

ग्रीन बेल्ट की जमीन पर दुकानदारों का कब्जा

यहां कहने को तो ग्रीन बेल्ट के लिये निर्माण कार्य चल रहा है, लेकिन यहां ठेकेदार ने अपने फायदे के लिये यहां दुकानदारों को लाभ पहुंचाना शुरू कर दिया है। ठेकेदार ने उन दुकानदारों के सामने बाउंड्री वॉल का निर्माण नहीं किया जो अपने फायदे के लिये इस जमीन का इस्तेमाल कर रहे हैं।

कुछ दुकानदारों ने यहां अपनी गाड़ियों को खड़ा कर दिया है। जोकि सेल परचेज करने का कार्य किया जाता है। इसके अलावा कई ठेले व रेहड़ी वालों ने भी यहां जमीन कब्जा रखी है।

दुकानदारों ने इसे ग्रीन बेल्ट की जगह पार्किंग बेल्ट बना दिया है और कोई देखने वाला नहीं है। इससे प्रशासन को लाखों करोड़ों रुपये का नुकसान पहुंचाया जा रहा है, लेकिन कोई देखने वाला नहीं है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments