Wednesday, January 26, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसाकेत में अवैध निर्माण से क्षेत्रवासियों में आक्रोश

साकेत में अवैध निर्माण से क्षेत्रवासियों में आक्रोश

- Advertisement -
  • एमडीए का दावा निर्माण का मानचित्र स्वीकृत
  • लोगों का आरोप आवासीय में किया जा रहा व्यावसायिक निर्माण

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: साकेत स्थित मनोरंजन पार्क कालोनी के लोगों में अवैध निर्माण किए जाने से आक्रोश है। कालोनी में पुराने मकान को तोड़कर किए जा रहे नए व्यवसायिक निर्माण पर लोगों ने नाराजगी जताई है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि इससे कालोनीवासियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसको लेकर पहले भी प्रशासनिक अधिकारियों से शिकायत की जा चुकी है, लेकिन कोई सुनवाई अभी तक नहीं हुई है।

उधर, एमडीए के जोनल अधिकारी विपिन कुमार ने अवैध निर्माण को सही ठहराया है। इसका मानचित्र स्वीकृत होने की बात कही हैं। मनोरंजन पार्क कालोनीवासियों ने इससे परेशान होकर अपने घरों पर मकान खाली करने के पोस्टर तक चस्पा कर दिए हैं। बुधवार को भी क्षेत्रवासियों ने विरोध करते हुए नारेबाजी की।

उन्होंने बताया कि पुराने मकान को तोड़कर व्यवसायिक निर्माण कराया जा रहा है, जबकि मानचित्र आवासीय में स्वीकृत है, जोकि अवैध है। इस संबंध में एमडीए अधिकारियों और मंडलायुक्त को भी शिकायत की गई है, लेकिन एमडीए इंजीनियरों ने अभी तक कोई कार्रवाई इसमें नहीं की है।

इस वजह यहां पर जाम की भी समस्या उत्पन्न हो जाती है। यदि जल्द ही कोई कार्रवाई अधिकारियों द्वारा नहीं की जाती है तो मजबूरन धरना प्रदर्शन करना होगा। डा. गौरव मित्तल ने कहा कि यहां खुलेआम अवैध निर्माण कराया जा रहा है।

इसके विरोध में मानसरोवर कालोनी, मनोरंजन पार्क कालोनी और साकेत कालोनी के लोग प्रदर्शन करेंगे। अवासीय क्षेत्र में व्यवसायिक निर्माण होगा तो काफी दिक्कत होगी। एमडीए और नगर निगम प्रशासन इस पर आंखे मूंदे बैठा है। प्रमोद का कहना है कि निर्माणकर्ता कॉमर्शियल निर्माण यहां पर कर रहा है, जिसको अभी तक गैराज का निर्माण बताया जा रहा था, जो दरअसल झूठ है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments