Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutयोगेश भदौड़ा के शूटर का मर्डर

योगेश भदौड़ा के शूटर का मर्डर

- Advertisement -
  • रात को सोते हुए धारदार हथियारों से काट डाला गैंगस्टर को, कमरे में मिला रक्तरंजित शव

जनवाणी संवाददाता |

रोहटा: ब्लॉक के चिंदौड़ीखास गांव में रविवार की रात गैंगस्टर की सिर में धारदार हथियार मारकर हत्या कर दी गई। गैंगस्टर का रक्तरंजित शव कमरे में पड़ा मिला। बताया गया है कि गैंगस्टर जेल में बंद शातिर योगेश भड़ौदा का करीबी रहा है। इस मामले में पुलिस ने फिलहाल एफआईआर दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है। वहीं, गैंगस्टर की हत्या को लेकर गांव में सनसनी फैल गई।

रोहटा के गांव चिंदौड़ीखास निवासी वीरेंद्र उर्फ कालू (57) पुत्र जयप्रकाश रविवार की रात गांव से सटे नंगला मिल के गन्ना क्रय केंद्र के पास दो मंजिला मकान की छत पर सोया हुआ था। सोमवार सवेरे पड़ोसी ओमपाल ने जब वीरेंद्र को आवाज लगाई तो वह नहीं बोला। जिस पर कमरे के अंदर झांक कर देखा। जहां उसका रक्तरंजित शव जमीन पर पड़ा हुआ था। इसे देखकर गांव में सूचना आग की तरह फैल गई और मौके पर भीड़ लग गयी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और जांच पड़ताल की।

09 28

पुलिस ने बताया कि वीरेन्द्र उर्फ कालू का रक्तरंजित शव कमरे में ही जमीन पर पड़ा हुआ था और काफी दूर तक खून बह रहा था। मौके पर पंखा चलता हुआ मिला और पास ही मोबाइल पड़ा हुआ था। इसे लेकर पुलिस ने अंदाजा लगाया कि संभवत: वीरेंद्र की सोते वक्त हत्या की गई है। बाद में मौके पर पहुंची फोरेंसिक व डॉग स्क्वाड की टीम ने घटना की जांच के लिए साक्ष्य जुटाये। जांच-पड़ताल के बाद पुलिस ने बताया कि गैंगस्टर वीरेंद्र उर्फ कालू की सिर में कोई धारदार हथियार मारकर निर्मम हत्या की गई है।

पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना के संबंध में प्रभारी थाना रिजुल कुमार (प्रशिक्षु आईपीएस) ने बताया कि मृतक वीरेंद्र उर्फ कालू जेल में बंद शातिर अपराधी योगेश भदौड़ा गैंग का सक्रिय सदस्य रहा है तथा उस पर हत्या सहित लगभग 17 मुकदमे दर्ज थे। काफी समय से वह गांव में रह रहा था और शांत चल रहा था। उन्होंने कहा कि घटना की जांच की जा रही है।

गैंगस्टर पर 17 मुकदमे, डी-75 गैंग का सदस्य

एसपी देहात कमलेश बहादुर ने बताया कि वीरेंद्र उर्फ कालू जाट पर लूट, मर्डर के लगभग 17 मुकदमे दर्ज थे और वह योगेश भदौड़ा गैंग का सदस्य था। वह 10 साल पहले जमानत पर जेल से छुटकर आया था और गांव में रह रहा था। उन्होंने बताया की हत्या के कारणों की जांच के लिए टीम गठित की गई है और शीघ्र खुलासा कर दिया जाएगा।

गैंगस्टर की 20 दिन पहले युवक से हुई थी कहासुनी

गैंगस्टर वीरेंद्र उर्फ कालू मर्डर केस में एक खुलासा भी सामने आया है। बताया गया है कि कालू की क्षेत्र के एक युवक से 20 दिन पहले किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई थी। जिसमें एक दोनों ने एक-दूसरे को भुगत लेने की धमकी देते हुए गोली मारने तक की चेतावनी दी थी। बाद में मामले में समझौता हो गया था। चर्चा है कि 20 दिन पहले गैंगस्टर और दूसरे युवक के बीच हुई कहासुनी को भी इस हत्या की कड़ी से जोड़कर देखा जा रहा है।

10 29

चार भाई, सभी की हो चुकी हत्या

मौत के घाट उतारे गए गैंगस्टर वीरेंद्र उर्फ कालू के परिवार के बारे में पुलिस ने बताया कि वीरेंद्र चार भाई थे तथा चारों में से किसकी भी शादी नहीं हुई थी। बड़ा भाई देवेंद्र, 17 साल पहले एक संदिग्ध हत्याकांड के दौरान मारा गया था। वीरेंद्र उर्फ कालू दूसरे नंबर पर था। जबकि तीसरे नंबर का विनोद चौकीदारी का कार्य करता था और शराब की लत में उसकी मौत हो चुकी है। चौथे नंबर के संजय की बुलंदशहर में चीनू पंडित ने हत्या कर दी थी। इस तरह सभी भाई मारे जा चुके हैं। पिता की बीमारी के चलते मौत हो गई, जबकि 75 वर्षीय मां महेंद्री अभी जिंदा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments