Tuesday, May 21, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादसंस्कारबिन मौसम बरसात की तरह दुख

बिन मौसम बरसात की तरह दुख

- Advertisement -

Sanskar 7


बीमारी खरगोश की तरह आती है और कछुए की तरह जाती है। धन कछुए की तरह आता है और खरगोश की तरह जाता है। यह अक्षरश: सत्य है कि बीमारी और दुख-कष्ट बिन मौसम बरसात की तरह चले आते हैँ। आते समय तो खरगोश जैसी तेजी से आकर मनुष्य को अनायास ही घेर लेते हैं और दिन-रात परेशान करते हैं। तब हम चाहते हैं कि जिस फुर्ती से वे आए हैं उसी तरह पलक झपकते ही वे चले जाएँ।

ऐसा हो नहीं पाता क्योंकि वे तो मटकते-मटकते कछुए की-सी चाल चलते हुए और हमारे धैर्य की परीक्षा लेकर ही वापिस लौटते हैं। बीमारी, कष्ट, दुख और परेशानियां हमारे इस भौतिक जीवन का ही हिस्सा हैं।

चाहे-अनचाहे हर स्थिति में हर मनुष्य को इन्हें भोगना पड़ता है। यहाँ उसकी इच्छा नहीं पूछी जाती। पूर्वजन्म कृत कर्मों के ही अनुसार उसे बस केवल अपने भोगों को भोगकर उनसे मुक्त होना होता है। जब इन कुकर्मों को स्वेच्छा से प्रसन्नता पूर्वक हम करते हैं तो उनका दुष्परिणाम भी तो हमें अकेले को ही भोगना होता है।

सृष्टि का यह अटल नियम है कि जैसे हम बोते हैं वैसा ही काटते हैं। इसी तरह हमने अपने कर्मों की जैसी भी फसल पूर्व जन्मों में बोयी थी वैसी ही तो काटनी पड़ेगी यानी उसी हिसाब से ये बीमारी, कष्ट और परेशानी हमें भोगकर ही काटने होंगे। इन सबसे बचना असम्भव ही नहीं, नामुमकिन है। फिर रोते-झींकते भोगेंगे तो भी ठीक है और फिर यदि हंसते हुए उस ईश्वरीय इच्छा के आगे अपना सिर झुका देंगे तो मन की पीड़ा कुछ हद तक कम हो जाएगी।

बीमारी और कष्ट-परेशानी ने जितना समय हमें नचाना है वे तो अपना नाच नचाएंगी ही। अब उसके लिए समय की कोई सीमा तय नहीं की जा सकती। ये सब हमारे अपने भोगों का खट्टा, तीखा व कटु भोग है जो समयानुसार हमें मिल रहा है। अब हम धन की बात करते हैं। सारा जीवन मनुष्य पापड़ बेलता रहता है। झूठ-सच, छल-फरेब सब करता है। वह चोरी करने और डाका डालने तक से परहेज नहीं करता। रिश्वतखोर, भ्रष्टाचारी तक बन जाता है। दिन-रात कोल्हू के बैल की तरह परिश्रम करता है तब जाकर अपना व घर-परिवार का पोषण कर पाता है।

कहते हैं पानी की एक-एक बूंद के डलते रहने से मटका भरता है उसी प्रकार पैसा-पैसा करके धन को जोड़ा जाता है। अर्थात् कछुए की तरह मन्थर गति से या सुस्त चाल से चलते हुए सालों-साल लग जाते है उसे अपने लिए पर्याप्त धन एकत्रित करने में। खून-पसीने से कमाए हुए धन में यदि सेंध लग जाए अर्थात मनुष्य को या उसकी संतान, किसी को भी नशे, रेस आदि की बुरी लत लग जाए तो इन कुटेवों से धन की बरबादी खरगोश की चाल से होने लगती है।

उसके खजाने में बड़े-बड़े छेद हो जाते है जो उसे सड़क तक पर भी लाकर खड़ा कर देते हैं। अपने पूर्व जन्मों में किए गए सत्कर्मों अथवा कुकर्मों की कुंडली हम नहीं बना सकते पर अपने वर्तमान में ऐसा प्रयास हमें अवश्य करना चाहिए कि खरगोश की तरह भागकर आए दुख हमें न दबोचने पाएं। उनके कछुए की तरह जाने की भी हमें कभी प्रतीक्षा न करनी पड़े।


janwani address 5

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments