Wednesday, October 27, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsBijnorशासन ने जनपद बिजनौर में भेजी खनन निरीक्षकों की टीम

शासन ने जनपद बिजनौर में भेजी खनन निरीक्षकों की टीम

- Advertisement -
  • अवैध खनन व परिवहन करने वाले खनन माफियाओं पर होगी सख्त कार्रवाई
  • जनपद में खनन टीम के पहुंचते ही खनन माफिया हुए भूमिगत

जनवाणी संवाददाता |

मंडावली: उत्तर प्रदेश शासन द्वारा गठित खनन टीम के जनपद बिजनौर पहुंचते ही खनन माफियाओं में हड़कंप मच गया उत्तराखंड के कई जनपदों से उत्तर प्रदेश में खनन सामग्री का परिवहन किया जा रहा है जिसके चलते तमाम डंपर अवैध रूप से जनपद बिजनौर की सीमा में प्रवेश करते हैं उन्हीं की धरपकड़ के लिए शासन द्वारा टीम गठित कर जनपद में भेजी गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले 2 दिन से जनपद बिजनौर में खनन निरीक्षकों का एक दल अवैध खनन व अवैध रूप से खनन का परिवहन करने वाले माफियाओं के खिलाफ चेकिंग में लगा हुआ है। जनपद में खनन टीम के पहुंचते ही खनन माफिया भूमिगत हो गए जबकि नजीबाबाद के भागूवाला क्षेत्र में संचालित दो दर्जन से अधिक स्टोन क्रेशरो पर रोजाना लगभग 100 से अधिक डंपर खनन सामग्री लेकर पहुंचते हैं जो पूर्ण रूप से अवैध खनन का परिवहन करते है।

उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों कोटद्वार, हरिद्वार, डोईवाला, देहरादून सहित कई जगह से रोजाना सैकड़ों डंपर आरबीएम लेकर उत्तर प्रदेश की बिजनौर जनपद की सीमा में प्रवेश करते हैं और भागूवाला स्टोन क्रेशरो पर आरबीएम को सप्लाई करते हैं।

इन वाहनों पर आरबीएम का कोई प्रपत्र नहीं होता है और ना ही उत्तराखंड से यूपी में प्रवेश करने के दौरान कटने वाली आईएसटीपी होती है पूर्ण रूप से अवैध तरीके से आरबीएम की सप्लाई की जाती है शासन द्वारा जनपद बिजनौर में भेजी गई खनन अधिकारियों की टीम के बारे में खनन माफियाओं को पहले ही जानकारी हो गई थी जिसके बाद खनन माफियाओं ने अपने वाहनों को खड़ा कर दिया था।

अब भी कुछ खनन माफिया रात के अंधेरे का फायदा उठाकर उत्तराखंड के कोटद्वार से आरबीएम से भरे डंपर भाग वाला स्टोन क्रेशरो पर पहुंचा रहे हैं खनन माफिया डंपर के साथ-साथ अपनी कारों को आगे पीछे रखते हैं ताकि चेकिंग टीम की देख रेख हो सके खनन टीम में मेरठ मुरादाबाद अमरोहा और बिजनौर के अधिकारी शामिल हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments