Friday, April 23, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutखराब मीटर की रीडिंग उपभोक्ताओं को दे रही बड़ा दर्द

खराब मीटर की रीडिंग उपभोक्ताओं को दे रही बड़ा दर्द

- Advertisement -
0
  • विभागीय कर्मचारी उपभोक्ताओं का मीटर बदलने पर करते हैं आनाकानी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: विद्युत विभाग उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए लाख दावें करता हो, लेकिन जमीनी स्तर पर हालात कुछ और ही देखने को मिल रहे है। उपभोक्ता अपनी समस्याओं को लेकर विद्युत विभाग के चक्कर ही लगाते रहते है। ताकि उनकी समस्याओं का निवपारण हो जाएं।

सबसे ज्यादा परेशानी उन उपभोक्ताओं को उठानी पड़ती है, जिनके किसी कारणवश मीटर खराब हो जाएं। जैसे ही मीटर खराब होता है, तब वह विभाग के चक्कर लगाते है कि उनका मीटर बदल दिया जाए। मगर विभाग द्वारा उनका समय पर मीटर नहीं बदला जाता।

जब बार-बार उपभोक्ता मीटर बदलवाने के लिए विभाग में प्रार्थना पत्र जमा करता है तब जाकर उसका मीटर बदला जाता है, लेकिन मीटर बदलने के पश्चात जब उपभोक्ता को बिल भेजा जाता है तो उसके होश उड़ जाते है। क्योंकि, विभाग द्वारा हजारों रुपये का बिल बनाकर उसे भेजते है।

अधिक बिल बनाने को लेकर विभागीय कर्मचारी तर्क देते हुए कहते है कि मीटर खराब होने के कारण रीडिग कम्प्यूटर से चेक की गयी। ऐसे में बिल पूरा ही जमा करना होगा अन्यथा बिजली काट दी जाएगी। सरधना निवासी एक उपभोक्ता ने बताया कि उसका बिल हर माह दो से तीन हजार रुपये के बीच में आता था।

मीटर खराब होने के बाद उन्होंने संबंधित विद्युत उपकेन्द्र पर मीटर बदलने के मांग की। तीन माह तक मीटर नहीं बदला गया। उसके पश्चात मीटर बदला गया एवं उनकों तीन महीने का 30 हजार रुपये से ऊपर का बिल बनाकर उपलब्ध करा दिया गया। जबकि हर माह आने वाले बिल का यह तीन गुना है। इस तरह के मामले एक दो नहीं बल्कि बहुत देखने को मिल रहे है।

हालांकि विद्युत विभाग द्वारा चलाए जा रहे विद्युत समाधान शिविर में ऐसे उपभोक्ताओं को राहत मिल जाती हैं। क्योंकि वरिष्ठ विभागीय अधिक रियों द्वारा उनको राहत प्रदान की जाती हैं। बता दें कि इस तरह के मामले ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक देखने को मिलते हैं।

वोल्टेज कम या अधिक आने पर कई बार फाल्ट होने से मीटर खराब हो जाते है। जैसे ही ग्रामीण मीटर बदलने के लिए विभाग जाकर प्रार्थना पत्र जमा करते हैं तो मीटर रीडर से लेकर अन्य प्रकार के कर्मचारी सिर्फ ग्रामीणों को टकराते हैं।

ऐसे में सबाल उठता है कि उपभोक्ताओं की समस्याओं का निवारण समय पर क्यों नहीं किया जाता। वहीं, इस संबंध में मुख्य अंभियता एसबी यादव ने कहा कि अगर किसी भी उपभोक्ता का समय पर मीटर नहीं बदला जा रहा है तो वह उन्हें अवगत कराएं सभी की समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

गर्मी बढ़ते ही बिजली की लुका-छिपी

गर्मी का स्तर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। सड़कों पर निकलना मुश्किल हो गया है। विद्युत विभाग द्वारा शहर भर में विद्युत उपकरणों की मरम्मत की जा रही है। इस वजह से शहर भर में बिजली के घंटों के कट लगे रहते हैं। जिससे उपभोक्ताओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

जबकि ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने सर्दी में ही विद्युत उपकरणों के लिए निर्देश जारी किए हुए हैं। बिजली अधिकारियों की माने तो लोड के हिसाब से उपकरणों को परखा जाता है। ऐसे में जल्द सभी उपकरणों को ठीक कर लिया जाएगा।

पारा @ 38.5 डिग्री सेल्सियस

मौसम में एक बार फिर तब्दीली देखने को मिली। सोमवार को दिन में गर्मी का एहसास हुआ। गर्मी होने के कारण दिन और रात दोनों के तापमान बढ़ोतरी हो गई है। जिसके चलते गर्मी का एहसास अब बढ़ने लगा है। हवाओं का रुख भी अभी तेज है, लेकिन उसके बाद भी अब गर्मी का एहसास कम नहीं हुआ। मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि आने वाले दिनों में गर्मी का प्रकोप बढ़ेगा।

जिसके चलते तापमान में बढ़ोतरी होगी। राजकीय मौसम वैधशाला पर सोमवार को दिन का अधिकतम तापमान 38.5 डिग्री सेल्सियस एवं न्यूनतम तापमान 17.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम आर्द्रता 33 एवं न्यूनतम आर्द्रता 16 प्रतिशत दर्ज की गई। हवा का रुख चार किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चला। मौसम वैज्ञानिक डा. एन सुभाष का कहना है कि मौसम में अभी बदलाव रहेगा। गर्मी का प्रकोप भी बढ़ेगा।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments