Tuesday, May 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMuzaffarnagarबच्चों को सिखाई आपदा प्रबन्धन की बारीकियां, फायर विभाग ने माॅक ड्रिल...

बच्चों को सिखाई आपदा प्रबन्धन की बारीकियां, फायर विभाग ने माॅक ड्रिल में सिखाया आग बुझाना

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मुजफ्फरनगर: राजकीय इंटर कालेज में स्कूली बच्चों को आपदा प्रबन्धन की ट्रेनिंग दी गयी, जिसमें प्रशिक्षकों ने बच्चों को आपदाओं से संबन्धित जानकारियां बारीकी के साथ दी। इस दौरान फायर विभाग द्वारा माॅकड्रिल भी की गयी, जिसमें आग लगने पर आग को बुझाने के विभिन्न तरीके बताये गये, इसके अलावा आपदा के दौरान घायल लोगों को रेस्क्यू करके भी दिखाया गया।

62 4

अपर जिलाधिकारी गजेन्द्र सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि आपदा प्रबन्धन एक बहुत रौचक विषय है। यह ऐसा विषय है, जिसकी जानकारी होने पर न केवल अपनी जान बचा सकते हैं, बल्कि अन्य लोगों की भी जान को बचाया जा सकता है। आपदा प्रबन्धन से आपदाओं के दौरान होने वाले भारी नुकसान को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बहुत मौतें जानकारी के अभाव में होती हैं, यदि सही जानकारी हो जाये, तो मौतों की संख्या कम हो सकती हैं, जिसके लिए जागरूकता जरूरी है।

उन्होंने सांप काटने का उदाहरण देते हुए बताया कि 85 प्रतिशत सांप जहरीले नहीं होते, केवल 15 प्रतिशत ही सांप जहरीले होते हैं। सांप के काटने पर अक्सर हार्ट अटैक से मौत होती है। यदि सांप के काटने पर यह पहचान हो जाये कि उसे जहरीले सांप ने काटा है या फिर बिना जहर के सांप ने, तो उपचार में भी आसानी हो जाती है और बेवजह किसी की जान नहीं जाती है।

उत्तर प्रदेश आपदा प्रबन्धन विभाग की मास्टर ट्रेनर शीजा खानम ने बच्चों को विभिन्न आपदाओं के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि किस आपदा के आने पर क्या करना चाहिए। उन्होंने आपदा चक्र के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आपदा प्रबन्धन में आपदा चक्र का महत्वपूर्ण रोल होता है, जिसके चलते यह तय होता है कि आपदा से पूर्व क्या करना है, आपदा के समय क्या करना है और आपदा के बाद क्या करना है। उन्होंने प्राकृतिक आपदाओं व मानव जनित सभी आपदाओं को विस्तार से समझाया।

राजकीय इंटर कालेज के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र कुमार त्यागी ने संबोधित करते हुए बच्चों को बताया कि आकाशीय बिजली कैसे बनती है और फिर यह कैसे जमीन पर उतरती है। इससे किस तरह के नुकसान हो सकते हैं और इससे कैसे बच जा सकता है। इसके अलावा उन्होंने अग्नि के बारे में विस्तार से बच्चों को समझाया।

उन्होंने कहा कि किसी भी आपदा के आने पर घबराना नहीं चाहिए और उसका डटकर हौंसले के साथ मुकाबला करना चाहिए, क्योंकि घबराने से ज्यादा नुकसान हो सकता है। इस दौरान बच्चों व शिक्षकों को आपदा प्रबन्धन से संबन्धित पुस्तकें व चार्ट वितरित किये गये। इस दौरान राजकीय इंटर कालेज के शिक्षक सोहनपाल, अनिल कुमार, आकांक्षा, नीतू, रजित यादव, गीता रानी, पूनम मित्तल, सुप्रिया त्यागी आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments