Monday, April 22, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादखेतीबाड़ीचने की बुआई की सही प्रक्रिया और कीट-रोग निवारण के उपाय

चने की बुआई की सही प्रक्रिया और कीट-रोग निवारण के उपाय

- Advertisement -

KHETIBADI


चने की बुआई: खरीफ सीजन के बाद, किसान अब रबी फसलों की बुआई की ओर बढ़ रहे हैं, जिसमें गेहूं, चना और सरसों उनकी पहली पसंद हैं। इस विकल्प के पीछे तर्क स्थिर बाजार कीमतें और न्यूनतम मूल्य में उतार-चढ़ाव है। इस मौसम के दौरान चने की खेती करने की योजना बना रहे लोगों के लिए, बीज बोते समय कुछ कारकों को ध्यान में रखना और चने का उत्पादन बढ़ाने के लिए विशिष्ट प्रक्रिया को लागू करना महत्वपूर्ण है। अन्य रबी फसलों की तरह, चना भी विभिन्न कीटों और बीमारियों के प्रति संवेदनशील है। हालाँकि, बुआई के दौरान विशिष्ट उपाय करके, आप अपनी चने की फसल को कीटों और बीमारियों के हमलों से काफी हद तक बचा सकते हैं।

बुआई का सही समय क्या है?
चने की बुआई का सर्वोत्तम समय आमतौर पर 10 अक्टूबर से 10 नवंबर के बीच होता है। कुछ किसान देर से बुआई का विकल्प चुन सकते हैं, लेकिन इसके लिए अक्सर अधिक उर्वरक और खाद की आवश्यकता होती है, जिससे लागत अधिक हो जाती है। देर से बुआई करने पर, मौसम की अनुकूल स्थिति में भी, आमतौर पर कम उत्पादन होता है। देर से बोए गए चने के उत्पादन में 30 से 40 फीसदी की कमी आ सकती है। इसलिए, किसानों को कम लागत पर बेहतर उत्पादन प्राप्त करने के लिए सही समय पर चने की बुआई करने की सलाह दी जाती है।

किस प्रकार की मिट्टी उपयुक्त है?
चने के पौधों की इष्टतम वृद्धि के लिए, ऐसी मिट्टी का चयन करें जो नमक और क्षार से मुक्त हो, जिसमें जल निकासी अच्छी हो। मिट्टी का पीएच मान आदर्श रूप से 5.5 से 7 के बीच होना चाहिए।

बुआई से पहले बीज अंकुरण प्रतिशत कैसे निर्धारित करें
सही बीज का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए किसानों को बुआई से पहले बीजों के अंकुरण प्रतिशत का आकलन करना चाहिए। ऐसा करने के लिए 100 बीजों को आठ घंटे के लिए पानी में भिगो दें। बाद में, बीजों को पानी से निकाल लें, उन्हें एक गीले तौलिये या बोरे में रखें और कमरे के तापमान पर रखें। 4 से 5 दिन बाद अंकुरित बीजों की संख्या गिन लें। यदि 90 प्रतिशत से अधिक बीज अंकुरित हो गए हैं, तो वे अच्छी गुणवत्ता के हैं। यदि अंकुरण दर कम है, तो उच्च गुणवत्ता वाले बीज चुनें या बीजों की मात्रा बढ़ाएँ।

बुआई से पहले बीज उपचार
चने के बीज बोने से पहले उनका उपचार करना बहुत जरूरी है। ऐसा करने के लिए, बीजों को पानी में भिगो दें और गुड़ में मिला दें। जब गुड़ का पानी का घोल ठंडा हो जाए तो इसमें कल्चर मिला दें। इसके बाद, बीजों को इस कल्चर-युक्त घोल से उपचारित करें और बुआई से पहले उन्हें छाया में सूखने दें। बीज उपचार में पहले फफूंदनाशक, उसके बाद कीटनाशक और अंत में राइजोबियम कल्चर का प्रयोग करें। बीजों को उपचारित करने के लिए किसान बीजों को राइजोबिया कल्चर व पीएसबी कल्चर से उचारित करना चाहिए और इसके बाद ही बीजों की बुवाई करनी चाहिए।

जड़ सड़न और मुरझान की रोकथाम
चने में जड़ सड़न और उकठा जैसे रोग लगने की आशंका रहती है। इन रोगों से बचाव के लिए बुआई से पहले 10 किलोग्राम ट्राइकोडर्मा को 200 किलोग्राम ह्यूमस युक्त गोबर की खाद में मिलाकर 10-15 दिन तक छाया में छोड़ दें। फिर इस मिश्रण को प्रति हेक्टेयर बुआई की दर से मिट्टी में मिला दें. रोग प्रतिरोधी किस्मों का उपयोग करें और बुआई से पहले बीजों को कार्बेन्डाजिम, थीरम या ट्राइकोडर्मा से उपचारित करें।

फसल को दीमक और कीड़ों से बचाना
अपनी चने की फसल में दीमक, कटवर्म और वायरवर्म से बचाव के लिए अंतिम जुताई से पहले 25 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से 1.5 प्रतिशत क्यूनालफॉस पाउडर डालें। चने की फसल में दीमक की रोकथाम के लिए बीज को फिप्रोनिल या इमिडाक्लोप्रिड से उपचारित करके बोयें।

उचित बीज की मात्रा का निर्धारण
चने की बुआई के लिए बीज की सही मात्रा का चयन करें। छोटे दाने वाली किस्मों के लिए 50 से 60 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर का उपयोग करें, जबकि बड़े दाने वाली किस्मों के लिए 100 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की आवश्यकता होती है। देर से बुआई के लिए प्रति हेक्टेयर 90 से 100 किलोग्राम बीज की आवश्यकता हो सकती है। काबुली किस्मों के लिए 100 से 125 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर पर्याप्त होना चाहिए।

चना बोने की सही विधि क्या है?
-जिस खेत में पर्याप्त नमी हो उसमें चने की बुआई करने के लिए सीड ड्रिल का प्रयोग करें।
-यदि खेत में नमी की कमी है, तो बीजों को अधिक गहराई पर बोएं और गीली घास डालें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे नमी के संपर्क में रहें।
-पौधों का घनत्व 25 से 30 प्रति वर्ग मीटर बनाए रखें।
-बुआई के दौरान पंक्तियों के बीच 30 सेमी और अलग-अलग पौधों के बीच 10 सेमी की दूरी बनाए रखें।
-सिंचित स्थितियों में, काबुली चने के लिए नालों के बीच 45 सेमी की दूरी बनाए रखें। देर से बुआई के लिए पंक्ति से पंक्ति की दूरी 25 सेमी कम करें।

चने की फसल में कौन कौन सा खाद डालना चाहिए?
अच्छी उपज पाने के लिए प्रति हेक्टेयर 20-25 किलोग्राम नाइट्रोजन, 50-60 किलोग्राम फास्फोरस, 20 किलोग्राम पोटाश और 20 किलोग्राम सल्फर का प्रयोग करें। वैज्ञानिक शोध से पता चला है कि असिंचित अवस्था में 2 प्रतिशत यूरिया या डी.ए.पी. फसल पर छिड़काव करने से चने की उपज में वृद्धि होती है।

चने की बुवाई में किन बातों का रखें ध्यान?
-जिस खेत में चने की बुवाई करनी हो वह खेत फसल अवशेषों से मुक्त होना चाहिए। वहीं भूमि में फफूंदों का विकास नहीं होना चाहिए।
-अपने विशिष्ट क्षेत्र के लिए उपयुक्त चने की किस्म का चयन करें और बुआई के लिए हमेशा प्रमाणित बीजों का उपयोग करें।
-बीजों का उपचार करते समय, पूर्ण सुरक्षात्मक कपड़े, अपने मुंह को ढकने के लिए मास्क और दस्ताने पहनकर सुरक्षा सावधानी बरतें।


janwani address 7

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments