Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादभक्ति का समय

भक्ति का समय

- Advertisement -

SAMVAD


एक बार कबीर कपड़ा बुनने में लीन थे। वहां से गुजरते हुए एक व्यक्ति को जिज्ञासा हुई कबीर से पूछने की, क्योंकि उसने सुन रखा था कि कबीर हमेशा गुरु सिमरन में लीन रहते हैं। उससे कबीर से प्रश्न किए बिना रहा नहीं गया। उसने पूछा, आप दिनभर कपड़ा बुनते रहते हैं तो मालिक सतगुरु का सिमरन कब करते हैं…? कबीर उस व्यक्ति को लेकर अपनी झोपड़ी से बाहर आ गए। कबीर ने दिखाया कि एक औरत पानी की गागर सिर पर रखकर लौट रही थी।

उसके चेहरे पर प्रसन्नता और चाल में रफ्तार थी। गागर को उसने पकड़ नहीं रखा था, फिर भी वह पूरी तरह संभली हुई थी। कबीर कहा, उस औरत को देखो। वह जरूर कोई गीत गुनगुना रही है। शायद कोई प्रियजन घर आया होगा। वह प्यासा होगा, उसके लिए वह पानी लेकर जा रही है, मैं तुमसे जानना चाहता हूं कि उसे गागर की याद होगी या नहीं? कबीर की बात सुनकर उस व्यक्ति ने जवाब दिया, उसे गागर की याद नहीं होती तो महाराज अब तक तो उसकी गागर नीचे ही गिर चुकी होती।

सही बोले, यह साधारण सी औरत सिर पर गागर रखकर रास्ता पार करती है। मजे से गीत गाती है, फिर भी गागर का ख्याल उसके मन में बराबर बना हुआ है और तुम मुझे इससे भी गया गुजरा समझते हो कि मैं कपड़ा बुनता हूं और परमात्मा का स्मरण करने के लिए मुझे अलग से वक्त की जरूरत है। मेरी आत्मा हमेशा उसी में लगी रहती है। कपड़ा बुनने के काम में शरीर लगा रहता है…भाई मेरी आत्मा हर वक़्त मालिक के चरणों में लीन रहती है। व्यक्ति को अपने प्रश्न का उत्तर मिल गया था। उसे यह आत्मबोध भी हो गया कि मनुष्य अपने जीवन के दैनिक क्रियाकलाप करते हुए भी हर घड़ी प्रभु को याद कर सकता है।
प्रस्तुति : राजेंद्र कुमार शर्मा


janwani address 9

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments