Wednesday, May 29, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutनिजी नलकूपों के सोलराइजेशन में रुचि नहीं ले रहे किसान

निजी नलकूपों के सोलराइजेशन में रुचि नहीं ले रहे किसान

- Advertisement -
  • जनपद में 175 ने कराया पंजीकरण, सिर्फ 11 ने जमा कराया आवेदन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: पीएम कुसुम घटक सी-1 योजना के अंतर्गत निजी आॅनग्रिड पंप के सोलराइजेशन के क्रियान्वयन में किसान कोई रुचि नहीं ले रहे हैं। जनपद की स्थिति यह है कि एक महीने में इस योजना के बारे में 175 किसानों ने जानकारी ली, लेकिन इनमें से सिर्फ 11 किसानों ने ही निर्धारित प्रारूप को भरकर यूपीनेडा कार्यालय में जमा कराया है।

यूपीनेडा कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार इसी वर्ष शुरू की गई पीएम कुसुम घटक सी-1 योजना के अंतर्गत सामान्य वर्ग के लाभार्थी किसानों को केंद्र सरकार की ओर से 30 और प्रदेश सरकार की ओर से 60 प्रतिशत यानी कुल 90 प्रतिशत अनुदान राशि देने का प्रावधान रखा गया है। जबकि अनुसूचित जनजाति वनटांगिया एवं मुसहर जाति के कृषकों को योजना का शत-प्रतिशत अनुदान देने का प्रावधान रखा गया है।

इस योजना के अंतर्गत पूरे प्रदेश में एक हजार प्लांट लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। निजी नलकूपों को सोलर ऊर्जा से जोड़ने के लिए शुरू की गई इस योजना के बारे में 20 अप्रैल को अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग की ओर से जिला स्तरीय अधिकारियों को पत्र प्रेषित किए गए। जिसमें इस योजना के बारे में जानकारी देते हुए यूपीनेडा के जनपदीय अधिकारियों और विद्युत विभाग के अभियंताओं के समन्वय से इसका व्यापक प्रचार प्रसार कराने, बैठक-गोष्ठियों का आयोजन कराने की अपेक्षा की गई।

06 15

इस योजना के अंतर्गत निधि आॅनग्रिड पंप के सोलराइजेशन के इच्छुक लाभार्थी किसानों की ओर से सहमति के साथ निर्धारित प्रारूप पर आवेदन करने के लिए कहा गया जिसका समन्वय जनपदीय मुख्य विकास अधिकारी के माध्यम से सुनिश्चित कराने की व्यवस्था की गई। इस योजना में प्राप्त होने वाले आवेदन पत्रों की संख्या के आधार पर समानुपातिक रूप से जनपद वार लक्ष्य निर्धारित करने की योजना है। जिसके उपरांत स्वीकृति के संबंध में सूचना जारी की जाएगी।

अनु सचिव सुनील चौहान की ओर से जारी इस पत्र में एक माह की अवधि में लाभार्थी कृषकों का पूर्ण विवरण उपलब्ध कराने की अपेक्षा की गई। वहीं, इस योजना के बारे में यूपीनेडा के जिला परियोजना अधिकारी प्रमोद भूषण शर्मा ने बताया कि अभी तक 157 कृषकों ने इस योजना के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए जेई के स्तर से रिपोर्ट लगाकर जमा कराने वाला प्रारूप लिया है। हालांकि इनमें से अभी तक 11 किसान ही निर्धारित प्रारूप को भरकर आवेदन पत्र जमा कराने के लिए उनके कार्यालय पहुंचे हैं। प्रमोद भूषण शर्मा ने आशा जताई कि आने वाले दिनों में अन्य किसान भी अपने आवेदन पत्र जमा करा देंगे।

मेरठ में पीएम कुसुम योजना के अंतर्गत लगेगा पांच मेगावाट का प्लांट

पीएम कुसुम योजना के अंतर्गत मेरठ सदर तहसील क्षेत्र में पांच मेगावाट क्षमता का प्लांट लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मैसर्स बोन सोलर टैक की ओर से इस संबंध में विभाग के साथ एक एमओयू साइन किया गया है। इसी क्रम में विभाग की ओर से जिला प्रशासन को पत्र भेजकर भूमि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया है। गौरतलब है कि पीएम कुसुम योजना के अंतर्गत मेरठ जनपद में 32 और बागपत में 39 बिजली उपकेन्द्रों के चिन्हीकरण के बाद भूमि की तलाश की जा रही है।

बागपत के ककड़ीपुर और दाहा क्षेत्र से योजना का शुभारंभ करने पर तेजी से काम चल रहा है। इनमें दाहा में साढ़े तीन मेगावाट और किरठल में एक मेगावाट संयंत्र लगाने की स्वीकृति मिल गई है। यूपीनेडा के परियोजना अधिकारी प्रमोद भूषण शर्मा ने बताया कि इस योजना के अंतर्गत ऐसे बिजलीघर चिन्हित किए जा चुके हैं, जहां सौर ऊर्जा संयंत्र से बनने वाली बिजली की खपत की जा सके।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments