Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeTREANDINGएम्स की एमडी परीक्षा में नकल कराते एम्स के दो डाक्टर समेत...

एम्स की एमडी परीक्षा में नकल कराते एम्स के दो डाक्टर समेत पांच गिरफ्तार

- Advertisement -
  • नकल माफिया पर दून पुलिस की सर्जिकल स्ट्राइक

जनवाणी ब्यूरो |

ऋषिकेश: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की ओर से ऑल इंडिया स्तर पर आयोजित होने वाली एमडी परीक्षा में नकल माफिया की सक्रिय होने की सूचना के आधार पर पुलिस और एसओजी की टीम ने कार्रवाई करते हुए ऋषिकेश से पांच व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। जिनमें एम्स ऋषिकेश के दो चिकित्सक शामिल है। यह लोग देहरादून से ही अन्य प्रांतों में भी परीक्षा के दौरान अनुचित माध्यमों से नकल करवाते थे। इन्होंने नकल करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति से 50 लाख रुपए की डील की थी। इनके कब्जे से तीन टैबलेट, तीन मोबाइल, मेडिकल संबंधी किताबें और एक लग्जरी कार टाटा सफारी बरामद हुई है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून अजय सिंह ने बताया कि ऑल इंडिया स्तर पर आयोजित एमडी (इंस्टीट्यूट ऑफ नेशनल इंर्पोटेंस कंबाइंड एंट्रेंस टेस्ट 2024) परीक्षा के दौरान नकल माफिया के सक्रिय होने की जानकारी मिलने के बाद कोतवाली ऋषिकेश और एसओजी देहात की टीम गठित की गई। सूचना के आधार पर टीम ने बैराज रोड से एक टाटा सफारी में बैठे पांच व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। यह सभी एम्स की एमडी परीक्षा में गैर प्रांत कांगड़ा हिमाचल के परीक्षा केंद्र में भारतीयों को मोबाइल फोन एवं टैबलेट के माध्यम से प्रश्न पत्रों के उत्तर उपलब्ध करवा रहे थे। गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों में एम्स ऋषिकेश की दो चिकित्सक भी शामिल है। इन सबके खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इनमें मुख्य आरोपी अजीत पुत्र सत्यवीर सिंह सेक्टर 8 थाना जींद हरियाणा ने पूछताछ में बताया कि एम्स की एमडी परीक्षा का टेस्ट हिमाचल इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी शाहपुर जिला कांगड़ा में स्थित परीक्षा केंद्र में वह तीन अभ्यर्थियों को नकल कर रहे थे। परीक्षा के दौरान परीक्षा केंद्र में बैठे परीक्षार्थियों द्वारा उन्हें अपने मोबाइल से प्रश्न पत्र की फोटो खींचकर टेलीग्राम के माध्यम से उपलब्ध कराई जा रही थी। उसका उत्तर उनके द्वारा टेलीग्राम पर बनाए गए ग्रुप के माध्यम से उपलब्ध कराया जा रहा था।

प्रश्न पत्रों के उत्तर सॉल्व करने के लिए उन्होंने एम्स ऋषिकेश के डॉक्टर वैभव जेआर और एक अन्य डॉक्टर अमन को हायर किया था। एम्स के चिकित्सकों को दो- दो लाख रुपए में हायर किया गया था। आरोपी अजीत ने पुलिस को बताया कि उसकी तीन लैब है जिसके माध्यम से वह अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में भी नकल करने के एवज में मोटी धनराशि लेता है।

पुलिस के अनुसार गिरफ्तार किए गए आरोपियों में अजीत मुख्य आरोपी है। जबकि इसके साथ अमन शिवाच पुत्र अर्जुन निवासी विकास कॉलोनी रोहतक हरियाणा, वैभव कश्यप पुत्र संजीव कश्यप निवासी अंबिका एनक्लेव सनौर पटियाला पंजाब, विजुल गौरा पुत्र गोविंद लाल निवासी पटेल नगर जिला हिसार हरियाणा और जयंत पुत्र प्रकाश निवासी डिफेंस कॉलोनी जिला हिसार हरियाणा शामिल है। इस गिरोह को पकड़ने वाली टीम को कोतवाली प्रभारी निरीक्षक शंकर सिंह बिष्ट और एसओजी देहात प्रभारी आरएस खोलिया लीड कर रहे थे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments