Monday, January 17, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeBusiness News30 नवंबर तक हॉलमार्किंग जरूरी

30 नवंबर तक हॉलमार्किंग जरूरी

- Advertisement -
  • नहीं तो होगी छापेमारी, बिना हॉलमार्किंग के ज्वेलरी नहीं बेच पाएंगे ज्वैलर्स
  • 40 लाख तक टर्नओवर वालों को भी अब कराना होगा रजिस्ट्रेशन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: ज्वैलरी की हॉलमार्किंग को लेकर केन्द्र सरकार की ओर से नये-नये आदेश जारी किये जा रहे हैं। जिसके चलते ज्वैलर्स को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अब एक बार फिर से ज्वैलर्स के लिये 30 नवंबर तक हॉलमार्किंग की अनिवार्यता कर दी है।

30 तक हॉलमार्किंग न कराने वालों के यहां पर छापेमारी कर उनके जेवरात जब्त किये जाएंगे। साथ ही अब 40 लाख तक के टर्नओवर वालों के लिये भी एचयूआईडी का रजिस्ट्रेशन भी अनिवार्य कर दिया है। उधर, सराफा एसोसिएशन हॉलमार्किंग के सेंटर बढ़ाये जाने की मांग कर रहा है, जिससे ज्वैलर्स को परेशानी न हों।

बता दें कि सोने की शुद्धता और सुंदरता को प्रमाणित करने की प्रक्रिया को हॉलमार्किंग कहा जाता है। भारतीय मानक ब्यूरो। बीआईएस अधिनियम के तहत सोने के साथ ही चांदी की ज्वैलरी की भी हॉलमार्किंग आवश्यक है। बीआईएस हॉलमार्क यह प्रमाणित करता है कि आभूषण का बार मानकों के हिसाब से तैयार किया गया है। बीआईएस की ओर से जून माह में ही हॉलमार्किंग का कार्य शुरू कर दिया गया था।

अब इसके लिये ज्वैलर्स को 30 नवंबर तक का समय दे दिया गया है। 30 नवंबर तक सभी को हॉलमार्किंग कराना अनिवार्य होगा। जहां कहीं भी बिना हॉलमार्किंग के ज्वैलरी मिली, वहां छापेमारी कर ज्वैलरी को जब्त कर लिया जायेगा। इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिये गये हैं। उधर, अब 40 लाख तक के टर्नओवर वालों के लिये भी एचयूआईडी रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा। कोई भी ज्वैलर्स बिना रजिस्ट्रेशन ज्वैलरी नहीं बेच पायेगा।

शादियों के सीजन में होगी परेशानी

सराफा व्यापार एसोसिएशन नील गली के महामंत्री दिनेश रस्तोगी ने कहा कि हॉलमार्क सेंटर कम होने के कारण परेशानी है और आने वाले दिनों में यह परेशानी और बढ़ेगी। ऐसे में इस समय में हॉलमार्किंग पूरी तरह होना मुश्किल होगा। आगे शादियों का सीजन आ रहा है और प्रोडक्शन भी बढेÞगी। जिसमें आभूषणों की डिमांड बढ़ने के कारण उनकी संख्या बढ़ेगी और ज्वैलर्स को हॉलमार्किंग कराने में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।

बढ़ाई जाये हॉलमार्क सेंटरों की संख्या

मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रदीप अग्रवाल ने बताया कि बुलियन ट्रेडर्स पिछले काफी समय से हॉलमार्किंग की प्रकिया को सरल करने की मांग करता आ रहा है। सेंटरों की संख्या की कमी के कारण सभी ज्वैलर्स परेशान हैं। ऊपर से अब 30 नवंबर की तिथि भी जारी कर दी गई है। ऐसे में सेंटरों पर वहां अधिक परेशानी आती है। जहां सिर्फ एक या दो आभूषण हों तो उन पर हॉलमार्किंग कराना कठिन हो रहा है। ऊपर से सेंटरों की कमी की परेशानी पहले से ही बनी हुई है।

सभी को किया जा रहा जागरूक

सोना चांदी व्यापार संघ अध्यक्ष संतकुमार वर्मा ने बताया कि सभी ज्वैलर्स अपने आभूषणों पर हॉलमार्किंग करा रहे हैं। सेंटरों की कमी से थोड़ी परेशानी बनी हुई है हालांकि सेंटरों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ाई जा रही है। उन्होंने बताया कि उनकी ओर से ज्वैलर्स को भी जागरूक किया जा रहा है कि वह हॉलमार्किंग कराये। इसके अलावा रजिस्ट्रेशन कराने के लिये भी कहा जा रहा है। जिससे सभी लोग रजिस्ट्रेशन करा सकें और वह अपना व्यापार सही प्रकार से चला सकें। उन्होंने कहा कि एसोसिएशन की ओर से केन्द्रीय मंत्रियों को भी ज्ञापन दिये जा चुके हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments