Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादमहुआ के बहाने बेनकाब माननीय

महुआ के बहाने बेनकाब माननीय

- Advertisement -

Samvad 52


TANVIR ZAFARIभारतीय संसद को वैसे तो लोकतंत्र का मंदिर भी कहा जाता है। हमारे देश के जनप्रतिनिधि इसी संसद भवन में बैठकर देश के भविष्य की योजनायें व इससे सम्बंधित कानून बनाते हैं। इसलिए यह कहने की जरूरत नहीं कि प्रत्येक सांसद को पूर्ण रूप से संसदीय व्यवस्था व संचालन को समझने की क्षमता रखने वाला, संसदीय कायदे कानूनों का जानकार, गंभीर, जिम्मेदार, ईमानदार, अनुशासित तथा समाज के लिए आदर्श पेश करने वाला नेता होना चाहिए। परंतु वास्तव में ऐसा है नहीं। स्वतंत्रता से लेकर अब तक जहां हमारी संसद में अनेकानेक ऐसे सांसद हुए हैं, जिन पर देश नाज करता है, वहीं दुर्भाग्यवश इसी संसद में अपराधी, भ्रष्ट, रिश्वतखोर, सवाल पूछने के बदले पैसे लेने वाले, संसद में हाथा पाई, मारपीट तथा लात घूसा चलाने वाले, जमीर फरोश, सिद्धांत विहीन, सत्ता लोलुप, दलबदलू यहां तक कि अशिक्षित सांसद भी ‘शोभायमान’ होते रहें। इसके अतिरिक्त यही माननीय कई बार सांसद की गरिमा के विरुद्ध आचरण करते भी देखे जा चुके हैं। उदाहरण के तौर पर मार्च 2000 में जब तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन भारत के पांच दिवसीय दौरे पर आए थे उस दौरान उन्होंने 22 मार्च को संसद के केंद्रीय कक्ष में संयुक्त भारतीय संसद को भी संबोधित किया था। खचाखच भरे इस केंद्रीय हाल में राष्ट्रपति क्लिंटन के संबोधन के बाद जिस तरह हमारे ‘माननीयों ‘ में क्लिंटन के साथ हाथ मिलाने व फोटो खींचाने की होड़ मची थी वह दृश्य भी अभूतपूर्व था। अनेक सांसद उस दिन कुर्सियां फांद कर एक दूसरे को पीछे छोड़ राष्ट्रपति क्लिंटन की तरफ जाते दिखाई दिए थे। यह उनसे हाथ मिलाने व उसके साथ फोटो खिंचाने के लिये लालायित थे। इस दृश्य ने भी अनेक ‘माननीयों’ की मानसिकता व उनकी हकीकत को उजागर किया था। आज भी उसी मानसिकता के अनेक सांसद समय समय पर संसद में मोदी…मोदी का जाप करते सुनाई देते हैं। ऐसा नेता जाप भारत के अतिरिक्त किसी अन्य देश की संसद में होते नहीं सुनाई देता।

पिछले दिनों भारतीय संसद में तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा को लोकसभा से निष्कासित कर दिया गया। उनपर संसद में सवाल पूछने के बदले पैसे लेने तथा लोकसभा पोर्टल का अपना लॉग इन पासवर्ड, लोकसभा नियमों के विरुद्ध दूसरों से शेयर करने के आरोप हैं। हालांकि महुआ मोइत्रा के लोकसभा से निष्कासन को विपक्ष बदले की भावना से की गई कार्रवाई बता रहा है वहीं सरकार व उसके पक्षकारों का मत है कि महुआ के साथ जो कुछ हुआ है वह सब कुछ नियमों के तहत ही हुआ है। परंतु महुआ प्रकरण पर गत 8 दिसंबर को लोकसभा में चली चर्चा के दौरान जब महुआ के समर्थन में बांका (बिहार) के जनता दल यूनाइटेड सांसद गिरधारी यादव खड़े हुए तो उनके मुंह से कुछ ऐसे वाक्य निकले जिन्होंने न केवल लोकसभा अध्यक्ष बल्कि पूरी संसद को स्तब्ध कर दिया। चूंकि गिरधारी यादव अपने क्षेत्र से चार बार विधायक और तीन बार लोक सभा सदस्य के रूप में निर्वाचित हो चुके हैं, इसलिए जनता के बीच उनकी लोकप्रियता से इंकार कतई नहीं किया जा सकता। गिरधारी यादव ने साफ-साफ कहा कि न तो उन्हें लोकसभा पोर्टल लॉगिन करना आता है न ही उन्हें अपना पासवर्ड याद रहता है न ही वे लोकसभा में अपने सवाल खुद तैयार करते हैं। बल्कि उनका यह सारा गोपनीय काम उनके पीए करते हैं।

निश्चित रूप से सांसद गिरधारी यादव द्वारा संसद में आॅन रिकार्ड की गई यह स्वीकारोक्ति गैर कानूनी व संसदीय नियमों के विरुद्ध थी। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने सांसद गिरधारी यादव के इस बयान पर घोर आपत्ति भी दर्ज की और उन्हें सचेत भी किया कि सदन में आॅन रिकार्ड दिए गए आपके इस विवादित बयान को लेकर आपके विरुद्ध कार्रवाई भी हो सकती है। परंतु गिरधारी यादव ने बिना छुपाये हुए अपनी जो हकीकत थी वह बयान कर डाली। साथ ही यह भी कहा कि अब उनकी यह उम्र कम्यूटर आदि सीखने की नहीं और उन्हें यह सब नहीं आता। जब लोकसभा अध्यक्ष सांसद गिरधारी यादव की बातों से असहज हुए तो उन्होंने इस गंभीर विषय पर संसद की नब्ज भी टटोलनी चाही। उन्होंने उसी समय वरिष्ठ तृणमूल सांसद सुदीप बंदोपाध्याय से पूछा कि क्या आप इनकी (सांसद गिरधारी यादव) बातों से सहमत हैं। इस पर उस वरिष्ठ सांसद ने सदन में जो बात कही वह भारतीय संसद की हकीकत को उजागर करने के लिये काफी है। बंदोपाध्याय ने कहा कि आप दस दस सांसदों के ग्रुप को अपने कार्यालय में बुलाकर स्वयं देख लें कि कितने सांसदों को लॉगिन करना और कंप्यूटर संचालन आता है। यह सुनते ही लोकसभा अध्यक्ष जो सांसद गिरधारी यादव को उनके विवादित बयान के लिए कार्रवाई की धमकी देते सुनाई दिए वहीं स्पीकर, सुदीप बंदोपाध्याय की बात सुनकर ठंडे पड़ते देखे गए।

सवाल यह है कि क्या सांसद गिरधारी यादव की बातों पर सुदीप बंदोपाध्याय की प्रतिक्रिया और उनकी प्रतिक्रिया सुन लोकसभा अध्यक्ष की खामोशी भारतीय सांसदों की हकीकत को उजागर नहीं करती? और यहीं से दूसरा सवाल, महुआ मोइत्रा पर लगे आरोपों को लेकर भी खड़ा होता है कि जब सांसद गिरधारी यादव सदन में स्वीकार कर चुके कि न तो वे लोकसभा के अपने सवाल तैयार करते हैं न ही उन्हें अपना लॉग इन पासवर्ड याद रहता है। उनके यह सारे काम कोई अन्य (उनका पीए) करता है। फिर इन्हीं आरोपों में केवल महुआ मोइत्रा ही दोषी क्यों? रहा सवाल देश विदेश में संसद की गरिमा धूमिल करने का,जैसा कि सत्ता पक्ष के कई सांसदों द्वारा लोकसभा में चर्चा के दौरान महुआ मोइत्रा पर आरोप लगाया गया। तो संसद की गरिमा इससे भी अधिक पूरे विश्व में पहले भी धूमिल होती रही है।

याद कीजिए इसी वर्ष 21 सितंबर को जब भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी ने सांसद दानिश अली को संसद में निशाना बनाते हुए उनके पूरे समुदाय को संसद में गाली दी थी और अपमानित किया था। क्या एक निर्वाचित सांसद के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करना उसे गलियां देना, धमकी देना संसद की गरिमा को नहीं गिराता? भारतीय संसद ऐसी और भी अनेक घटनाओं की साक्षी रही है, जिससे लोकतंत्र के इस मंदिर की गरिमा को धक्का लगता रहा है। अदानी के बढ़ते साम्राज्य पर संसद के भीतर व बाहर मुखरित होकर बोलने वाली सांसद महुआ मोइत्रा को बहुमत के जोर पर संसद की सदस्य्ता से निष्कासित तो जरूर कर दिया गया है, परंतु इस चर्चा के दौरान महुआ के बहाने माननीयों की हकीकत से भी पर्दा उठ गया है।


janwani address 8

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments