Sunday, February 25, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutआखिर कब तक करें गरीब आशियाने का इंतजार ?

आखिर कब तक करें गरीब आशियाने का इंतजार ?

- Advertisement -
  • शासन की लापरवाही से गरीबों को नहीं मिल पा रही छत

जनवाणी संवाददाता |

लावड़: कस्बे में गरीबों को आशियाना मिलने की जग जाहिर उम्मीद पर पानी फिरता नजर आ रहा है। लगभग 12 साल पहले बने आईएचएसडीपी योजना के तहत कस्बा लावड़ में डूडा ने मकान बनाए थे। डूडा द्वारा बनाए गए मकानों से लोगों को छत मिलने की उम्मीद पूर्ण रूप से विफल होती जा रही है। जिसका मुख्य कारण शासन की लापरवाही है। जो लोगों के सपनों के घर पर ग्रहण लगा रही है। किसी भी जनप्रतिनिधि का इस और ध्यान नहीं है। जिससे यह अधर में पड़े हुए हैं।

अब इनका आलम यह है कि मकान में पशुओं को बांधा जा रहा है। हालात इतने बुरे हैं कि पूरी इमारत के बीच-बीच कस्बे का कूड़ा डाला जा रहा है। लोगों का कहना है कि इन मकानों में अवैध धंधे भी होते हैं। इमारत के मकान में लगे हुए लोहे के खिड़कियों से चोरों ने जंगले भी तोड़ लिए है। पूरी कॉलोनी गंदगी से भरी हुई है लोगों का तो यह भी कहना है कि इन कॉलोनी में अवैध काम भी हो रहे हैं।

एक तरफ तो प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत गरीब लोगों के लिए मकान बनाए जा रहे हैं। वहीं छत के लिए तरसते हुए ऐसे कितने गरीब लोग हैं। जिन्होंने आज भी डूडा द्वारा मकान मिलने की उम्मीद लगा रखी है, लेकिन मकान बनाए तो गए पर आज तक भी जरूरतमंद लोगों को बांटे नहीं गए। सरकारी पैसे का दुरुपयोग इन डूडा कॉलोनी में देखने को मिल जाएगा। 12 साल पहले इमारत बनकर अब जर्जर भी हो गई है,

लेकिन किसी को इसकी जरा भी परवाह नहीं है। जो गरीब अपने मकान को लेकर उम्मीदें जग जाहिर कर रहे थे। उन गरीबों की उम्मीद पर पानी तो फिरा ही बल्कि सरकार को भी करोड़ों का फटका लगा है। भाजपा के कार्यकर्ता अनुज शर्मा ने बताया कि डूडा द्वारा गरीबों को मकान आवंटित करना सरकार द्वारा एक अच्छी योजना थी। जोकि भ्रष्टाचार की भेट चढ़ गई।

सरकार को लगा करोड़ों का फटका

कस्बे में गरीबों को मकान देने के लिए शहर की आवास विकास योजना के तहत डूडा द्वारा आईएचएसडीपी योजना आई थी। इसके तहत कस्बे में लगभग 120 मकान की कॉलोनी बनाई गई और मकानों को लॉटरी के माध्यम से आवंटित किया जाना था, लेकिन यह मकान बनते ही भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए। तत्कालीन एसडीएम सरधना अखंड प्रताप सिंह ने निरीक्षण के दौरान इन सभी मकानों की वीडियोग्राफी कराकर इन की जांच कराई थी

और जांच में मकानों को रहने लायक नहीं बताया था। क्योंकि यह मकान कभी भी गिर सकते थे और शासन को भी इस पूरे प्रकरण से अवगत कराया गया था, लेकिन इतना समय होने के बाद भी इससे जुड़ी संस्था, ठेकेदार के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं हुई। भ्रष्टाचार से बनाई गए इन मकानों पर सवालिया निशान उठती रही हैं। सरकार के करोड़ रुपये इस योजना में बर्बाद कर दिए गए हैं।

दो जगह कॉलोनी बनाकर बनाए गए थे 60-60 मकान

राजकीय निर्माण विभाग को 120 मकान बनाकर तैयार देने थे, लेकिन इसके लिए नगर पंचायत लावड़ के पास कोई जगह नहीं थी। जहां यह मकान बन सके। उस वक्त तत्कालीन चेयरपर्सन अनीशा हारुन नगर पंचायत की मुखिया थी। चेयरपर्सन ने दो स्थानों पर जगह उपलब्ध कराई थी। जिसके बाद दोनों जगह पर 60-60 मकान की इमारत बनकर तैयार हुई थी और यह योजना शुरू होने से पहले ही विवादों में घिर गई थी।

पिछले कई वर्षों से कर रहे छत के लिए इंतजार

कस्बे के रहने वाले रईसुद्दीन का कहना है कि पिछले 12 सालों से वह डूडा कॉलोनी में मकान मिलने की आस लगाए हुए हैं, लेकिन उन्हें आज तक मकान नहीं मिला।

मकानों को है आवंटित होने का इंतजार

कस्बे के रहने वाले सईद का कहना है कि पिछले कई वर्षों से वह डूडा द्वारा बनाए गए मकानों को आवंटित होने का इंतजार कर रहे हैं। उन्हें अपने घर की छत मिल जाए इस उम्मीद की आस लगाए हुए हैं, शायद सरकार को गरीबों की बिल्कुल भी परवाह नहीं है।

मकान मिले तो मिलेगी कुछ राहत

कस्बे में रहने वाले सलीम ने बताया कि डूडा कालोनी में मकान मिलने से उनके परिवार को काफी मदद मिलेगी। घर की आर्थिक तंगी की वजह से वह मकान नहीं बना सके हैं। गर्मी और सर्दी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

मेरे संज्ञान में यह मामला नहीं था, मुझे अभी जानकारी हुई है। कॉलोनी में जो भी कमी है, उसे ठीक कराकर अधिकारियों से बात करके जल्दी ही डूडा कॉलोनी को आवंटित किया जाएगा।-डा. संजीव बालियान, कैबिनेट मंत्री

सरकार के द्वारा यह बहुत अच्छी योजना थी गरीबों को हमेशा आशियाने का इंतजार रहता है। नगर पंचायत की बोर्ड बैठक में इस मुद्दे को उठाया जाएगा। -शाहिद इस्लाम

नगर पंचायत द्वारा बोर्ड बैठक करके जल्द ही डूडा के मकानों को गरीबों में आवंटित किया जाएगा। -हज्जन आफताब बेगम, अध्यक्ष, नगर पंचायत लावड़

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments