Monday, September 20, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeINDIA NEWSटोक्यो पहुंचा भारत का पहला जत्था

टोक्यो पहुंचा भारत का पहला जत्था

- Advertisement -
  • भारतीय खिलाड़ियों ने खेल गांव में जमाया डेरा

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: ओलंपिक में कुछ कर गुजरने के लक्ष्य के साथ भारतीय दल का पहला जत्था 23 जुलाई से शुरू होने वाले खेलों के लिए रविवार की सुबह यहां पहुंचा तथा हवाई अड्डे पर कोविड-19 से जुड़े कड़े दिशानिर्देशों का पालन करने के बाद उन्होंने खेल गांव में प्रवेश किया।

भारत के पहले जत्थे में 88 सदस्य शामिल हैं। उन्हें शनिवार रात नई दिल्ली में भव्य विदाई दी गयी। इस बीच निशानेबाज और मुक्केबाज क्रोएशिया और इटली से जापान की राजधानी पहुंचे। भारत से यात्रा करने वाले दल में तीरंदाजी, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, हॉकी में पुरुष और महिला वर्ग की टीमें, जूडो, जिम्नास्टिक और तैराकी के खिलाड़ी, सहयोगी स्टाफ और अधिकारी शामिल हैं।

वे नई दिल्ली से विशेष विमान से टोक्यो पहुंचे। इस दल के एक सदस्य ने कहा कि टोक्यो हवाई अड्डे पर छह घंटे तक इंतजार करना पड़ा। हमारा कोविड-19 के लिए परीक्षण हुआ लेकिन ऐसी उम्मीद थी। सभी जांच सही रहने के बाद ही हम खेल गांव पहुंचे हैं।

इस समूह में विश्व चैंपियन बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु, छह बार की विश्व चैंपियन मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम, दुनिया के नंबर एक मुक्केबाज अमित पंघाल, दुनिया की नंबर एक तीरंदाज दीपिका कुमारी और टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा जैसे सितारे शामिल हैं।

भारतीय दल ऐसे दिन खेल गांव में पहुंचा जबकि वहां रहने वाले दो खिलाड़ियों और ओलंपिक के लिए नामित होटल में ठहरे एक खिलाड़ी का कोविड-19 के लिए किया गया परीक्षण पॉजिटिव आया है। भारतीय खिलाड़ियों ने अच्छी तरह से मॉस्क लगा रखा था।

यहां तक कि खेल गांव के लिए बसों में सवार होने से पहले आवश्यक कागजी कार्रवाई करते समय कुछ खिलाड़ियों को चेहरे पर शील्ड पहने हुए भी देखा गया। इन खेलों से जुड़े कोविड-19 मामलों की संख्या 55 तक पहुंच गई है। खेल दर्शकों के बिना खाली स्टेडियमों में आयोजित किये जाएंगे क्योंकि जापान की राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ता जा रहा है।

पिछले कुछ दिनों से टोक्यो में रोजाना 1000 से अधिक संक्रमण के मामले समाने आ रहे हैं। महामारी को लेकर संदेह के बावजूद, आईओसी के अध्यक्ष थॉमस बाक ने जोर देकर कहा है कि इन खेलों से ओलंपिक गांव और जापान के निवासियों को कोई खतरा नहीं है। भारत से रवान हुए पहले जत्थे में 54 खिलाड़ियों के अलावा सहयोगी स्टाफ और भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के प्रतिनिधि भी शामिल हैं।

भारतीय खिलाड़ियों का हवाई अड्डे पर कुरोबे शहर के प्रतिनिधियों ने स्वागत किया। उनके हाथों में बैनर थे जिन पर लिखा था कि कुरोबे भारतीय खिलाड़ियों का समर्थन करता है। #चीयर्स4इंडिया। इससे पहले शनिवार की रात को खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने नई दिल्ली में इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर हर्ष ध्वनि, तालियों की गड़गड़ाहट और शुभकामना संदेशों के साथ भारतीय दल को औपचारिक विदाई दी।

हवाई अड्डे पर अप्रत्याशित दृश्य देखने को मिला। ओलंपिक दल के लिए लाल कालीन बिछाया गया था। खिलाड़ियों की विदाई के लिए इतना उत्साह बना हुआ था कि भारत सरकार ने इन सदस्यों की कागजी औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए विशेष व्यवस्था की थी।

ठाकुर के अलावा विदाई समारोह में खेल राज्यमंत्री निसिथ प्रमाणिक, भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के महानिदेशक संदीप प्रधान, आईओए के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा और महासचिव राजीव मेहता ने भी हिस्सा लिया। भारत के कुछ खिलाड़ी विदेशों में अपने अभ्यास स्थलों से पहले ही टोक्यो पहुंच चुके थे। भारत की एकमात्र भारोत्तोलक मीराबाई चानू अमेरिका के सेंट लुई में अपने अभ्यास स्थल से शुक्रवार को टोक्यो पहुंची।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments