Friday, January 27, 2023
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeNational Newsपाकिस्तान को मिला पुराने सहयोगी का समर्थन, यूएसए ने कहा- जितनी हो...

पाकिस्तान को मिला पुराने सहयोगी का समर्थन, यूएसए ने कहा- जितनी हो सकेगी, उतनी मदद करेंगे

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: गंभीर आर्थिक संकट में फंसे पाकिस्तान को अपने पुराने सहयोगी अमेरिका का समर्थन मिला है। पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से कम हो रहा है।

इस बीच अमेरिकी सरकार के प्रवक्ता नेड प्राइस ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि अमेरिका चाहता है कि पाकिस्तान आर्थिक रूप से निर्भर बने।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार घटकर 4.3 बिलियन डॉलर हो गया है, जिससे सिर्फ तीन हफ्ते का निर्यात किया जा सकेगा। ऐसे में अगर पाकिस्तान को जल्द मदद नहीं मिली तो उसकी अर्थव्यवस्था बुरी तरह चरमरा सकती है।

रोजाना होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि

अमेरिकी सरकार के प्रवक्ता नेड प्राइस ने बुधवार को अपनी रोजाना होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि यह एक चुनौती है और हमारी भी इस पर नजर है। पाकिस्तान, आईएमएफ और अंतरराष्ट्रीय आर्थिक संस्थानों के साथ बातचीत कर रहा है।

वो बातचीत चल रही हैं और हम भी जहां तक कर सकते हैं वहां तक अपने पाकिस्तानी सहयोगियों की मदद करेंगे लेकिन आखिरकार यह बातचीत पाकिस्तान और अंतरराष्ट्रीय आर्थिक संस्थानों के बीच का मामला है। हम चाहते हैं कि पाकिस्तान आर्थिक रूप से निर्भर बने।

पाकिस्तान को आईएमएफ से मिलने वाली अगली किस्त का इंतजार है जो उसकी परेशानियों को कुछ कम कर सकती है लेकिन आईएमएफ ने अभी अगली किस्त पर रोक लगाई हुई है।

इस गतिरोध को खत्म करने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने 6 जनवरी को अंतरराष्ट्रीय मोनेट्री फंड की चीफ क्रिस्टालिना जियोर्जियेवा से बातचीत भी की थी।

जो वादा किया था, वह उसे नहीं निभा रहा

हालांकि आईएमएफ ने फिलहाल नई किस्त जारी करने पर रोक लगाई हुई है। दरअसल आईएमएफ का कहना है कि पाकिस्तान ने पिछली किस्त जारी करने के समय जो वादा किया था, वह उसे नहीं निभा रहा है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में आर्थिक हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि वहां खाने-पीने की जरूरी चीजों का संकट पैदा हो गया है।

आटा, दाल आम आदमी की पहुंच से बाहर होते जा रहे हैं, साथ ही आटे-दाल की कमी भी आम जनता की परेशानी बढ़ा रही है। हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने भारत के सामने दोस्ती का हाथ बढ़ाया है।

पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ ने कहा है कि

पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ ने कहा है कि पाकिस्तान ने भारत के साथ तीन युद्ध लड़े हैं। अब पाकिस्तान ने अपना सबक सीख लिया है। हम दोनों पड़ोसी देश हैं और दोनों को एक दूसरे के साथ रहना है।

अब यह हमारे ऊपर है कि हम मिलजुलकर शांति से रहें या फिर लड़ाई झगड़े में समय के सात संसाधनों की भी बर्बादी करें।


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले www.dainikjanwani.com पर हिंदी में जरूर पढ़ें। आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट दैनिक जनवाणी डॉट कॉम।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments