Wednesday, May 29, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutजिलाधिकारी के आदेशों पर भारी पीवीवीएनएल एक्सईएन के आदेश

जिलाधिकारी के आदेशों पर भारी पीवीवीएनएल एक्सईएन के आदेश

- Advertisement -
  • गत 19 अप्रैल को मतदान में शामिल होने पर थमा दिए कर्मियों को नोटिस

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: चुनाव आयोग के निर्देश पर मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिए जिला निवार्चन अधिकारी, जिलाधिकारी के प्रयास व आदेशों पर पीवीवीएनएल के अधिशासी अभियंता सुधांशु श्रीवास्तव के आदेश भारी पड़ गए। लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए गत 19 अप्रैल को हुए मतदान के मद्देनजर जिला निर्वाचन अधिकारी ने सभी राजस्व व दूसरे कार्यालयों के कर्मचारियों को मतदान में शामिल रहने के मद्देनजर अवकाश की घोषणा की थी। इसी तर्ज पर 26 अप्रैल को प्रस्तावित दूसरे चरण के मतदान के लिए अवकाश की घोषणा की गयी है, ताकि सभी अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें।

सख्त विरोध दर्ज

जिला निर्वाचन अधिकारी के गत 19 अप्रैल के मतदान को लेकर जारी आदेशों के अनुपालन पर अधिशासी अभियंता के पत्र को लेकर राष्ट्रीय विद्युत परिषद प्राविधिकि कर्मचारी संघ ने सख्त विरोध दर्ज किया है। जिलाध्यक्ष कपिल देव गौतम व सचिव जितेन्द्र सैनी एक प्रतिनिधिमंडल को लेकर जो नोटिस जारी किया गया है। उसको लेकर चर्चा के लिए अधिशासी अभियंता के कार्यालय पहुंचे, लेकिन सुधांशु श्रीवास्तव वहां नहीं मिले।

कपिल देव गौतम ने 15 कर्मचारियों को जारी किए गए नोटिस को लेकर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि इस नोटिस से स्पष्ट है कि जिला निर्वाचन अधिकारी के आदेश के अनुपालन को लेकर अधिशासी अभियंता गंभीर नहीं। इस संबंध में जब सुधांशु श्रीवास्तव से उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उनसे बात नहीं हो सकी।

14 15

मतदान की चुका रहे कीमत

जिला निर्वाचन अधिकारी के आदेश थे, सो पीवीवीएनएल के कर्मचारी भी मतदान के लिए चले गए, लेकिन गत 19 अप्रैल को मतदान में शामिल होना पीवीवीएनएल के 15 कर्मचारियों के लिए मुसीबत का सबब बन गया है। अधिशासी अभियंता ने इन सभी को कारण बताओ नोटिस थमा दिया है। ऐसे ही एक टीजी-टू को भेजे गए नोटिस में कहा गया है कि गत 19 अप्रैल को राजस्व संग्रह काउंटर नहीं खोला गया।

जिस कारण खंड कार्यालय का राजस्व संग्रह शून्य हुआ है। यह कार्य कर्मचारी आचरण नियमावली 1950 में निहित प्रावधानों के अनुसार कदाचार की श्रेणी में आता है। अत: गत 19 अप्रैल को राजस्व संग्रह काउंटर न खोलने के संबंध में स्पष्टीकरण पत्र प्राप्ति के तीन कार्य दिवसों में खंड कार्यालय में प्रस्तुत करना सुनिश्चित करें, अन्यथा की स्थिति में एक दिवस का वेतन रोक दिया जाएगा

एवं उच्चाधिकारियों से संबंधित के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की संस्तुति की जाएगी। अधिशासी अभियंता सुधांशु श्रीवास्तव के इस पत्र को लेकर पीवीवीएनएल में तमाम अफसर भी हैरानी जता रहे हैं और कह रहे हैं कि यह इस पत्र को जारी करने का मंतव्य क्या जिला निर्वाचन के आदेशों के ऊपर नहीं माना जाना चाहिए।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments