Tuesday, April 23, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurएक सप्ताह में ढ़ोली खाल के कूड़ाघर की भी बदलेगी सूरत

एक सप्ताह में ढ़ोली खाल के कूड़ाघर की भी बदलेगी सूरत

- Advertisement -
  • नगरायुक्त ने दिए अधिकारियों को निर्देश

जनवाणी संवाददाता |

सहारनपुर: शहर के कूड़ाघरों को समाप्त करने और संवारने की दिशा में नगर निगम एक कदम और बढ़ाने जा रहा है। अंबाला रोड स्थित ढोलीखाल के कूड़ाघर को भी व्यवस्थित कर संवारा जायेगा। नगरायुक्त ने आज इस सम्बंध में अधिकारियों को निर्देश दिए।

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शहर के कूड़ाघरों को समाप्त करने और संवारने का प्रयास निगम लगातार कर रहा है। नगरायुक्त ग़ज़ल भारद्वाज ने आज अधिकारियों के साथ बैठक कर अंबाला रोड़ स्थित ढ़ोलीखाल के कूड़ाघर को जल्दी समाप्त करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जब तक इसकी वैकल्पिक व्यवस्था नहीं हो जाती तब तक इसे व्यवस्थित कर संवारा जाये। नगरायुक्त ने तत्काल कूड़ाघर का निरीक्षण कर वस्तु स्थिति से अवगत कराने को कहा ताकि एक सप्ताह के भीतर कार्य पूरा किया जा सके। नगरायुक्त के निर्देश पर अपर नगरयुक्त एस के तिवारी, सहायक नगरायुक्त अशोक प्रिय गौतम, जेड एस ओ राजीव, सहायक अभियंता निर्माण अनुज ने ढोलीखाल कूड़ाघर का निरीक्षण किया और नगरायुक्त को कूड़ाघर की स्थिति से अवगत कराया।

नगरायुक्त ने ने निर्देश दिए कि कूड़ाघर दीवार ऊंची की जाए या उसे शेड से चारों ओर से कवर करा कर उसमें गेट लगाया जाए ताकि कूड़ इधर-उधर न फैल सके। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि वार्डो से एकत्रित कर लाया गया कूड़ा सड़क पर न फैलाया जाए। कूडे़ का समय से उठान कराने पर बल देते हुए उन्होंने कूडे़ की दीवार पर पेंटिंग कराने तथा उसके बराबर में स्थित शौचालय की स्थिति सुधारने का भी सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि शहर की स्वच्छता निगम की सबसे पहली प्राथमिकता है।

53 14

लिक्विड खाद से लहलहायेंगे डिवाइडरों के पौधे

आईटीसी मिशन सुनहरा कल के सहयोग से नगर निगम अधिक से अधिक घरों से डोर टू डोर कूड़ा एकत्रित कर उससे जैविक खाद बना रहा है। यह जैविक खाद सूखी खाद के अलावा लिक्विड(तरल)रुप में भी बनायी जा रही है। निगम के सहयोगी एक एनजीओ स्पेस सोसायटी ने कूड़े से लिक्विड रुप में बनायी गयी एक हजार लीटर खाद से भरे ड्रम आज बेहट रोड स्थित एमआरएफ सेंटर पर सहायक नगरायुक्त को सौंपे।

सहायक नगरायुक्त अशोक प्रिय गौतम ने बताया स्वच्छता अभियान के तहत आईटीसी मिशन सुनहरा कल के सहयोग से डोर टू डोर कूड़ा एकत्रित कर एमआरएफ सेंटरों पर लाया जा रहा है जहां गत्ता, लोहा, टीन, कागज, कांच आदि के रुप में उसका अलग-अलग पृथक्करण किया जाता है। गीली खाद से जैविक खाद तैयार की जा रही है और बाकि कचरे को पुर्नचक्रण के लिए भेज रहा है। उन्होंने बताया कि गीले कचरे का जैविक उपचार कर उससे बनायी गयी एक हजार लिक्विड खाद स्पेस सोसायटी द्वारा नगर निगम को दी गयी है। इसका उपयोग गांधी पार्क के पौधों व क्यारियों के अलावा शहर के डिवाइडरों में लगाये गए पौधों में किया जायेगा।

स्पेस सोसायटी के निदेशक परियोजना मदन भारती ने बताया कि उक्त एक हजार लिक्विड खाद पांच वार्डो से एकत्रित किये गए करीब दो हजार क्विटंल कूडे़ के पृथक्करण व जैविक उपचार से तैयार की गयी है। इससे पूर्व गत वर्ष भी उनकी सोसायटी द्वारा 800 लीटर लिक्विड खाद तैयार कर निगम को दी गयी थी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments