Saturday, May 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttarakhand Newsबदरीनाथ के दर्शनों के लिए आए सहारनपुर के श्रद्धालु की मौत

बदरीनाथ के दर्शनों के लिए आए सहारनपुर के श्रद्धालु की मौत

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: उत्तराखंड में चारधाम यात्रा रविवार को भी जारी रही। रुद्रप्रयाग जिले में हल्के बादल छाए हुए हैं। केदारनाथ यात्रा सुचारू है।

चमोली में मौसम सामान्य है। बदरीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब यात्रा भी सुचारू है। यमुनोत्री घाटी में हल्के बादल छाए हुए हैं। यहां शनिवार से यात्रियों की आवाजाही में बढ़त आई है।

वहीं रविवार को भगवान बदरीनाथ के दर्शनों के लिए आए सहारनपुर के श्रद्धालु अवध बिहारी (उम्र 60 साल) की मंदिर परिसर में अचानक तबीयत बिगड़ गई और वह बेहोश हो कर गिर गए।

काफी कोशिश करने के बाद भी वह होश में नहीं आए और उन्हें स्थानीय अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत बताया। मृतक के भाई राम बिहारी ने बताया कि उनको हार्ट की प्रॉब्लम थी और उनकी बाईपास सर्जरी भी हुई थी।

सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने किए बाबा केदार के दर्शन

आध्यात्मिक सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने हेलीकॉप्टर से केदारनाथ पहुंचकर बाबा केदार के दर्शन किए। उन्होंने बताया कि वे कई दिनों से देवभूमि उत्तराखंड का भ्रमण कर रहे हैं। उन्होंने केदारनाथ से देश की सुख-समृद्धि की कामना करते हुए श्रद्धालुओं से उत्तराखंड चारधाम यात्रा पर आने का आह्वान भी किया।

गौरतलब है कि जग्गी वासुदेव तीन दिन पूर्व ऋषिकेश से मोटर साइकिल से केदारनाथ, बदरीनाथ धाम की यात्रा के लिए निकले थे।

गुप्तकाशी से वे हेलीकॉप्टर से धाम पहुंचे। केदारनाथ से वापस गुप्तकाशी पहुंचकर वे मोटर साइकिल से बदरीनाथ के लिए रवाना हो गए हैं। उनके भक्त वाहन साथ चल रहे हैं।

वहीं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सरकार पर चारधाम यात्रा ठीक से संचालित नहीं करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सरकार जानबूझकर यात्रा संचालन में रुचि नहीं दिखा रही है।

इसका खामियाजा यात्रा से जुड़े स्थानीय लोगों को भुगतना पड़ रहा है। इस मुद्दे को लेकर रावत ने शनिवार को कोटद्वार में एक घंटे का मौन उपवास भी रखा।

जानबूझकर यात्रा में रुचि नहीं ले रही सरकार

अपने फेसबुक पेज पर हरीश रावत ने कहा कि वह सरकार से आग्रह करना चाहते हैं कि चारधाम यात्रा का संचालन व्यवस्थित ढंग से करें। हाईकोर्ट के पास कार्ययोजना प्रस्तुत करें।

केदारनाथ में आठ सौ और बदरीनाथ में एक हजार लोगों की ही एंट्री के प्रतिबंध को हटवाएं। सरकार की कार्ययोजना पर ही सब कुछ निर्भर है।

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार जानबूझकर यात्रा में रुचि नहीं ले रही है। इससे श्रद्धालुओं के साथ उन लोगों की आजीविका भी प्रभावित हो रही है, जो पर्यटन और तमाम दूसरी व्यवस्थाओं से जुड़े हैं।

ऋषिकेश: 24 वाहनों से 514 यात्री पहुंचे चारधाम

शनिवार को 24 वाहनों से 514 यात्री चारधाम के लिए रवाना हुए। चारधाम यात्रा पर जाने वाले 27 वाहनों के ग्रीन कार्ड बनाए गए।

एआरटीओ (प्रवर्तन) पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि यात्रियों की संख्या में दिनोंदिन इजाफा हो रहा है। यात्रा के दौरान विभाग की ओर से चेकिंग अभियान पर भी फोकस किया जा रहा है।

कुछ लोग टैक्सियों से तो कुछ लोग बस से चारधाम की यात्रा कर रहे हैं। वहीं चारधाम यात्रा की आड़ में कई वाहन संचालक प्राइवेट टैक्सियों से सवारी भरकर अलग अलग धामों के लिए रवाना हो रहे हैं, ऐसे वाहनों चेक पोस्ट पर पकड़कर उनके कागज चेक कर उन्हें सीज किया जा रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments