Saturday, May 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsकिसान आत्मदाह मामले में बड़ा अपडेट, गांव पहुंचा मृतक किसान जगबीर का...

किसान आत्मदाह मामले में बड़ा अपडेट, गांव पहुंचा मृतक किसान जगबीर का शव, ग्रामीणों ने शव का अंतिम संस्कार करने से किया इंकार

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शनिवार की शाम को किसान का पोस्टमार्टम कराया गया। इस दौरान मृतक किसान जगबीर के बड़े बेटे प्रिंस ने जिलाधिकारी दीपक मीणा से मिलकर दोषियों के खिलाफ उचित कार्रवाई की मांग की। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने हर संभव मदद का आश्वासन देते हुए कहा कि मामले की निष्पक्षता से जांच की जा रही है। जिसके लिए एडीएम प्रशासन अमित कुमार व एसपी देहात कमलेश बहादुर को जांच के लिए लगाया गया है।

वहीं, देर रात करीब 10 बजे मृतक किसान जगबीर का शव भारी पुलिस बल के साथ गांव में पहुंचा। जिसे गांव के बाहर किसान जूनियर हाईस्कूल में रखा गया है। ग्रामीण और परिजनों ने हिंदू रीत- रिवाज के अनुसार, संस्कार करने की बात कहते हुए रात में संस्कार करने से मना कर दिया। पीड़ित परिजनों की ओर से कहा गया है कि रविवार सुबह को अंतिम संस्कार किया जाएगा।

जगबीर की मौत से परिजनों में आक्रोश
जगबीर की मौत की खबर सुनते ही परिजनों में आक्रोश फैल गया। परिजन मवाना जाकर धरना-प्रदर्शन की जिद पर अड़े हैं, जबिक कुछ ग्रामीण पीड़ित परिवार को समझाने की कोशिश में लगे हैं। लेकिन परिजन नहीं मान रहे हैं। उधर, प्रशासनिक अधिकारियों ने मृतक जगबीर के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

परिजनों का कहना है कि जब तक दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होगी तब तक वह उसका अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। सपा विधायक अतुल प्रधान और भाजपा नेता आकाश गुर्जर अभी गांव में मौजूद हैं। जो पीड़ित परिवार की ओर से कुछ मांगों को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों से लगातार बातचीत कर रहे हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से अभी कोई मांग मंजूर नहीं की गई है। फिलहाल आश्वासन दिया जा रहा है। वहीं, मृतक के बेटे आकाश ने थाने पर कई अधिकारियों के खिलाफ हत्या के मामले में तहरीर दी है।

न्यूटिमा हास्पिटल के प्रबंधक डॉक्टर संदीप गर्ग ने बताया कि जगबीर की मृत्यु हो गई है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया है। उधर, किसान की मौत से ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। हस्तिनापुर के अलीपुर मोरना गांव में भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात किया गया है।

बता दें कि आज शनिवार को मवाना एसडीएम दफ्तर के सामने खुद को आग लगाने वाले किसान की मौत हो गई है। किसान का शरीर 70 फीसदी जल गया था, जिसके बाद उसे मेरठ के लिए रेफ किया गया था। वहीं, शनिवार को उपचार के दौरान किसान जगबीर की मौत हो गई।

एसडीएम अखिलेश यादव और थाना प्रभारी विजय बहादुर आज यानी शनिवार को गांव में पहुंचे थे, जहां उन्होंने ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया था। एसडीएम अखिलेश यादव ने ग्रामीणों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया था। साथ ही कहा कि इस मामले में निष्पक्षता से पूरी जांच कराई जाएगी। लेकिन अब किसान की मौत होने से अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए हैं।

पिता को इंसाफ न मिलने पर टॉवर पर चढ़ा था नाराज बेटा
अलीपुर मोरना गांव निवासी जगबीर मामले में कोई कार्रवाई न होने पर छोटा बेटा आकाश गांव लगे टावर पर चढ़ गया था। जिसे देखकर ग्रामीण और पुलिस अधिकारियों में हड़कंप मच गया था। इसके बाद आनन-फानन सैंकड़ों ग्रामीण और पुलिसकर्मी टावर के नीचे पहुंचे, जहां पर उन्होंने आकाश से नीचे उतरने की अपील की। लेकिन वह नहीं उतरा।
इसके बाद राज्यमंत्री दिनेश खटीक गांव में पहुंचे थे और पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद के लिए कुछ रुपये दिए, जिसका आकाश ने विरोध किया। आकाश ने कहा था कि अगर पिता को इंसाफ नहीं मिला तो वह भी आत्महत्या कर लेगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments