Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutनिगम में 23 कर्मचारियों की फर्जी नियुक्ति प्रकरण में सीएम से शिकायत

निगम में 23 कर्मचारियों की फर्जी नियुक्ति प्रकरण में सीएम से शिकायत

- Advertisement -
  • मुख्यमंत्री जीरो टॉलरेंस नीति के अंतर्गत समस्त पत्रावलियां तलब कर अपने स्तर से कराये जांच

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: नगर निगम में 23 कर्मचारियों के फर्जी नियुक्ति के मामले में बुधवार को अपर नगरायुक्त के द्वारा जो कर्मचारियों को क्लीन चिट दी गई। वहीं दूसरी ओर तत्कालीन मुख्य स्वास्थय अधिकारी पर तमाम गंभीर आरोप भेजी गई जांच रिपोर्ट में अपर आयुक्त के द्वारा लगाये गये हैं। उनको लेकर तत्कालीन मुख्य स्वास्थय अधिकारी नगर निगम ने तथ्यों के आधार पर सवाल खड़े करते हुये उनको ही मामले में दोषी बताते हुये कार्रवाई की मांग की है।

जिसमें मुख्यमंत्री एवं नियुक्ति सचिव को पत्र भेजते हुये खुद की व परिवार की जान को भी खतरा बताया। उन्होंने बताया कि पूर्व में उनके मकान पर हमला किया जा चुका था। जिसमें पुलिस ने गोलमोल जांच रिपोर्ट तैयार करके उनके घर पर हमला करने वालों पर भी कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं जांच के नाम पर मामले में निगम के अधिकारियों के द्वारा लगातार गुमराह किया जा रहा है।

नगर निगम के तत्कालीन मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी प्रेम सिंह के द्वारा 23 कर्मचारियों की नियुक्ति को अवैध बताते हुये जो शिकायत की गई है। उसकी जांच रिपोर्ट को लेकर नगर निगम के अधिकारी एवं प्रेम सिंह के बीच काफी लंबे समय से जो विवाद चल रहा है। वह खत्म होने की जगह लगातार बढ़ता ही जा रहा है। जहां एक तरफ डा. प्रेम सिंह का आरोप है कि नगर निगम के अधिकारी जांच के नाम पर मामले में उन 23 कर्मचारियों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

जिनकी उनके द्वारा तथ्यों के आधार पर शिकायत की गई है। वहीं निगम के अधिकारी उलटे तत्कालीन मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम डा. प्रेम सिंह पर ही निगम के रिकॉर्ड में हेराफेरी करने व उनके खिलाफ थाने में दो बार प्राथमिकी दर्ज कराने तक का आरोप लगाते हुये उन्हे कठघरे में खड़ा कर रहे हैं। मामला फिलहाल जांच में अटका हुआ है। निगम के द्वारा मामला सीबीसीआईडी के पास होने की बात अब तक कही जा रही थी,

लेकिन बुधवार को जो जांच आख्या नगर निगम के द्वारा अपर आयुक्त ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गई शिकायत के लिये डीएम को भेजी उसमें सभी 23 कर्मचारियों की नियुक्ति को क्लीन चिट देने की बात कही गई और डा. प्रेम सिंह पर तमाम आरोप लगाते हुये उनके खिलाफ लंबित मामलों में कार्रवाई के लिये भी लिखा गया। मामला गुरुवार को प्रमुखता से छपा तो डा. प्रेम सिंह ने निगम के द्वारा भेजी जांच पर सवाल खडेÞ कर दिये हैं। साथ ही इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री को पत्र भी भेजने की बात कही है।

अपर नगरायुक्त के द्वारा जो जांच रिपोर्ट भेजी गई है। जिसमें 23 कर्मचारियों को क्लीन चिट दी गई है। उसमें पत्रांक संख्या-5671 दिनांक 29 जून 2021 के द्वारा गठित टीम के आधार पर जांच रिपोर्ट तैयार कर भेजना बताया है। जबकि उनके द्वारा जो शिकायत की गई थी उसमें 27/9/2021 को पत्रांक संख्या, 5777 पर जांच टीम गठित की गई थी। जिससे स्पष्ट है कि जांच रिपोर्ट गुमराह करने वाली है।

वहीं बताया गया कि 17/03/2023 को सीबीसीआईडी के पास जांच भेजने की बात निगम की अपर नगरायुक्त ममता मालवीय द्वारा कही गई। जिसके बारे में भी तक जांच में क्या आया वह कुछ भी स्पष्ट नहीं हो सका है। जोकि 29 नवंबर 2021 को जो अपर नगरायुक्त ममता मालवीय के नेतृत्व में तीन सदस्यीय टीम गठित की गई थी। उस टीम को एक महीने के भीतर जांच रिपोर्ट सौंपनी थी, लेकिन 18 महीने बीत जाने पर भी नहीं सौंपी गई।

वहीं 23/4/2022 को जो तत्कालीन नगरायुक्त मनीष बंसल के द्वारा जो पत्र जारी किया गया था। उसमें सात महीने बाद सीबीसीआईडी के संबध में निगम द्वारा बताया गया। तो निगम के अधिकारियों को सात महीने पहले सीबीसीआईडी की जांच के बारे में पहले से कैसे पता चल गया।

वहीं तमाम आरोप प्रत्यारोप के बीच डा. प्रेम सिंह ने बताया कि पूर्व में उनके घर पर हमला हो चुका है। वहीं भविष्य में भी उसे वह उसके परिवार को इस मामले की जांच के चलते जान का खतरा भी बना हुआ है। फिलहाल निगम की जांच रिपोर्ट के बाद मामला सुलझने की जगह और उलझता दिखाई पड़ रहा है।

मेरे द्वारा जो 23 कर्मचारियों की निगम में फर्जी नियुक्ति की शिकायत की गई है। वह तथ्यों के आधार पर की गई है। जबकि जांच में बार-बार निगम के द्वारा गुमराह करने वाली रिपोर्ट तैयार करके भेजी जा रही है। मेरे परिवार को इस जांच के चलते जान तक का खतरा बना हुआ है।
-डा. प्रेम सिंह,तत्कालीन मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी, नगर निगम

मामले में जो आरोप डा. प्रेम सिंह के द्वारा नगर नगरायुक्त ममता मालवीय पर लगाये गये हैं। उनके संबंध में उनका पक्ष जानने के लिये कार्यालय में संपर्क किया तो बताया गया कि वह फील्ड में गई हैं। वहीं उनके मोबाइल पर संपर्क किया तो कॉल रिसीव नहीं हो सकी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments