Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादसप्तरंगसंविधान, संसद और लोकतंत्र

संविधान, संसद और लोकतंत्र

- Advertisement -

 

Samvad 25


Saleel Sarojदशकों पहले एक प्रख्यात समाजशास्त्री ने भारतीय लोकतंत्र को आधुनिक दुनिया का एक धर्मनिरपेक्ष चमत्कार और अन्य विकासशील देशों के लिए एक मॉडल’ कहा था। आजादी के सात दशक बाद भी, भारतीय लोकतंत्र का चमत्कार उन लोगों के लिए आशा की किरण की तरह चमक रहा है, जो बुनियादी मानवीय मूल्यों में इसकी नींव के साथ स्वतंत्रता को संजोते हैं। जब भारत आजाद हुआ तो दुनिया में कई लोगों ने सोचा कि हमारा लोकतांत्रिक प्रयोग कभी सफल नहीं होगा। उन्होंने हमारी विविधता, गरीबी और हमारे लोगों की शिक्षा की कमी को देखा और भविष्यवाणी की कि भारत सत्तावादी शासन या सैन्य तानाशाही में खो जाएगा। लेकिन, भारत के लोगों ने इन सभी कयासों को गलत साबित कर दिया।

भारत के अपनी लोकतांत्रिक यात्रा पर आगे बढ़ने से पहले, हमारे संविधान के संस्थापक समझ गए थे कि अन्याय कहीं भी हर जगह न्याय के लिए खतरा है। इसलिए, एक लोकतांत्रिक भारत अफ्रीका और अन्य एशियाई देशों के लोगों के साथ एकजुटता के साथ खड़ा था, जो औपनिवेशिक सत्ता की जंजीरों को उखाड़ कर अपने भाग्योदय के लिए संघर्ष कर रहे थे। भारत उनके संघर्षों में एक मजबूत भागीदार बना रहा क्योंकि उन्होंने स्वतंत्रता और आत्मनिर्भरता की मांग की थी।

‘भारत का संविधान’ दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की नींव पर है। यह देश के लोकतांत्रिक ढांचे में सर्वोच्च कानून है और यह हमारे प्रयासों में लगातार हमारा मार्गदर्शन करता है। संविधान हमारी लोकतांत्रिक शासन प्रणाली और हमारे मार्गदर्शक प्रकाश का स्रोत भी है। हमने अन्य देशों के कई अन्य संविधानों से सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाया है। इसके अलावा हमारे स्वतंत्रता संग्राम से हमारे सदियों पुराने मूल्यों और आदर्शों की छाप हमारे संविधान में भी देखी जा सकती है। हमारा संविधान भारत के लोगों का, भारत के लोगों द्वारा और भारत के लोगों के लिए है। यह एक राष्ट्रीय दस्तावेज है जिसके विभिन्न पहलू हमारी प्राचीन विधानसभाओं और सभाओं, लिच्छवी और अन्य प्राचीन भारतीय गणराज्यों और बौद्ध संघों में प्रचलित लोकतांत्रिक व्यवस्था को भी दशार्ते हैं।

भारतीय लोकतंत्र को पूरी दुनिया में विधिवत सम्मान और आदर दिया जाता है। भारत के लोगों ने जब 17वें आम चुनाव में भाग लिया और दुनिया की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक प्रक्रिया को पूरा किया तो इस चुनाव में 610 मिलियन से अधिक लोगों ने अपना वोट डाला। महिला मतदाताओं की भागीदारी लगभग पुरुषों के बराबर थी। 17वीं लोकसभा के लिए 78 महिला सदस्यों का चुनाव, इस सदन के लिए अब तक चुनी गई महिला सदस्यों की सबसे अधिक संख्या होने के नाते, हमारे लोकतंत्र के लिए एक शानदार उपलब्धि है। आज, महिला सशक्तिकरण पर संसद की स्थायी समिति के सभी सदस्य महिलाएं हैं। यह एक महत्वपूर्ण सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन का प्रतीक है जो उज्ज्वल भविष्य को दर्शाता है।

25 नवंबर 1949 को संविधान सभा में अपना अंतिम भाषण देते हुए डॉ. अम्बेडकर ने कहा था कि संविधान की सफलता भारत के लोगों और राजनीतिक दलों के आचरण पर निर्भर करेगी। हमारे संविधान के विख्यात निर्माताओं ने पूरी निष्ठा और ईमानदारी के साथ, भय या पक्षपात, स्नेह या दुर्भावना और पूर्वाग्रह से मुक्त रहते हुए कर्तव्यनिष्ठा से सेवा करने और काम करने की कल्पना की थी। उन्हें विश्वास होता कि उनकी आने वाली पीढ़ियां, यानी हम सब, इन मूल्यों को उसी सहजता और सत्यनिष्ठा के साथ अपनाएंगे, जैसा उन्होंने खुद किया था। मुझे लगता है, वर्तमान समय में, हम सभी को आत्मनिरीक्षण करने और इस पर चिंतन करने की आवश्यकता है।

महात्मा गांधी ने लोगों के अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में बोलते हुए कहा था, ‘अधिकारों का असली स्रोत कर्तव्य है। अगर हम सभी अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हैं, तो अधिकार की तलाश दूर नहीं होगा। अगर कर्तव्यों को पूरा नहीं किया जाता है तो हम अधिकारों के पीछे दौड़ते हैं, वे हमसे बच जाते हैं किसी दिवा-स्वप्न की तरह।’ मानवतावाद की भावना का विकास करना भी नागरिकों का मौलिक कर्तव्य है। सबके प्रति दया भाव से सेवा करना भी इसी कर्तव्य में निहित है। गुजरात की मुक्ताबेन दागली, जिन्हें इसी वर्ष राष्ट्रपति भवन में ‘पद्मश्री’ प्रदान किया गया है। बचपन में अपनी दृष्टि खोने के बावजूद, उन्होंने अपना पूरा जीवन दूसरों के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया। उसने कई दृष्टिबाधित लड़कियों के जीवन को रोशन किया है। अपने संगठन के माध्यम से, वह भारत के कई राज्यों की कई नेत्रहीन महिलाओं के जीवन में आशा की रोशनी बिखेर रही हैं। उनके जैसे नागरिक वास्तव में हमारे संविधान के आदर्शों को कायम रखते हैं। वे राष्ट्र-निर्माता कहलाने के पात्र हैं।

हमारा संविधान निस्संदेह सबसे महत्वपूर्ण विरासत है जो हमें हमारे संस्थापकों ने दी है। यह इतनी श्रद्धा का आदेश क्यों देता है? ऐसा इसलिए है, क्योंकि संविधान एक राष्ट्र के शासन के लिए एक चार्टर है। यह शासन की प्रकृति और प्रक्रिया को परिभाषित करता है और इसके संस्थानों की स्थापना और कामकाज के लिए नियम निर्धारित करता है। हमारे संविधान की सुंदरता उसकी लचीलेपन और व्याख्या के दायरे में है जो इस समय की आवश्यकता के प्रति उत्तरदायी बनाता है और दशकों के अनुभव से समृद्ध होता है। फिर भी, संविधान कुछ कालातीत मूल्यों को स्थापित करता है जो हमारे मार्गदर्शक सिद्धांतों के रूप में बने रहते हैं। हमारे पहले प्रधान मंत्री, जवाहरलाल नेहरू का मानना था कि लोकतंत्र में मतदान, चुनाव या सरकार के राजनीतिक रूप से कहीं अधिक गहरा है। उन्होंने कहा, ‘यह सोचने का एक तरीका है, कार्रवाई का एक तरीका है, आपके पड़ोसी और आपके विरोधी और प्रतिद्वंद्वी के लिए व्यवहार का तरीका है।’

25 नवंबर, 1949 को डॉ. बी.आर. अम्बेडकर ने कहा था : ‘…संविधान कितना भी अच्छा क्यों न हो, उसका बुरा बनना निश्चित है अगर इसे कार्यान्वित करने वाले बहुत बुरे होते हैं। संविधान कितना भी बुरा क्यों न हो, यह अच्छा हो सकता है यदि जो लोग इसे कार्यान्वित कर रहे हैं वो बहुत अच्छे हों। संविधान की कार्यप्रणाली पूरी तरह से संविधान की प्रकृति पर निर्भर नहीं करती है। संविधान केवल राज्य के अंगों जैसे कि विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका प्रदान कर सकता है। जिन कारकों पर राज्य के उन अंगों का काम निर्भर करता है, वे लोग और राजनीतिक दल हैं जिन्हें वे अपनी इच्छाओं और अपनी राजनीति को पूरा करने के लिए इसे एक औजार के रूप में इस्तेमाल करेंगे।’

सलिल सरोज


janwani address 156

What’s your Reaction?
+1
0
+1
5
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments