Sunday, July 25, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकोरोना से दिवंगत पंजीकृत व्यापारियों को दी जाए सहायता राशि

कोरोना से दिवंगत पंजीकृत व्यापारियों को दी जाए सहायता राशि

- Advertisement -
  • व्यापारियों को दी जाए कर में छूट

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: पश्चिमी उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल का एक प्रतिनिधि मंडल एडीशनल कमिश्नर ग्रेड-1, वाणिज्य कर से मिला। अधिकारियों को दिए ज्ञापन में व्यापारियों ने कहा कि संपूर्ण उत्तर प्रदेश 24 मार्च 2020 से कोरोना महामारी की चपेट में आया हुआ है।

पिछले साल काफी लंबे समय तक लॉकडाउन रहा और उसके बाद लगभग सभी व्यापार लॉकडाउन खुलने के उपरांत भी नहीं चल पाए। सरकार की पाबंदियों के कारण प्रदेश में व्यवसाइयों पर सबसे ज्यादा आय पर फर्क पड़ा । सभी व्यवसाय पिछले वर्ष से अब तक नहीं उभर पाए हैं।



अधिकांश सभी व्यवसाइयों के यहां कार्य कर रहे लोगों की तनख्वाह देने के लिए भी उपयुक्त व्यवस्था नहीं हैं। इस वर्ष कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने व्यापारियों को बिल्कुल चौपट कर दिया है। प्रदेश के सभी पंजीकृत व्यापारी वर्षों से निरंतर विभाग से बिना कमीशन अथवा चार्ज लिए तय की गई कर की दरों पर जनता से कर वसूली एकत्रित करके सरकारी कोष में जमा कर सरकार को मजबूत करता आ रहा है।

पिछले 1 साल से सुस्त पड़े व्यापार को पुनः गति देने हेतु तथा अपने पैरों पर मजबूती से खड़े करने के लिए विभाग को भी व्यापारियों की सहायता करनी होगी।



व्यापारियों ने अपनी मांगों में कहा कि GST लागू होने की दिनांक 01.07.2017 से 31.03.2021 तक व्यापारी द्वारा विभाग में जमा किये गए कर में से कम से कम 20% धनराशी सभी पंजीकृत व्यापारियों को सहायता राशि के रूप में वापस की जाए।

सभी व्यापारियों के केस के एसेसमेंट में किसी भी प्रकार का दंड अथवा पेनल्टी विभाग द्वारा न लगाई जाए, अकाउंटेंट एवं वकील का अत्यधिक भार व्यापारी पर आ गया है जिसको कोरोना महामारी के चलते वहन करना मुश्किल हो गया है।

विभाग द्वारा एक समूह सरकार द्वारा अकाउंटेंट एवं वकीलों का बनाया जाए जो उन व्यापारियों का कार्य निशुल्क करे। पंजीकृत व्यापारी की कोरोना महामारी के दौरान मृत्यु होने पर उनके स्वजनों को वाणिज्य कर विभाग द्वारा त्वरित दस लाख रुपए की सहायता धनराशि दिए जाने की अपेक्षा की गई है।

सचल दस्ते के द्वारा सड़को पर चलाए जा रहे चेकिंग अभियान को त्वरित आदेश कर हटाया जाए ताकि व्यापारियों का उनके द्वारा उत्तपीड़न न हो।



इस मौके पर प्रदेश उपाध्यक्ष सुबोध गुप्ता, महामंत्री विपुल सिंघल, प्रदेश संयुक्त महामंत्री सोनम वर्मा, महानगर अध्यक्ष सुनील गुप्ता, अपार मेहरा, नवीन अग्रवाल, रेखा गुप्ता, अंकित गुप्ता, बबीता गुप्ता, हेमा गौड़, रितिका गुप्ता, गौरव गुप्ता, जगपाल सिंह बौद्ध, विनीत बिश्नोई ,वीरपाल सिंह , मनोज गुप्ता, विकास गोयल आदि मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments