Wednesday, February 21, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutरोजगार मेला: आयोजन तक सिमटा सेवायोजन विभाग

रोजगार मेला: आयोजन तक सिमटा सेवायोजन विभाग

- Advertisement -
  • डेढ़ दशक से महकमे के हिस्से में नहीं कोई भी सरकारी नौकरी दिलाने का रिकॉर्ड

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: बेरोजगारों का पंजीकरण करके उन्हें सरकारी नौकरी दिलाने के लिए बना सेवायोजन विभाग बदलती परिस्थितियों में अपनी सार्थकता सिद्ध करने में नाकाम साबित हो रहा है। स्थिति यह है कि क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय करीब डेढ़ दशक से किसी भी बेरोजगार को सरकारी नौकरी नहीं दिला सका है। इसके स्थान पर विभाग निजी कंपनियों के लिए मेलों का आयोजन करने तक सीमित होकर रह गया है।

कचहरी परिसर स्थित क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में एक समय ऐसा भी गुजारा है, जब पंजीकरण कराने के लिए बेरोजगारों की लाइन लगा करती थी। मेरठ मंडल के लिए बनाए गए इस कार्यालय में मेरठ और आसपास के जिलों से बेरोजगार अपना रजिस्ट्रेशन करने के लिए कई कई घंटे तक लाइन में लगे रहते थे। उस समय यहां पंजीकरण कराने के बाद बेरोजगारों को लगता था कि उन्हें सरकारी नौकरी मिल जाएगी।  ऐसा होता भी था, क्योंकि किसी भी सरकारी विभाग में नौकरी पाने के लिए सेवायोजन कार्यालय में पंजीकरण कराना अनिवार्य हुआ करता था।

हालांकि कोई भी सरकारी नौकरी पाने के लिए सेवायोजन कार्यालय में पंजीकरण कराना आज भी अनिवार्य है, लेकिन इस बीच कई नियम इस बीच बदले जा चुके हैं। वर्ष 2009 में प्रदेश सरकार के स्तर से सरकारी नौकरी के संबंध में विभागों के बजाय आयोग से चयन प्रक्रिया लागू की गई है। इसके बाद से क्षेत्रीय कार्यालय की सरकारी नौकरियों दिलाने में पंजीकरण के अलावा कोई भूमिका नहीं रह गई है। क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय को मुख्य रूप से रोजगार मेलों का आयोजन कराने की जिम्मेदारी मिली हुई है।

02 33

जिसके लिए विभाग को सालाना लक्ष्य भी दिया जाता है। विभाग के अधिकारी निजी कंपनियों से समन्वय स्थापित करके मेलों का आयोजन करते हैं। जिसमें 10-15 हजार रुपये महीना तक की नौकरियां योग्यता के आधार पर बेरोजगारों को दिलाने का प्रयास किया जाता है। हालांकि इन नौकरियों पर उसे समय भले ही बेरोजगार ज्वॉइनिंग कर लेते हो, लेकिन इनमें से अधिकांश कुछ दिन बाद ही अपने घरों को लौट आते हैं। काम छोड़कर लौटने वाले 70 से 80 तक होते हैं।

ऐसे लगाए जाते हैं रोजगार मेले

विभाग के साथ-साथ सेवायोजन पोर्टल अपने आप में एक मध्यस्थ की भूमिका निभाता है। जिस पर एक और बेरोजगार अपना पंजीकरण कराते हैं, वहीं विभिन्न कंपनियां भी पंजीकरण करा कर अपनी वैकेंसी के बारे में जानकारी अपलोड कर देती है। इसी के आधार पर सेवायोजन कार्यालय के अधिकारी उनके बीच सूचनाओं का आदान-प्रदान करते हुए महीने में दो-तीन रोजगार मेलों का आयोजन करते हैं।

जबकि वर्ष में एक बार बड़े स्तर पर भव्य मेले का आयोजन कराया जाना उनके लक्ष्य में शामिल होता है। क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार वित्तीय वर्ष 2022-23 में 41 मेलों का आयोजन किया गया। जिसमें 327 कंपनियों ने लगभग 15 हजार अभ्यार्थियों का इंटरव्यू लेकर 4854 का चयन किया। चालू वित्तीय वर्ष 2023-24 में अभी तक 21 मेलों का आयोजन किया जा चुका है। जिसमें 91 कंपनियों ने करीब 2500 अभ्यर्थियों का साक्षात्कार लेते हुए 1109 बेरोजगारों को रोजगार दिया है।

सजीव पंजिका में 26082 बेरोजगार

इस समय क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में 19340 पुरुष और 6742 महिलाओं को मिलाकर कुल 26082 नाम बेरोजगारों के रूप में संजीव पंजिका में दर्ज है। संजीव पंजिका में वह नाम शामिल होते हैं, जिनका पंजीकरण से लेकर कई वर्षों तक कोई रोजगार नहीं मिला है। इसमें एक शर्त यह है कि हर तीन वर्ष के बाद नाम का नवीनीकरण कराना होता है। अगर नवीनीकरण न कराया जाए, तो सूची से नाम को हटा दिया जाता है। जनवरी 2022 से दिसंबर 2022 के बीच क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में 5938 में अपने नाम पंजीकृत कराए हैं। जबकि जनवरी 2023 से जुलाई 2023 तक 6651 बेरोजगारों ने पंजीकरण कराया है।

कॅरियर काउंसलिंग और सेवा मित्र भी विभाग के जिम्मे

सेवायोजन विभाग की ओर से करियर काउंसलिंग का कार्य भी किया जाता है। जिसमें क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में जहां बेरोजगारों की उनके करियर से संबंधित काउंसलिंग की जाती है, वहीं 12वीं पास कर चुके छात्र-छात्राओं को कॉलेज में जाकर काउंसलरों के माध्यम से करियर काउंसलिंग का अभियान सेवायोजन विभाग की ओर से चलाया जाता है। इतना ही नहीं, सेवा मित्र पोर्टल के माध्यम से प्लंबर, कारपेंटर, पेंटर, इलेक्ट्रीशियन, ड्राइवर समेत विभिन्न सेवाओं के लिए 155330 नंबर पर कॉल करके नागरिक यह सेवा प्राप्त कर सकते हैं इस पोर्टल पर सेवा प्रदाता भी अपने कौशल के आधार पर पंजीकरण कर लेते हैं।

वर्तमान में रोजगार मेलों का आयोजन और कॅरियर काउंसलिंग सेवायोजन विभाग का मुख्य कार्य है। सेवायोजन विभाग से संबंधित सभी योजनाएं आॅनलाइन कर दी गई हैं। सेवायोजन विभाग के पोर्टल पर बेरोजगार अपना पंजीकरण कर लेते हैं। रोजगार मेलों के माध्यम से प्रशिक्षित अपारशिक्षित युवाओं को 10-15 हजार रुपये के आरंभिक वेतन पर जॉब मिल जाता है। जबकि आईटीआई या बैंकिंग और मैनेजमेंट से संबंधित योग्यता के आधार पर वेतन 20-30 हजार के बीच मिल जाता है।

01 28

रोजगार मेलों के माध्यम से जॉब पर जाने वाले युवाओं की नौकरी के बारे में जो सर्वे कराया गया है, काम पर ठहरने वालों का प्रतिशत 30-35 प्रतिशत तक है। इसके पीछे मुख्य कारण यह है की सर्वप्रथम युवा सरकारी नौकरी के लिए तैयारी और अपेक्षा करते हैं। युवा अपनी सुविधा के अनुसार नौकरी करना चाहते हैं। -शशि भूषण, सहायक निदेशक, क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय, मेरठ

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments