Saturday, June 15, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsBaghpatहाथरस गैंगरेप की घटना पर सपाईयों ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका

हाथरस गैंगरेप की घटना पर सपाईयों ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका

- Advertisement -
  • तहसील परिसर में मुख्यमंत्री का पुतला फूंकने पर पुलिस ने कई सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया
  • पीड़िता के परिजनों को एक करोड़ का मुआवजा व दोषियों को फांसी देने की मांग की

जनवाणी संवाददाता |

बड़ौत: हाथरस गैंगरेप की घटना के विरोध में सपा कार्यकर्ताओं व एनएसयूआई के सदस्यों ने तहसील में नारेबाजी करते हुए धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान सपाईयों ने तहसील परिसर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंका।

सपाईयों का कहना था कि यदि पीड़िता को न्याय नहीं मिला तो वह उग्र आंदोलन करने से पीछे नहीं हटेंगे। राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपकर पीडिता के परिजनों को एक करोड़ रूपये का मुआवजा व दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर कई सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है।

हाथरस गैंगरेप की घटना से चौतरफा आक्रोश फैल गया है। एनएसयूआई सदस्यों व सपा कार्यकर्ताओं का कहना था कि योगी राज में महिलाओं व लड़कियों के साथ आए दिन छेड़खानी व दुष्कर्म की घटनाएं हो रही है।

वह स्वयं से असुरक्षित महसूस कर रही है। जिनका घर से निकलना दूभर हो गया है। जो हालात चल रहे है, ऐसे में महिलाओं व लड़कियों का घर से निकलना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाएगा और एक तरह से घरों में कैद होकर रह जाएगी। हाथरस गैंगरेप की घटना के विरोध में एनएसयूआई सदस्यों व सपा कार्यकर्ताओं ने तहसील में नारेबाजी करते हुए धरना-प्रदर्शन किया।

राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपकर पीड़िता के परिवार को एक करोड़ रूपये का मुआवजा व दोषियों को फांसी देने की मांग की।

इस दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने अनुज पंवार के नेतृत्व में तहसील परिसर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला आग के हवाले कर दिया। पुतला फूंकने की सूचना पर पुलिसकर्मी तहसील में पहुंचे और अनुज पंवार समेत सपा के कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया।

इससे पूर्व भी कृषि अध्यादेश के विरोध में प्रदर्शन करने व हाइवे जाम करने पर सपा कार्यकर्ता अनुज पंवार समेत 16 कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था।

सपा कार्यकर्ताओं का कहना था कि यदि जल्द ही पीड़िता को न्याय नहीं मिला और महिलाओं व लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं पर अंकुश नहीं लगा तो वह उग्र आंदोलन करने के लिए मजबूर होंगे। किसी भी सूरत में हैवानियत को हावी नहीं होने दिया जाएगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments