Saturday, May 21, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
Homeसंवादजरूरी है जीएम के जहर से बचना

जरूरी है जीएम के जहर से बचना

- Advertisement -

 

 


फसाई के समर्थन और स्वदेशी जागरण मंच के विरोध के कारण आजकल जेनेटिकली मोडीफाईड (जीएम) या जेनेटिक इंजीनियरिंग (जीई) फसलों पर फिर विवाद खड़ा हुआ है। जीएम खाद्यों के बारे में भारत सरकार महत्वपूर्ण निर्णय लेने के दौर में है। दूसरी तरफ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच ने भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (फूड सेफ्टी एंड स्टैण्डडर्स अथोरिटी आॅफ इंडिया, एफएसएसएआई) को इस विषय में सावधान किया है कि हमारे देश के स्वास्थ्य की क्षति करने वाला कोई निर्णय न लिया जाए।
जीएम या जीई फसलों में किसी भी पौधे या जंतु के जीन या आनुवांशिक गुण का प्रवेश किसी अन्य पौधे या जीव में करवाया जाता है। जैसे-आलू के जीन का प्रवेश टमाटर में करवाना, सुअर के जीन का प्रवेश टमाटर में करवाना, मछली के जीन का प्रवेश सोयाबीन में करवाना, मनुष्य के जीन का प्रवेश सुअर में करवाना आदि। यह कार्य जीन बंदूक से पौधे की कोशिका पर बाहरी जीन दागकर किया जाता है। सवाल है कि जीएम फसलें, जीएम खाद्य व जीएम उत्पाद (जीएमओ) हमारे देश और विश्व में इतने विवादग्रस्त क्यों बने हुए हैं?

जीएम फसलों के विरोध का एक मुख्य आधार रहा है कि ये फसलें स्वास्थ्य व पर्यावरण की दृष्टि से सुरक्षित नहीं हैं तथा उनका असर जेनेटिक प्रदूषण के माध्यम से अन्य सामान्य फसलों व पौधों में फैल सकता है। इस विचार को इंडिपेंडेंट साइंस पैनल (स्वतंत्र विज्ञान मंच) ने बहुत सारगर्भित ढंग से व्यक्त किया है। इस पैनल में एकत्र हुए विश्व के अनेक देशों के प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों व विशेषज्ञों ने जीएम फसलों पर एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज तैयार किया है।

अपने निष्कर्षों में इंडिपेंडेंट साइंस पैनल में मौजूद 11 देशों के वैज्ञानिकों ने जीई फसलों के स्वास्थ्य के लिए अनेक संभावित दुष्परिणामों की ओर ध्यान दिलाया है। इन वैज्ञानिकों ने कहा है-‘जीएम फसलों के बारे में जिन लाभों का वायदा किया गया था वे प्राप्त नहीं हुए हैं। उलटे ये फसलें खेतों में समस्याएं पैदा कर रही हैं। अब इस बारे में व्यापक सहमति है कि इन फसलों का प्रसार होने पर ट्रान्सजेनिक प्रदूषण से बचा नहीं जा सकता है। अत: जीएम फसलों व गैर-जीएम फसलों का सह-अस्तित्व नहीं हो सकता।’

सबसे महत्वपूर्ण यह है कि जीएम फसलों की सुरक्षा या सेफ्टी प्रमाणित नहीं हो सकी है। इसके विपरीत पर्याप्त प्रमाण प्राप्त हो चुके हैं जिनसे इन फसलों की सेफ्टी या सुरक्षा संबंधी गंभीर चिंताएं उत्पन्न होती हैं। यदि इनकी उपेक्षा की गई तो स्वास्थ्य व पर्यावरण की क्षति होगी, जिसे फिर ठीक नहीं किया जा सकता। जीएम फसलों को अब दृढ़ता से खारिज कर देना चाहिए। यूनियन आॅफ कन्सर्नड साइंटिस्टस नामक वैज्ञानिकों के संगठन ने कुछ समय पहले अमेरिका में कहा था कि जीई उत्पादों पर फिलहाल रोक लगनी चाहिए क्योंकि ये असुरक्षित हैं।

वैज्ञानिकों के अथक प्रयासों से जीएम फसलों के गंभीर खतरों को बताने वाले दर्जनों अध्ययन उपलब्ध हैं। जैफरी एम. स्मिथ की पुस्तक जेनेटिक रुलेट् : द गेम्बल आॅफ अवर लाइफ के 300 से अधिक पृष्ठों में ऐसे दर्जनों अध्ययनों का सार-संक्षेप उपलब्ध है। इनमें चूहों पर हुए अनुसंधानों में पेट, लिवर, आंतों जैसे विभिन्न महत्वपूर्ण अंगों के बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने की चर्चा है। जीएम फसल या उत्पाद खाने वाले पशु-पक्षियों के मरने या बीमार होने की चर्चा है व जेनेटिक उत्पादों से मनुष्यों में भी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का वर्णन है।

कुछ वर्ष पहले भारत में बीटी बैंगन के संदर्भ में विवाद ने जोर पकड़ा तो विश्व के 17 विख्यात वैज्ञानिकों ने भारत के प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इस बारे में नवीनतम जानकारी उपलब्ध करवाई थी। पत्र में कहा गया था कि जीएम प्रक्रिया से गुजरने वाले पौधे का जैव-रसायन बुरी तरह अस्त-व्यस्त हो जाता है जिससे उसमें नए विषैले या एलर्जी उत्पन्न करने वाले तत्वों का प्रवेश हो सकता है व उसके पोषण गुण कम या बदल सकते हैं। जीव-जंतुओं को जीएम खाद्य खिलाने पर आधारित अनेक अध्ययनों से जीएम खाद्य के गुर्दे (किडनी), यकृत (लिवर) पेट व निकट के अंगों (गट), रक्त कोशिका, रक्त जैव रसायन व प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी सिस्टम) पर नकारात्मक असर सामने आ चुके हैं।

बीटी कपास या उसके अवशेष खाने के बाद या ऐसे खेत में चरने के बाद अनेक भेड़-बकरियों के मरने व अनेक पशुओं के बीमार होने के समाचार मिले हैं। डा. सागरी रामदास ने इस मामले पर विस्तृत अनुसंधान किया है। उन्होंने बताया है कि ऐसे मामले विशेषकर आंध्रप्रदेश, हरियाणा, कर्नाटक व महाराष्ट्र में सामने आए हैं। भेड़-बकरी चराने वालों ने स्पष्ट बताया है कि सामान्य कपास के खेतों में चरने पर ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं पहले नहीं देखी गई थीं व जीएम फसल के आने के बाद ही यह समस्याएं देखी गर्इं। हरियाणा में दुधारू पशुओं को बीटी काटन बीज व खली खिलाने के बाद उनमें दूध कम होने व प्रजनन की गंभीर समस्याएं सामने आर्इं।
स्वदेशी जागरण मंच के समन्वयक डा. अश्वनी महाजन ने इस संदर्भ में सोशल मीडिया पर डाली याचिका जीएम फुड़ को हमारे खाने की थाली में शामिल करने वाले एफएसएसएआई के प्रस्तावित नियमों को रोका जाए पर अनेक संस्थाओं, वैज्ञानिकों, प्रतिष्ठित व्यक्तियों और जनसाधारण ने हस्ताक्षर कर विरोध दर्ज किया है। इस याचिका के अनुसार स्वास्थ्य और पर्यावरण पर खतरनाक प्रभावों के कारण पूरी दुनिया आनुवांशिक रूप से संशोधित (जीएम) भोजन के खिलाफ खड़ी है। यहां तक कि उन देशों में जहां जीएम खाद्य के व्यवसायिक उत्पादन की अनुमति है, लोग जीएम से दूर हो रहे हैं।

याचिका में याद दिलाया गया है कि अनेक संगठनों के विरोध के फलस्वरूप बीटी बैंगन और आनुवांशिक रूप से संशोधित सरसों को हमारी खाद्य श्रंखला में प्रवेश करने से रोक दिया गया, क्योंकि जीएम खाद्य फसलों के व्यवसायिक उत्पादन के लिए न केवल कोई अनुमति नहीं दी गई है, बल्कि उस पर स्थगन भी लगाया गया है। लेकिन अब नागरिकों को एक नए खतरे का सामना करना पड़ रहा है, जो स्वयं एफएसएसएआई की तरफ से है। उल्लेखनीय है कि एफएसएसएआई को खाद्य पदार्थों के लिए विज्ञान आधारित मानक निर्धारित करने और मानव उपभोग के लिए सुरक्षित और पौष्टिक भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए उनके निर्माण, भंडारण, वितरण, बिक्री और आयात को विनियमित करने के लिए बनाया गया था।

याचिका के अनुसार यदि एफएसएसएआई विनियमन लागू होता है, तो हम उस स्थिति का सामना करेंगे जहां जीएम खाद्य पदार्थों की अधिकता हमारे उपभोग का हिस्सा बन जाएगी। हम अपने प्रियजनों को क्या खिलाते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए जरूरी है कि हमारा भोजन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक जीएमओ से मुक्त रहे।


What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments