Friday, June 14, 2024
- Advertisement -
HomeUttarakhand NewsRoorkeeकम लागत में अधिक उपज के लिये वैज्ञानिक तरीकों से गन्ने की...

कम लागत में अधिक उपज के लिये वैज्ञानिक तरीकों से गन्ने की खेती करना आवश्यक

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

रुड़की: गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग उत्तराखंड द्वारा जारी गन्ना सर्वेक्षण नीति 2023 के अंतर्गत गन्ना विकास विभाग लिब्बरहेडी हरिद्वार में दो सदस्य जांच दल द्वारा गन्ना सर्वेक्षण कार्यों का औचक स्थलीय निरीक्षण किया गया।

जिसमें गन्ना विकास परिषद के गन्ना पर्यवेक्षक ओ एवं चीनी मिल के गन्ना पर्यवेक्षक द्वारा किए जा रहे गन्ना सर्वेक्षण कार्यों की जांच की गई। सीडीआई हरिद्वार बीके चौधरी द्वारा बताया गया कि इस बार हाईटेक तकनीकी द्वारा गन्ना सर्वेक्षण का कार्य किया जा रहा है।

सभी गन्ना पर्यवेक्षकों को गन्ना सर्वेक्षण में तेजी लाने के निर्देश दिए गए। गन्ना सर्वेक्षण कार्यों की समय-समय पर समीक्षा की जा रही है। निर्धारित समय अवधि के अंतर्गत गन्ना सर्वेक्षण कार्य पूर्ण कराना हमारी प्राथमिकता है। किसानों को पेराई सत्र में होने वाली समस्याओं से बचने के लिए गन्ना पर्यवेक्षकों का सहयोग कर अपने खेतों में साथ रहकर अपने सम्मुख सर्वे कर आना चाहिए।

गन्ना सर्वेक्षण का कार्य सर्वाधिक महत्वपूर्ण है इसी के आधार पर पेराई सत्र में चीनी मिलों को गन्ने का आवंटन होता है। किसानों को सर्वेक्षण के समय विभागीय योजनाओं एवं गन्ने में लगने वाली रोग कीट के समाधान की जानकारी भी दी जा रही है।

इस अवसर पर ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक गौतम नेगी द्वारा बताया है कि विभाग अपना कार्य पूर्ण पारदर्शिता के साथ कर रहा है आने वाले पिता इसमें किसानों को कोई समस्या नहीं होने दी जाएगी। जांच दल द्वारा ग्राम भरतपुर, नगला चीना, बूढ़पुर जट, नारसन खुर्द में जाकर स्थलीय निरीक्षण किया गया।

जांच के समय गन्ना पर्यवेक्षक विजय कुमार शर्मा, परमिंदर कुमार, सुबोध कुमार, दीपक कुमार, देवेंद्र सिंह तथा कृषक शोभित चौधरी, मानवेंद्र चौधरी, आकाश कुमार, अविनाश सिंह, प्रमोद सिंह, देवेंद्र पाल, स्वराज सिंह, अवनीश लोहान आदि उपस्थित रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments