Wednesday, January 26, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeINDIA NEWSभाजपा सरकार में दलितों, पिछड़ों के लिए सबसे ज्‍यादा काम: विनोद सोनकर

भाजपा सरकार में दलितों, पिछड़ों के लिए सबसे ज्‍यादा काम: विनोद सोनकर

- Advertisement -
  • सपा सरकार में पिछड़ों की आबादी के बीच जबरन बनाये जाते थे संप्रदाय विशेष के धर्म स्‍थल: सोनकर
  • दलितों, पिछड़ों को पीएम मोदी ने दिलाया सम्‍मान से जीने का हक: सोनकर

जनवाणी ब्यूरो |

लखनऊ: दलितों और पिछड़ों के हित में सबसे ज्‍यादा काम भाजपा सरकार में हुआ है। सोशितों,वंचितों को सम्‍मान से जीने का हक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी ने दिलाया। दलितों को आर्थिक रूप से मजबूत किया। ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया। प्रतिनिधित्‍व देकर राजनीति में पिछड़ों की भागीदारी को मजबूत किया। यह बातें गुरुवार को सांसद और भाजपा चुनाव अभियान समिति के सदस्‍य विनोद सोनकर ने कही।

विनोद सोनकर ने कहा कि वर्षों तक देश की सत्‍ता पर काबिज कांग्रेस और सिर्फ एक परिवार का विकास करने वाली समाजवादी पार्टी ने दलितों,पिछड़ों और वंचितों का शोषण किया है। अखिलेश यादव केवल एक जाति के नेता हैं। उनकी नजर में सिर्फ एक जाति का विकास ही पिछड़ों का विकास है। भ्रष्‍टाचार में डूबे अखिलेश और उनके कुनबे को चुनाव में ही पिछड़े और दलितों की याद आती है।

भाजपा के राष्‍ट्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार में रहते हुए अखिलेश ने मुख्‍तार और अतीक जैसे माफियाओं के जरिये पिछड़ों और दलितों की जमीनों पर कब्‍जे करवाए थे। दलित और पिछड़े समाज के लोग भूले नहीं हैं जब अखिलेश सरकार में पिछड़ों की आबादी के बीच जबरन एक संप्रदाय विशेष के धार्मिक स्‍थल बनाये जाते थे।

पार्टी का बड़ा दलित चेहरा माने जाने वाले सोनकर ने कहा कि भाजपा सरकार बनने के बाद पिछड़ों और दलितों को संरक्षण मिला। राशन वितरण से लेकर मुआवजे,पेंशन और किसान सम्‍मान निधि की राशि सीधे उनके खातों में पहुंच रही है। हर गरीब और सोशित को सरकार सहारा दे रही है। कोरोना काल में सरकार ने न सिर्फ मुफ्त इलाज कराया बल्कि उनके खातों में पैसे भेजे और घर तक भोजन पहुंचाया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments