Wednesday, May 29, 2024
- Advertisement -
HomePoliticsमुजफ्फरनगर सीट: 2019 में बुढ़ाना-चरथावल विस से बालियान को मिली थी हार

मुजफ्फरनगर सीट: 2019 में बुढ़ाना-चरथावल विस से बालियान को मिली थी हार

- Advertisement -
  • मुजफ्फरनगर व खतौली विस बनी थी खेवनहार सरधना में रहा था कड़ा मुकाबला

मिर्जा गुलजार बेग |

मुजफ्फरनगर: 2019 के लोकसभा चुनाव में बुढ़ाना विधानसभा व चरथावल विधानसभा पर डा. संजीव बालियान को करारी शिकस्त मिली थी, परन्तु मुजफ्फरनगर विधानसभा व खतौली विधानसभा में डा. संजीव बालियान को अच्छे मत मिले थे और बुढ़ाना व चरथावल में हुई हार की भी पूर्ति कर दी थी, बाकि रही-सही कसर सरधना विधानसभा में पूरी हो गयी थी, जो डा. संजीव बालियान के लिए संजीवनी बन गयी थी और उन्हें जीत का स्वाद दोबारा हासिल हो गया था।
2016 के विधानसभा चुनाव में डा. संजीव बालियान द्वारा अपने आपको पूरी तरह से साबित किया गया था और उन्होंने इस विधानसभा चुनाव में जनपद की सभी छह सीटों पर भाजपा का परचम लहरवा दिया था। इतना ही नहीं उन्होंने पडौसी जनपद की सरधना सीट पर भी भाजपा उम्मीदवार को जीत दिलवाने का श्रेय लिया था।

2016 की इस सफलता के बाद डा. संजीव बालियान के हौंसले बुलन्द थे और जब 2019 के लोकसभा चुनाव हुए, तो उन्हें पार्टी ने दोबारा अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया था। इसी दौरान विपक्षी गठबध्ांन से रालोद प्रमुख चैधरी अजित सिंह ने डा. संजीव बालियान के सामने चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी थी। चैधरी अजित सिंह वेस्ट यूपी की राजनीति में बड़ा नाम थे, ऐसे में उनकी दावेदारी के बाद डा. संजीव बालियान के सामने कड़ी चुनौतियां आ गयी थी, परन्तु उन्होंने इस चुनाव को पूरी दमदारी के साथ लड़ा था। दोनों प्रत्याशियों के बीच कड़ा मुकाबला हुआ था। डा. संजीव बालियान ने जहां हिन्दूत्व व विकास को मुद्दा बनाकर चुनावी मैदान में थे, वहीं चैधरी अजित सिंह किसान, अल्पसंख्यकों व पिछड़ों के मुद्दे लेकर चुनावी मैदान में थे।

2019 के चुनाव को यदि विधानसभा वार देखा जाये, तो इस लोकसभा सीट में पांच विधानसभा सीटे हैं, जिनमें चार मुजफ्फरनगर जनपद की हैं तथा एक मेरठ जनपद की सीट है।

जनपद की चार सीटों की यदि बात की जाये, तो 2019 के चुनाव में इस विधानसभा सीट पर 252497 लोगों ने मतदान किया था, जिनमें से भाजपा उम्मीदवार डा. संजीव बालियान ने यहां 116295 मत हासिल किये थे, जबकि रालोद के अजित सिंह ने 132940 मत हासिल किये थे। अजित सिंह ने इस विधानसभा सीट पर 16645 अधिक मत हासिल किये थे। चरथावल विधानसभा सीट पर 22100 मतदाताओं ने मतदान किया था, जिनमें से भाजपा उम्मीदवार को 100942 मत तथा रालोद उम्मीदवार को 117372 मत हासिल किये थे और अजित सिंह ने इस विधानसभा सीट पर भी 16430 अधिक मत हासिल किये थे।

मुजफ्फरनगर विधानसभा सीट पर अजित सिंह को संजीव बालियान के मुकाबले कम मत मिले थे। इससीट पर 224371 मतदाताओं ने मतदान किया था, जिनमें से भाजपा के डा. संजीव बालियान को 118101 मत मिले थे, जबकि अजित सिंह को 103799 मत मिले थे। यहां पर भाजपा को लोकदल के मुकाबले 14302 अधिक मत मिले थे। इसी तरह खतौली विधानसभा सीट पर भी भाजपा उम्मीदवार का सिलसिला जारी रहा और यहां हुए कुल मतदान 220530 में से भाजपा उम्मीदवार डा. संजीव बालियान को 116667 मत प्राप्त हुए, जबकि उनके प्रतिद्वंदी अजित सिंह को 101239 मत मिले थे। रालोद उम्मीदवार ने जो लीड़ बुढ़ाना व चरथावल में बनाई थी,उसे भाजपा ने मुजफ्फरनगर व खतौली विधानसभा सीट पूरी गयी। बाकी रही-सही कसर सरधना ने पूरी कर दी थी। यदि सरधना सीट से भाजपा उम्मीदवार को कामयाबी नहीं मिलती तो उनका 2019 का चुनाव बुरी तरह फंस गया था। 2019 में इस विधानसभा सीट पर कुल 230263 लोगों ने मतदान किया था, जिनमें से भाजपा के हिस्से में 1175320 वोट हिस्से में आये थे, जबकि उनके प्रतिद्वंदी अजित सिंह को 110403 वोट मिले थे और अजित सिंह इस सीट पर भी 7127 वोटों से हार गये थे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments